• Hindi News
  • International
  • Russi Ukraine War ; Russia Again Threatens Nuclear Attack, Foreign Minister Said 'will Not Back Down From Using Nuclear Weapons For Defense'

रूस ने फिर दी यूक्रेन पर परमाणु हमले की धमकी:रूसी विदेश मंत्री बोले- हम अपनी रक्षा के लिए परमाणु हथियार दागने से नहीं रुकेंगे

मॉस्को4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
10 अक्टूबर को रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव समेत 9 शहरों पर देर रात 83 मिसाइलें दागीं। इसमें 12 लोग मारे गए और 57 घायल हुए। - Dainik Bhaskar
10 अक्टूबर को रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव समेत 9 शहरों पर देर रात 83 मिसाइलें दागीं। इसमें 12 लोग मारे गए और 57 घायल हुए।

रूस-यूक्रेन जंग के बीच रूस ने फिर यूक्रेन पर परमाणु हमले की धमकी दी है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने मंगलवार को कहा कि हमारा परमाणु हमला करने का कोई इरादा नहीं है, लेकिन अगर हम पर हमला होता है तो हम अपनी हिफाजत के लिए परमाणु हथियारों का उपयोग करने से पीछे नहीं हटेंगे। एक इंटरव्यू में उन्होंने अमेरिका व अन्य पश्चिमी देशों पर परमाणु हमले की झूठी अफवाह फैलाने का आरोप लगाया।

रूस की धमकी- हम अपनी रक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने भी कुछ दिनों पहले पश्चिमी देशों पर ‘न्यूक्लियर ब्लैकमेल’ का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि NATO के कुछ बड़े नेता रूस के खिलाफ एटमी हथियार इस्तेमाल करने की धमकी दे रहे हैं।

तब पुतिन ने कहा था कि अगर पश्चिमी देश हमें परमाणु हथियारों के इस्तेमाल को लेकर ब्लैकमेल करेंगे तो रूस भी अपनी पूरी ताकत से जवाब देगा। हम अपने देश की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। इसके लिए पुतिन ने सेना के मोबिलाइजेशन को लेकर एक डिक्री पर साइन किया है।

रूसी परमाणु हमले के लिए तैयार हैं यूक्रेनी; दो हफ्ते पहले से ही बंकरों में रख रहे खाना और पानी

यूक्रेन के ऑलेक्जेंडर कैडेट के घर के पीछे एक शेड के अंदर अंडरग्राउंड कमरा बना है। जहां पहुंचने के लिए जमीन से साढ़े छह फीट नीचे एक सीढ़ी लगी है। कीव के बाहर रहने वाले 32 साल के ऑलेक्जेंडर ने अपनी पत्नी के साथ एक पुराने कुएं को दो हफ्तों की मेहनत के बाद बंकर में तब्दील कर दिया है।

लेकिन वे यह भी उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें इस कमरे का इस्तेमाल कभी न करना पड़े। हालांकि परमाणु हमले की संभावना को देखते हुए इस बंकर में उन्होंने पानी की बोतलें, पैक्ड फूड, रेडियो और पावर बैंक भी जमा कर रखे हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

8 अक्टूबर को यूक्रेन ने रूस का अहम ब्रिज उड़ाया, फिर पुतिन ने बदला लिया
24 फरवरी को शुरू हुई रूस-यूक्रेन जंग 8 अक्टूबर को तेज हो गई। इस दिन यूक्रेन ने रूस का कर्च ब्रिज उड़ा दिया था। ये ब्रिज रूस को क्रीमिया से जोड़ता है। इसका बदला लेते हुए रूस ने 48 घंटे बाद 10 अक्टूबर को यूक्रेन पर 83 मिसाइलें दाग दी थीं। इस दौरान यूक्रेन का पारकोवी ब्रिज भी तबाह हो गया था। यह नाइपर नदी पर पैदल यात्रियों के लिए बनाया गया था। इसके अलावा रूस ने कर्च ब्रिज उड़ाने के आरोप में यूक्रेन के 8 लोगों को गिरफ्तार किया है।

ये क्रीमिया ब्रिज की तस्वीर है। यूक्रेन के प्रेसिडेंट ऑफिस में एडवाइजर हेड मायखाइलो पोडोल्याकी ने ट्वीट कर कहा - क्रीमिया ब्रिज शुरुआत है। रूस को यूक्रेन से चुराई गई हर चीज वापस करनी होगी।
ये क्रीमिया ब्रिज की तस्वीर है। यूक्रेन के प्रेसिडेंट ऑफिस में एडवाइजर हेड मायखाइलो पोडोल्याकी ने ट्वीट कर कहा - क्रीमिया ब्रिज शुरुआत है। रूस को यूक्रेन से चुराई गई हर चीज वापस करनी होगी।

यूक्रेन के 4 हिस्सों पर कब्जा चाहता है रूस
दरअसल, पुतिन ने रूस की मिलिट्री पावर को बढ़ाने के साथ यूक्रेन के डोनबास पर अपना कब्जा जमाने की तैयारी तेज कर दी है। डोनबास के अलावा रूस यूक्रेन के खेरसॉन और जपोरिजिया को अपना हिस्सा बनाने की कोशिश कर रहा है। पुतिन ने इन इलाकों में जनमत संग्रह कराने का आदेश दिया है।

जंग की शुरुआत से धमकी दे रहा रूस

  • जंग की शुरुआत से ही पश्चिमी देशों ने रूस का विरोध करना शुरू कर दिया था। कई प्रतिबंध भी लगाए। इसे लेकर 10 मार्च को पुतिन ने कहा था- वेस्टर्न कंट्रीज ने हम पर बेवजह प्रतिबंध लगा रखे हैं। इससे रूस को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
  • 28 अप्रैल को पुतिन ने पश्चिमी देशों को एक बार फिर चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा था- अमेरिका और उसके सहयोगी देश यूक्रेन का साथ देकर हमले के लिए उकसा रहे हैं। हमारे सब्र की परीक्षा न लें।
  • 6 जून को पुतिन ने यूक्रेन को रॉकेट सिस्टम भेजने के खिलाफ पश्चिमी देशों को धमकाया था।

यूक्रेन के 4 हिस्सों पर कब्जा चाहता है रूस
दरअसल, पुतिन ने रूस की मिलिट्री पावर को बढ़ाने के साथ यूक्रेन के डोनबास पर अपना कब्जा जमाने की तैयारी तेज कर दी है। डोनबास के अलावा रूस यूक्रेन के खेरसॉन और जपोरिजिया को अपना हिस्सा बनाने की कोशिश कर रहा है। पुतिन ने इन इलाकों में जनमत संग्रह कराने का आदेश दिया है।