• Hindi News
  • International
  • Queen Elizabeth II Funeral, 5 mile Queues, 30 hr Waits, A Million Mourners And London To Be Declared FULL

क्वीन के अंतिम दर्शन को 30 घंटे करना पड़ेगा इंतजार:वेस्टमिंस्टर हॉल के बाहर 5 किमी लंबी कतार लगी, 19 सितंबर को होगा अंतिम संस्कार

लंदन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

क्वीन एलिजाबेथ-II के अंतिम दर्शन के लिए लोगों का लंदन पहुंचना जारी है। 19 सितंबर तक शहर के फुल होने के आसार हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि एलिजाबेथ के फ्यूनरल में देश-दुनिया से 10 लाख से ज्यादा लोग जुटेंगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अंतिम दर्शन के लिए लोगों को 30 घंटे तक इंतजार करना पड़ सकता है।

सोमवार को स्कॉटलैंड में क्वीन की अंतिम यात्रा निकाली गई। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग क्वीन को अंतिम विदाई देने के लिए जमा हुए। वहीं, किंग चार्ल्स के साथ शाही परिवार के सदस्य रानी के ताबूत के पीछे चलते दिखे।

लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल में रखा जाएगा क्वीन का पार्थिव शरीर
क्वीन का पार्थिव शरीर बुधवार शाम 5 बजे लंदन में वेस्टमिंस्टर हॉल में रखा जाएगा। अगले सोमवार यानी 19 सितंबर सुबह 6.30 बजे तक रखा रहेगा। अंतिम संस्कार के दिन रानी के दर्शन के लिए लोगों को तीन मील (5 किमी) लंबी कतार में इंतजार करना पड़ सकता है।

सोमवार को स्कॉटलैंड में क्वीन की अंतिम यात्रा में शाही परिवार भी नजर आया।
सोमवार को स्कॉटलैंड में क्वीन की अंतिम यात्रा में शाही परिवार भी नजर आया।

4 दिन तक आम लोग क्वीन को दे सकेंगे श्रद्धांजलि
क्वीन एलिजाबेथ का पार्थिव शरीर बुधवार को लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल पहुंचेगा। आम लोग यहां चार दिन तक महारानी के अंतिम दर्शन कर श्रद्धांजलि दे सकेंगे। इसके लिए जगह-जगह पोर्टेबल टॉयलेट, बैरियर और अन्य जरूरी चीजों का इंतजाम किया गया है। कुछ प्रशंसकों ने तो अभी से अपनी जगह रिजर्व कर ली है।

क्वीन को श्रद्धांजलि देने आने वाले लोगों के लिए पोर्टेबल टॉयलेट सहित कई जरूरी इंतजाम किए गए हैं।
क्वीन को श्रद्धांजलि देने आने वाले लोगों के लिए पोर्टेबल टॉयलेट सहित कई जरूरी इंतजाम किए गए हैं।

वेस्टमिंस्टर ऐबे हॉल बुधवार शाम 5 बजे से अगले सोमवार सुबह 6:30 बजे तक दिन और रात आम लोगों के लिए खुला रहेगा। कहा जा रहा है कि क्वीन के अंतिम दर्शन के दौरान भारी संख्या में लोगों के मौजूद रहने का अनुमान है। वहीं, खराब मौसम के चलते लोग अंतिम झलक पाने से वंचित भी रह सकते हैं।

सेंट जाइल्स कैथेड्रल के बाहर क्वीन की अंतिम यात्रा में शामिल हुए लोग।
सेंट जाइल्स कैथेड्रल के बाहर क्वीन की अंतिम यात्रा में शामिल हुए लोग।

8 सितंबर को हुआ था निधन
महारानी ने 8 सितंबर की देर रात अंतिम सांस ली थी। क्वीन एलिजाबेथ का अंतिम संस्कार शाही परंपरा के मुताबिक 10वें दिन यानी 19 सितंबर को होगा। फिलहाल उनके अंतिम संस्कार से जुड़ी परंपराएं चल रही हैं। क्वीन एलिजाबेथ का पार्थिव शरीर स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कैसल से लंदन के बकिंघम पैलेस लाया गया।

क्वीन के पार्थिव शरीर को होलीरूडहाउस पैलेस से सेंट जाइल्स कैथेड्रल ले जाते शाही परिवार के साथ कई अन्य लोग।
क्वीन के पार्थिव शरीर को होलीरूडहाउस पैलेस से सेंट जाइल्स कैथेड्रल ले जाते शाही परिवार के साथ कई अन्य लोग।

11 सितंबर की शाम करीब 4 बजे क्वीन का शव स्कॉटलैंड के एडिनबर्ग स्थित होलीरूडहाउस पैलेस पहुंचा। सोमवार यानी 12 सितंबर को एक जुलूस में क्वीन के पार्थिव शरीर को स्कॉटलैंड के सेंट जाइल्स कैथेड्रल ले जाया गया। इस जुलूस में किंग चार्ल्स के साथ शाही परिवार के सदस्य रानी के ताबूत के पीछे चलते दिखे।

