जहां देखिए, वहां क्वीन या राजशाही के प्रतीक:नोट से लेकर पोस्ट बॉक्स, स्टाम्प से लेकर मसालों तक; आखिर क्या-क्या बदलेगा ब्रिटेन

लंदन14 दिन पहले

ब्रिटेन में जहां भी जाइए, क्वीन एलिजाबेथ से जुड़े प्रतीक आपको हर जगह मिल जाएंगे। पांच पाउंड के नोट हों, या कांसे के बने एक पाउंड के सिक्के। पोस्ट बॉक्स हों, या स्टाम्प। यहां तक कि जार और जैकेट्स पर भी आपको क्वीन एलिजाबेथ की तस्वीर या राजशाही के प्रतीक मिल जाएंगे। 8 सितंबर को क्वीन एलिजाबेथ का निधन हुआ। आज उनका राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार होगा। सवाल यह उठ रहा है कि ब्रिटेन क्वीन से जुड़े प्रतीकों को कैसे और कब तक बदल पाएगा? इसका सही जवाब मिलना आसान नहीं है। शायद वक्त के साथ तस्वीर साफ हो।

हर चीज महंगी है
पूर्व मंत्री और ‘एंड वॉट डू यू वॉन्ट? द रॉयल फैमिली डोन्ट वॉन्ट यू टु नो’ के लेखक नोर्मन बेकर कहते हैं- राजशाही की कीमत तो चुकानी ही पड़ती है। दूसरे शब्दों में कहें तो पहले ही हर चीज महंगी होती जा रही है। एक रॉयल से दूसरे रॉयल तक के सफर में भारी खर्च होता है।

रॉयल मेल ग्रुप या कहें रॉयल पोस्टल सर्विस ने अब तक यह नहीं बताया कि किंग चार्ल्स की तस्वीर स्टाम्प्स पर होगी या नहीं। फिलहाल तो क्वीन के स्टाम्प चलते रहेंगे। हो सकता है इन पर बारकोड लगा दिए जाएं, ताकि सिक्योरिटी का मसला पैदा न हो। क्वीन की तस्वीर वाले और बिना बारकोड वाले स्टाम्प अगले साल की शुरूआत तक चलन में रह सकते हैं। लैंसेस्टर यूनिवर्सिटी में लेक्चरर लौरा क्लेंसी कहती है- अचानक हर दिन इस्तेमाल किया जाने वाला स्टाम्प बदल जाएगा। मेरे लिए तो यह स्पेशल फीलिंग है।

करंसी मामले में दिक्कत होगी
क्वीन एलिजाबेथ की तस्वीर पहली बार 1960 में बैंक ऑफ इंग्लैंड के करंसी नोट्स पर आई थी। कैम्ब्रिज जज बिजनेस स्कूल के मूरो एफ गुलियन कहते हैं- अगर किंग चार्ल्स की तस्वीर भी करंसी पर आती है तो खर्च कम होगा। महारानी की तस्वीर वाली करंसी को सर्कुलेशन से बाहर करने में दो से चार साल लग सकते हैं। अब पॉलिमर करंसी पर नई तस्वीर लाई जा सकती है। 2016 में पांच पाउंड के नोट पर यह प्रयोग किया गया था। किंग खुद तक करेंगे कि उनकी कौन सी तस्वीर करंसी पर लगाई जाए।

ये भी देखना होगा कि किंग लेफ्ट फेसिंग फोटो इस्तेमाल करते हैं या राइट फेसिंग। नोट की तुलना में सिक्कों को रिप्लेस करना महंगा पड़ेगा। ये भी अहम है कि क्वीन के चेहरे वाले सिक्के कब तक सर्कुलेशन से बाहर किए जाते हैं।

फूड फ्लेवर और दूसरे ब्रांड्स का क्या होगा
ब्रिटेन में फूड फ्लेवर, सॉस और मसालों के ऐसे सैकड़ों ब्रांड्स हैं, जिन पर क्वीन या राजशाही से जुड़े प्रतीक बॉटल के ऊपरी हिस्से पर मौजूद रहते हैं। हेन्ज और बरबेरी जैसे मशहूर ब्रांड्स इस फेहरिस्त में मौजूद हैं। कई साल से यह सिलसिला चल रहा है। एक अनुमान के मुताबिक, करीब 600 ब्रांड्स ऐसे हैं जिन पर रॉयल फैमिली या क्वीन से जुड़े प्रतीक मौजूद हैं।

तस्वीर और प्रतीकों के इस्तेमाल की मंजूरी रॉयल होल्डर्स एसोसिएशन देता है। हालांकि, इस मामले से जुड़े एक्सपर्ट कहते हैं कि इस बदलाव पर ज्यादा वक्त और पैसा खर्च नहीं होगा।

