रूसी हमले में ब्राजीलियन मॉडल की मौत:यूक्रेन की तरफ से लड़ने खार्किव पहुंची थी थालिटो डो वैले, मिसाइल अटैक में गई जान

कीव3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फरवरी में रूसी हमले के बाद यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमिर जेलेंस्की ने दुनिया भर के लोगों से मदद की अपील की थी। इसके बाद कई वॉलिंटियर्स रूसी फौज का मुकाबला करने यूक्रेन पहुंचे। इनमें ब्राजील की मॉडल और स्नाइपर थालिटो डो वैले भी यूक्रेन पहुंची थीं। हाल ही में थालिटो की रूसी हमले में मौत हो गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 39 साल की ब्राजीलियन मॉडल खार्किव में तैनात थी। इसी दौरान रूसी सेना के मिसाइल अटैक में उनकी मौत हो गई। उन्होंने इससे पहले इराक में इस्लामिक स्टेट खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। रूसी हमले में एक और ब्राजीली फाइटर डगलस बुरिगो की भी मौत हो गई।

थालिटो ने इराक में ISIS के खिलाफ भी लड़ाई लड़ी थी। इसके अलावा वो एनिमल रेस्क्यू मिशन में भी शामिल रहीं।
थालिटो ने इराक में ISIS के खिलाफ भी लड़ाई लड़ी थी। इसके अलावा वो एनिमल रेस्क्यू मिशन में भी शामिल रहीं।

ISIS के खिलाफ लड़ते हुए ली थी स्नाइपर की ट्रेनिंग
थालिटो युद्ध के मोर्चे से लगातार अपनी ट्रेनिंग के वीडियो सोशल मीडिया पोस्ट कर रही थीं। उन्होंने इराक के कुर्दिस्तान इलाके में ISIS के खिलाफ लड़ाई के दौरान स्नाइपर की ट्रेनिंग ली थी। इसके अलावा कई NGO के साथ मिलकर एनिमल रेस्क्यू मिशन में भी शामिल हुई थीं।

थालिटो सिर्फ तीन हफ्ते की सर्विस के लिए यूक्रेन पहुंची थी। कुछ वक्त पहले ही बम विस्फोट में उनकी जान बची थी।
थालिटो सिर्फ तीन हफ्ते की सर्विस के लिए यूक्रेन पहुंची थी। कुछ वक्त पहले ही बम विस्फोट में उनकी जान बची थी।

थालिटो के भाई थियो रोड्रिगो ने अपनी बहन को हीरो बताया। रोड्रिगो ने कहा कि उनकी बहन सिर्फ तीन हफ्ते के लिए यूक्रेन गई थी, जहां वो लोगों की मदद करने के साथ साथ शार्पशूटर के तौर भी सर्विस कर रही थी। कुछ वक्त पहले राजधानी कीव में एक बम विस्फोट में बचने के बाद उन्होंने परिवार से कहा था कि अब ज्यादा बात नहीं कर सकती हैं, क्योंकि रूसी सेना मोबाइल ट्रेस कर रही है।

थालिटो मॉडल होने के साथ साथ स्नाइपर भी थीं। यूक्रेन में युद्ध के मोर्चे से वो अपनी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहीं थीं।
थालिटो मॉडल होने के साथ साथ स्नाइपर भी थीं। यूक्रेन में युद्ध के मोर्चे से वो अपनी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहीं थीं।

रूसी सेना के निशाने पर लिसीचांस्क
वहीं, दूसरी तरफ यूक्रेन के लिसीचांस्क पर कब्जे के बाद रूसी सेना ने स्लोवियांस्क पर हमले तेज कर दिया है। स्लोवियांस्क शहर के मेयर ने कहा है कि रूसी सेना मार्केट को टारगेट बना हमले कर रही है।

रूसी सेना आम लोगों को कर रही है गिरफ्तार
UN के मानवाधिकार चीफ मिशेल बाचेलेट ने कहा कि रूसी सेना ने यूक्रेन में सैकड़ों आम नागरिकों को हिरासत में लिया है। बाचलेट ने ह्यूमन राइट्स काउंसिल को बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों की डेटा इकट्ठा करने से राकने के बावजूद, हमने मनमाने ढंग से हिरासत में लेने के 270 मामले दर्ज किए है। पीड़ितों में से आठ के शव पाए गए।