अधिकारियों ने बताया कि क्वीन के ताबूत को कड़ी सुरक्षा के बीच होलीरूडहाउस पैलेस पहुंचाया गया। परंपरा के अनुसार जुलूस के दौरान शाही परिवार के सदस्यों ने क्वीन के ताबूत की चौकसी की।

बुधवार शाम 5 बजे तक क्वीन का पार्थिव शरीर सेंट जाइल्स कैथेड्रल में रहेगा, इसके बाद इसे लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल ले जाया जाएगा।
बुधवार शाम 5 बजे तक क्वीन का पार्थिव शरीर सेंट जाइल्स कैथेड्रल में रहेगा, इसके बाद इसे लंदन के वेस्टमिंस्टर हॉल ले जाया जाएगा।

ताबूत पर रखा गया स्कॉटलैंड का क्राउन
इस दौरान किसी को भी तस्वीर खींचने या वीडियो बनाने की अनुमति नहीं थी। सेंट जाइल्स कैथेड्रल में पहुंचने पर स्कॉटलैंड के क्राउन को उनके ताबूत पर रखा गया है। यहां क्वीन का ताबूत बुधवार शाम 5 बजे तक रहेगा।

क्वीन की अंतिम यात्रा में उनके ताबूत को देखने के लिए सड़कों के किनारे बड़ी संख्या में लोग नजर आए। इस दौरान तस्वीरें खींचने और वीडियो बनाने पर प्रतिबंध था। फिर भी लोग तस्वीरें खींचते नजर आए।
क्वीन की अंतिम यात्रा में उनके ताबूत को देखने के लिए सड़कों के किनारे बड़ी संख्या में लोग नजर आए। इस दौरान तस्वीरें खींचने और वीडियो बनाने पर प्रतिबंध था। फिर भी लोग तस्वीरें खींचते नजर आए।

19 सितंबर को होगा अंतिम संस्कार
क्वीन एलिजाबेथ का अंतिम संस्कार 19 सितंबर को होगा। उनकी अंतिम यात्रा चार दिन बाद लंदन के वेस्टमिंस्टर एब्बे में जाकर भव्य राजकीय अंतिम संस्कार पर खत्म होगी। आखिरी बार ब्रिटेन में 1965 में सर विंस्टन चर्चिल का राजकीय अंतिम संस्‍कार किया गया था।

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ II के निधन के बाद लंदन के बकिंघम पैलेस के पास ग्रीन पार्क में लोगों ने फूल चढ़ाकर क्वीन को पुष्पांजलि अर्पित की।
ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ II के निधन के बाद लंदन के बकिंघम पैलेस के पास ग्रीन पार्क में लोगों ने फूल चढ़ाकर क्वीन को पुष्पांजलि अर्पित की।

क्वीन के निधन और अंतिम संस्कार से जुड़ी अन्य खबरें यहां पढ़ें...

क्वीन एलिजाबेथ का सीक्रेट लेटर: सिडनी में क्वीन विक्टोरिया बिल्डिंग में एक तिजोरी में बंद है; और 63 साल नहीं खुलेगा राज

क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय ने ऑस्ट्रेलिया के लिए एक सीक्रेट लेटर लिखा है, जो सिडनी में एक तिजोरी के अंदर बंद है। खास बात यह है कि इसे अगले 63 सालों तक यानी साल 2085 तक नहीं खोला जा सकता है। किसी को भी नहीं, यहां तक ​​कि महारानी के निजी कर्मचारियों को भी इस बात की जानकारी नहीं है कि पत्र में क्या लिखा है। पढ़ें पूरी खबर...

क्वीन कैमिला के साथ लंदन पहुंचे किंग चार्ल्स III:70 साल बाद बदलेगा ब्रिटेन का राष्ट्रगान, 1952 के बाद पहली बार गूंजेगा 'गॉड सेव द किंग'

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद उनके बेटे प्रिंस चार्ल्स नए किंग बन गए हैं। अब उन्हें किंग चार्ल्स-III के नाम से जाना जाएगा। नए किंग के रूप में उन्हें क्या कहा जाएगा, यही नए चार्ल्स-III का पहला फैसला है। परंपरा के मुताबिक वे अपने लिए चार नाम- चार्ल्स, फिलिप, अर्थर, जॉर्ज में से किसी एक नाम को चुन सकते थे। पढ़ें पूरी खबर...

शाही रंग रेड, महारानी ने ज्यादा पहनी ब्लू ड्रेस:कभी ड्रेस रिपीट नहीं की, हमेशा पहने ग्लव्स; ब्राइट कलर हैट्स में अलग दिखीं

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने गुरुवार रात दुनिया को अलविदा कह दिया। 96 साल की महारानी ने 70 साल तक ब्रिटेन की गद्दी संभाली। वह हमेशा एक स्टाइल आइकन रहीं। उन्होंने जो ड्रेसिंग स्टाइल अपनाया, वह ट्रेंड बन गया। उनके हैट से लेकर फुटवेयर तक हर चीज नायाब और खास दिखती। पढ़ें पूरी खबर...