जूलरी ब्रांड पर भी असर
कुछ जूलरी ब्रांड भी ऐसे हैं जो क्वीन के नाम या राजशाही के प्रतीकों का इस्तेमाल करते रहे हैं। इनमें सिल्क रोड बाजार शामिल है। इसने न सिर्फ क्वीन, बल्कि किंग चार्ल्स और कैमिला पार्कर की तस्वीरों का भी इस्तेमाल किया है। अगस्त ने इस ब्रांड ने क्वीन एलिजाबेथ से जुड़े सिर्फ तीन पीस बेचे। खास बात यह है कि इस महीने, यानी सितंबर में अब तक 60 पीस क्वीन की तस्वीरों या प्रतीकों से जुड़े बेचे। किंग चार्ल्स से जुड़े 8 पीस बेचे गए।

दिवंगत महारानी से जुड़ी ये खबरें भी जरूर पढ़ें...

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ का निधन, स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कासल में 96 साल की क्वीन ने अंतिम सांस ली

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का गुरुवार को निधन हो गया है। वह पिछले कुछ वक्त से बीमार थीं। 96 साल की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय फिलहाल स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कासल में थीं। यहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। वे सबसे लंबे समय तक (70 साल) ब्रिटेन की क्वीन रहीं। पढ़ें पूरी खबर...

क्वीन के अंतिम दर्शन को 30 घंटे इंतजार करना पड़ा, वेस्टमिंस्टर हॉल के बाहर 5 किमी लंबी कतार लगी

क्वीन एलिजाबेथ-II के अंतिम दर्शन के लिए लोगों को 30 घंटे तक इंतजार करना पड़ा। इस दौरान देश-दुनिया से 10 लाख से ज्यादा लोग जुटे। पढ़ें पूरी खबर...

25 की उम्र में संभाला था शासन, 17 PHOTOS में देखें प्रिंसेस से क्वीन तक का सफर

महारानी एलिजाबेथ II ने 6 फरवरी 1952 को पिता किंग जॉर्ज की मौत के बाद ब्रिटेन का शासन संभाला। तब उनकी उम्र सिर्फ 25 साल थी। तब से 70 साल तक उन्होंने शासन किया। उन्होंने 2 दिन पहले ‌‌ब्रिटेन की 15वीं PM लिज ट्रस को शपथ दिलाई थी। वे ब्रिटेन के इतिहास में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाली पहली महिला सम्राट हैं। पढ़ें पूरी खबर...

नोटों और सिक्कों से हटाई जा सकती है एलिजाबेथ की फोटो; राष्ट्रगान में भी बदलाव की संभावना

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन के बाद अब कई शाही प्रतीक बदले जा सकते हैं। फ्लैग, नोट, सिक्के में अभी तक महारानी की अलग-अलग तस्वीर होती थी। अब इसे हटाकर नए किंग बने प्रिंस चार्ल्स की फोटो लगाए जाने की उम्मीद है। पढ़ें पूरी खबर...

15 देशों की सिंबॉलिक महारानी थीं एलिजाबेथ-II, रोज मिलता था सरकारी काम का ब्योरा

एलिजाबेथ सिर्फ ब्रिटेन ही नहीं, 14 अन्य आजाद देशों की भी महारानी थीं। ये सभी देश कभी न कभी ब्रिटिश हुकूमत के अधीन रहे थे। पढ़ें पूरी खबर...

3 बार भारत आईं एलिजाबेथ-II, रिपब्लिक डे पर शाही मेहमान बनीं

एलिजाबेथ-II तीन बार भारत आईं। 1961, 1983 और 1997 में वो भारत की शाही मेहमान बनी थीं। 1961 में भारत के गणतंत्र दिवस की परेड में भी शामिल हुई थीं। उनके साथ प्रिंस फिलिप भी थे। पढ़ें पूरी खबर...

बेटे चार्ल्स के अफेयर, बहू डायना के डिप्रेशन से परेशान थीं एलिजाबेथ; विलियम की पत्नी केट की टॉपलेस फोटो ने शर्मिंदगी दी

70 साल के राज में महारानी एलिजाबेथ की छवि पर कोई दाग नहीं आया, लेकिन इस दौरान शाही परिवार में फूट और मनमुटाव चलता रहा। परिवार में भरोसा टूटता, सवाल उठते तो एलिजाबेथ संभालने की कोशिश करने लगतीं। हर बार कामयाब भी हुईं। इसके सबसे बड़े किरदार क्वीन के बड़े बेटे प्रिंस चार्ल्स रहे। 40 साल पहले कैमिला पार्कर के साथ उनके अफेयर से परिवार का ताना-बाना बिगड़ना शुरू हुआ। इसके बाद इसमें उनकी पत्नी प्रिंसेस डायना, बेटे हैरी, बहू केट और मेगन के नाम शामिल होते गए। पढ़ें पूरी खबर...