संडे स्पेशल ऑफरिंग:टिकाऊ पेट्रोल कारों की जगह महंगी ई-कारों के लिए लोगों को राजी करना आसान नहीं; पढ़ें न्यूयॉर्क टाइम्स की ऐसी और भी खास खबरें...

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

1. दुनियाभर में सरकारें और ऑटो-मेकर्स ग्रीन हाउस गैसों को काबू करने में इलेक्ट्रिक गाड़ियों को सबसे बड़ा जरिया मान रहे हैं। जबकि सच यह है कि इनका असर दिखने में कई साल लग सकते हैं। दरअसल, नई टेक्नोलॉजी से बन रहीं मौजूदा पेट्रोल-डीजल गाड़ियां पहले से ज्यादा टिकाऊ और मजबूत हैं। इनमें टूट-फूट भी कम होती है। ऐसे में लोगों को इनकी जगह महंगी इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने के लिए तैयार करना आसान नहीं होगा।

मुद्दे को गहराई से समझने के लिए पढ़ें पूरा लेख...

2. अमेरिका एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन की करोड़ों डोज दबाए बैठा है। क्लीनिकल टेस्ट के नतीजे न आने की वजह से अमेरिका न खुद इन टीकों का इस्तेमाल कर रहा है और न उन जरूरतमंद देशों को दे रहा है, जो इस वैक्सीन मान्यता दे चुके हैं। बाइडेन प्रशासन के एक सीनियर अधिकारी के अनुसार, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन व्हाइट हाउस और फेडरल हेल्थ ऑफिशियल के लिए बहस का अहम मुद्दा बन चुका है। कुछ लोगों का कहना है प्रशासन को तैयार वैक्सीन के डोज उन देशों में भेज देने चाहिए, जहां लोग बेसब्री से इसका इंतजार कर रहे हैं। जबकि कुछ इसके लिए तैयार नहीं हैं। आखिर अमेरिका दूसरे देशों को यह वैक्सीन क्यों नहीं दे रहा है।

वैक्सीन पर अमेरिकी नीति को जानने के लिए पढ़ें पूरा लेख...

3. कोरोना लॉकडाउन का ऐसा साइड इफेक्ट सामने आया है जो बच्चों के लिए बेहद खतरनाक है। अमेरिका में लॉकडाउन के चलते बच्चों में सीसा से होने वाली विषाक्तता यानी लेड पॉइजनिंग का जोखिम बहुत बढ़ गया है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का अनुमान है कि कोरोना के दौरान खून की जांच न होने के चलते करीब एक लाख बच्चों के खून में सीसा खतरनाक स्तर तक बढ़ गया है। क्यों बढ़ रही है बच्चों में लेड पॉइजनिंग।
लॉकडाउन के इस पहलू को जानने के लिए पढ़ें पूरा लेख...

4. मैक्सिको के निचले सदन के सांसदों ने गांजे को नशे के इस्तेमाल के लिए लीगल करने वाला बिल मंजूर कर दिया है। जिसके बाद मैक्सिको दुनिया में गांजे का सबसे बड़ा लीगल मार्केट बन सकता है। प्रेसिडेंट एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्राडोर की मंजूरी से पहले बिल को बड़े पैमाने पर सीनेट का भी समर्थन मिलने की उम्मीद है। हालांकि प्रेसिडेंट इसे लीगल करने के संकेत पहले ही दे चुके हैं।
इस बिल की खास बातें जानने के लिए पढ़ें पूरा लेख...