टकराव रोकने रूस-यूक्रेन की बैठक:अगले 48 घंटे में मिलेंगे दोनों देशों के लीडर्स, बढ़ते तनाव के बीच नॉर्वे ने रोकी यूक्रेन की उड़ानें

कीव6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूक्रेन ने अपनी सीमा पर बढ़ते तनाव को लेकर रूस और प्रमुख यूरोपीय सुरक्षा समूह के अन्य सदस्यों के साथ अगले 48 घंटों में बैठक बुलाई है। विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा कि यूक्रेन ने रूस से सीमा पर सौनिकों की तैनाती के संबंध में जवाब मांगा था, जिसे रूस ने नजर अंदाज कर दिया। उन्होंने कहा कि रूस की योजनाओं के बारे में जानने के लिए अगले 48 घंटों के भीतर एक बैठक बुलाई गई है।

गहराते संकट के बीच उड़ानें रद्द

बढ़ते तनाव के बीच कई एयरलाइंस कंपनियों ने यूक्रेन जाने वाली उड़ानों को या तो रद्द कर दिया है या उनका मार्ग परिवर्तित कर दिया है। जानकारी के अनुसार, नॉर्वे ने सुरक्षा स्थिति का हवाला देते हुए यूक्रेन से आने-जाने वाली उड़ानों को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। नीदरलैंड्स की विमानन कंपनी KLM ने भी अगली सूचना तक यूक्रेन जाने वाली अपनी सभी उड़ानों को रद्द करने की जानकारी दी है। वहीं, यूक्रेन की विशेष विमानन कंपनी स्काईअप ने रविवार को कहा कि पुर्तगाल के मदेरा से कीव जाने वाली उड़ानें मोल्दोवा की राजधानी चिशिनाउ की ओर डायवर्ट कर दी गई हैं।

वियना दस्तावेज़ का हवाला देते हुए मांगा गया जवाब
विदेश मंत्री कुलेबा ने कहा कि यूक्रेन ने वियना दस्तावेज़ के नियमों के तहत रूस से जवाब मांगा था। यह यूरोप में सुरक्षा और सहयोग संगठन (OSCE) के सदस्यों द्वारा अपनाए गए सुरक्षा मुद्दों के बारे में एक समझौता है। उन्होंने कहा, यदि रूस OSCE क्षेत्र में सुरक्षा को लेकर गंभीर है, तो उसे तनाव कम करने और सुरक्षा बढ़ाने के लिए सैन्य पारदर्शिता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करना चाहिए।

रूस ने यूक्रेन को घेरा

यूक्रेन की सीमाओं पर करीब 100,000 सैनिकों को तैनात करने के बावजूद रूस ने यूक्रेन पर आक्रमण करने की किसी भी योजना से इनकार किया है। हालांकि रूसी सैनिकों ने यूक्रेन की सीमा को घेरकर सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है। रूसी सैनिकों की तरफ से यूक्रेन बॉर्डर घेरने की खबर से यूरोप और पश्चिमी देशों में हलचल तेज हो गई है। अमेरिका का कहना है कि रूस किसी भी समय हमला कर सकता है। आक्रमण हवाई बमबारी से शुरू हो सकता है।

वलोडिमिर जेलेंस्की ने की जो बाइडेन से बात
यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की (Volodymyr Zelenskyy) ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से बात की। इस दौरान बाइडेन ने कहा कि अगर रूस यूक्रेन पर हमला करता है तो वह अपने सहयोगियों के साथ 'निर्णायक जवाब' देने के लिए तैयार है। हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि बाइडेन ने यूक्रेन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया। यूक्रेन की सीमा पर रूसी सैनिकों के दबाव के बीच अमेरिका यूक्रेन की अर्थव्यवस्था की मदद करने के लिए अतिरिक्त व्यापक आर्थिक सहायता की तलाश कर रहा है।

अमेरिका-रूस के बीच नहीं बनी बात
विवाद शांत करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से फोन पर बात की थी, जो बेनतीजा रही। बातचीत के दौरान बाइडेन ने पुतिन से युद्ध टालने की अपील की और चेतावनी भी दी कि अगर युद्ध हुआ तो रूस को करारा जवाब मिलेगा। वहीं, रूस ने अमेरिका को सनकी तक कह डाला। बातचीत के कुछ देर बाद ही अमेरिका ने यूक्रेन स्थित अपने दूतावास को खाली करने का निर्देश भेज दिया। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि दोनों शीर्ष नेताओं के बीच हालात स्थिरता को लेकर बात नहीं बन पाई है।

यूक्रेन-रूस का विवाद क्या है?
ताजा विवाद यूक्रेन के नॉर्थ अटलांटिक ट्रिटी ऑर्गेनाइजेशन (NATO) में शामिल होने की खबर से शुरू हुई। यूक्रेन के NATO में शामिल होने की अटकलों से नाराज रूस ने सीमा पर लाखों सैनिकों की तैनाती कर दी।

कई देशों ने नागरिकों से लौटने की अपील की
इस तनाव को देखते हुए अमेरिका, ब्रिटेन, नॉर्वे, जापान, लातविया और डेनमार्क ने अपने नागरिकों से यूक्रेन से तुरंत लौटने की अपील की है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि अभी हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। हम अपने नागरिकों से अपील करते हैं कि वे यूक्रेन छोड़ जल्द अमेरिका आ जाएं। अमेरिकी विदेश विभाग ने 24-48 घंटे के भीतर सभी नागरिकों को वापस आने की चेतावनी दी है।

खबरें और भी हैं...