पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • Record Boom In House Construction In America For The First Time Since 2006, Last Year There Was A Shortage Of 38 Lakh Houses

वर्क फ्रॉम होम से छोटे शहरों में रुचि बढ़ी:अमेरिका में 2006 के बाद पहली बार मकान निर्माण में रिकॉर्ड तेजी, पिछले साल 38 लाख मकानों की कमी

23 दिन पहलेलेखक: कोनोर डगहर्टी, बेन केसलमेन
  • कॉपी लिंक
बड़े शहरों के मुकाबले छोटे शहरों में मकानों का निर्माण बढ़ा है। - Dainik Bhaskar
बड़े शहरों के मुकाबले छोटे शहरों में मकानों का निर्माण बढ़ा है।

वायरस महामारी के बीच लंबी सुस्ती के बाद अमेरिका में मकान खरीदने में लोगों की दिलचस्पी बढ़ी है। खरीदार ब्याज दरों में गिरावट से फायदा उठाना चाहते हैं। वे बड़े शहरों से थोड़ी दूर बसने के लिए तैयार हैं। इस वजह से अब नए मकानों का निर्माण 2006 के बाद सबसे अधिक हो रहा है। बड़े शहरों के मुकाबले छोटे शहरों में मकानों का निर्माण बढ़ा है। मकानों के मूल्य पिछले साल के मुकाबले 11.3% बढ़ गए हैं। कच्चे माल और मजूदरी की लागत बढ़ने से कीमतों में बढ़ोतरी जारी है।

अब एक साल के लॉकडाउन और घर से काम करने की सुविधा के कारण ऑफिस के पास रहने का आकर्षण कम हो गया है। इससे मकानों के निर्माण की नई श्रंखला शुरू हो गई है। नेशनल होम बिल्डर्स एसोसिएशन के अनुसार पिछले साल छोटे शहरों और उपनगरीय इलाकों में नए मकानों का निर्माण 15% बढ़ा है।

बड़े शहरों में यह बढ़ोतरी 10% है। अमेरिकी बिल्डरों ने इस वर्ष 11 लाख सिंगल फेमिली होम का निर्माण शुरू कर दिया है। यह 2006 के बाद सबसे ज्यादा है। वैसे, 2005 में 17 लाख सिंगल फेमिली यूनिट का निर्माण हुआ था। ध्यान रहे, 2006 में मकानों के निर्माण की अच्छी रफ्तार के बीच हाउसिंग बाजार ध्वस्त हो गया था।

महामंदी के बाद बिल्डर अधिक सतर्क हुए हैं। इसलिए अब मांग के अनुरूप मकानों की सप्लाई नहीं हो पा रही है। सरकारी आवास ऋण कंपनी फ्रेडी मेक का अनुमान है, अमेरिका में 2020 के अंत में मांग के हिसाब से 38 लाख मकान कम थे। यह कमी पहली बार मकान खरीदने वाले लोगों के लिए ज्यादा थी।

20% लोग घर से काम करेंगे

महामारी ने आर्थिक संरचना में बदलाव किया है। कैलिफोर्निया और अन्य स्थानों में पिछले साल हजारों लोग शहरों से भाग गए थे। इनमें से कुछ लोग लौटेंगे पर वे लोग वापस नहीं आएंगे जिन्हें घर से काम करने की सुविधा है। एक ताजा स्टडी ने बताया कि महामारी के बाद 20% लोग बाहर से काम करेंगे।