रूस-यूक्रेन जंग अपडेट्स:विक्ट्री डे पर बोले पुतिन- NATO रूस पर हमला करने की तैयारी कर रहा था; इसलिए किया यूक्रेन पर हमला

कीव/मॉस्को14 दिन पहले

यूक्रेन में चल रही जंग के बीच रूस आज अपना 77वां विजय दिवस मना रहा है। इस दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने कहा कि पश्चिमी देश क्रीमिया सहित रूस पर आक्रमण की तैयारी कर रहे थे। इसलिए यूक्रेन पर हमला करना जरूरी हो गया था।

विक्ट्री डे पर लोगों को संबोधित करते हुए पुतिन ने कहा- नाटो हमारी सीमा पर खतरा पैदा करना चाहता था। रूसी सेना यूक्रेन में अपनी मातृभूमि की रक्षा कर रही है। रूसी सेना ने पश्चिमी देशों की नीतियों के खिलाफ सही समय पर और आवश्‍यक जवाबी कार्रवाई की है।

पुतिन ने रूसी जनता को संबोधित करते हुए उनके अंदर देशभक्ति की भावना भरने की कोशिश की।
पुतिन ने रूसी जनता को संबोधित करते हुए उनके अंदर देशभक्ति की भावना भरने की कोशिश की।
संबोधन के दौरान पुतिन ने यूक्रेन की जंग की तुलना सोवियत संघ के सेकेंड वर्ल्ड वॉर से की।
संबोधन के दौरान पुतिन ने यूक्रेन की जंग की तुलना सोवियत संघ के सेकेंड वर्ल्ड वॉर से की।
यह तस्वीर मध्य मॉस्को में रेड स्क्वायर पर मार्च करते रूसी सैनिकों की है।
यह तस्वीर मध्य मॉस्को में रेड स्क्वायर पर मार्च करते रूसी सैनिकों की है।
विक्ट्री डे परेड के दौरान रूस ने शक्ति प्रदर्शन किया।
विक्ट्री डे परेड के दौरान रूस ने शक्ति प्रदर्शन किया।
रूस हर साल विक्‍ट्री डे परेड आयोजित करता है लेकिन इस साल यूक्रेन की जंग को देखते हुए यह खास मानी जा रही है।
रूस हर साल विक्‍ट्री डे परेड आयोजित करता है लेकिन इस साल यूक्रेन की जंग को देखते हुए यह खास मानी जा रही है।
रूस ने सेकेंड वर्ल्ड वॉर में 9 मई यानी आज ही हिटलर की नाजी सेना को हराया था।
रूस ने सेकेंड वर्ल्ड वॉर में 9 मई यानी आज ही हिटलर की नाजी सेना को हराया था।

दूसरी तरफ, रूस पर दबाव बढ़ाने के लिए अमेरिका, G-7 देशों और यूरोपियन यूनियन ने प्रतिबंधों का दायरा बढ़ा दिया है। रूसी अर्थव्यवस्था को झटका देने के लिए मॉस्को से ऑयल इंपोर्ट बैन करने की बात कही गई। हालांकि, इसके लिए कोई समय सीमा तय नहीं की गई है।

G-7 देशों ने वर्चुअल मीटिंग के जरिए रूस पर बैन का दायरा बढ़ाने का फैसला किया।
G-7 देशों ने वर्चुअल मीटिंग के जरिए रूस पर बैन का दायरा बढ़ाने का फैसला किया।

रूस-यूक्रेन जंग के प्रमुख अपडेट्स...

  • यूक्रेनी सेना का दावा है कि उसने 8 मई को पूर्वी यूक्रेन में 190 रूसी सैनिकों को हरा दिया।
  • लुहान्स्क में रूसी सेना की गोलीबारी की वजह से लोगों को निकालने का सिलसिला थम गया।
  • मारियुपोल स्टील प्लांट से निकाले गए 177 लोग सुरक्षित जपोरिजिया पहुंच गए हैं।

ग्राफिक्स से समझिए रूस यूक्रेन युद्ध का सूरते हाल...

बाइडेन ने जेलेंस्की को दिया मदद का भरोसा
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की को और मदद का भरोसा दिया। अमेरिका ने अब तक 2600 से ज्यादा रूसियों को वीसा देने से इनकार किया। इसके साथ ही रूस के तीन 3 सरकारी चैनलों पर बैन लगाया है। कोई अमेरिकी नागरिक रूसी कंपनियों को किसी भी तरह की सर्विस नहीं दे सकेगा।

रूस के प्रमुख बैंकों और वित्तीय संस्थानों के साथ किसी भी प्रकार के लेन-देन पर रोक रहेगी। रूस से इंपोर्टेड लकड़ी के समान, पंखे, वेंटिलेशन सामान और अन्य कई इलेक्ट्रिक समान को भी बैन लिस्ट में डाला गया है।

रूस-यूक्रेन युद्ध की ये महत्वपूर्ण खबरें भी पढ़ें...

  • रूस ने रविवार तड़के यूक्रेन के लुहांस्क में एक स्कूल पर हवाई हमले किए। यूक्रेन सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया- यह बमबारी बिलोहोरिखिवा गांव के एक स्कूल पर की गई। यहां मौजूद 90 लोगों में से 30 को बचा लिया गया, जबकि 60 के मारे जाने की आशंका है। पूरी खबर यहां पढ़ें
  • कालिनिनग्राद में रूसी नेवी के बाल्टिक सागर बेड़े का हेडक्वॉर्टर है। कालिनिनग्राद NATO के दो सदस्य देशों पौलेंड और लिथुआनिया के बीच में स्थित है, जिसके एक तरफ बाल्टिक सागर है। रूस ने यहां परमाणु हमला करने में सक्षम इस्कंदर मिसाइल से अभ्यास किया है। पूरी खबर यहां पढ़ें

राजधानी कीव में US ऐंबैसी लौटे अमेरिकी डिप्लोमैट्स
राजधानी कीव में रूसी हमले थमने के बाद विदेशी ऐंबैसी और डिप्लोमैट्स के लौटने का सिलसिला शुरू हो गया है। बीते दिन अमेरिकी डिप्लोमैट्स की एक टीम राजधानी कीव में मौजूद US ऐंबैसी लौट आई। यूरोप 8 मई को विक्ट्री डे मनाता है। इसी दिन अमेरिकी डिप्लोमैट्स ने कीव लौटकर रूस को संदेश दिया है।

बीते दिन कुछ अमेरिकी डिप्लोमैट्स कीव में US ऐंबैसी लौट आए।
बीते दिन कुछ अमेरिकी डिप्लोमैट्स कीव में US ऐंबैसी लौट आए।

यूक्रेन के लिए जस्टिन ट्रूडो का बड़ा ऐलान
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने हर साल यूक्रेन को 1.5 अरब डॉलर के एंटी टैंक मिलिट्री इक्विपमेंट भेजने की बात कही है। इसके साथ अगले एक साल के लिए यूक्रेन के लिए सभी इंपोर्ट ड्यूटी हटा ली गई हैं। यूक्रेनी राष्ट्रपति इस मदद के लिए शुक्रिया अदा करते हुए कहा- कनाडा ने अमेरिका के बाद यूक्रेन की सबसे ज्यादा मदद की है।

कनाडा के प्रधानमंत्री अचानक यूक्रेन पहुंचे थे। जिसके बाद उन्होंने जेलेंस्की के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की।
कनाडा के प्रधानमंत्री अचानक यूक्रेन पहुंचे थे। जिसके बाद उन्होंने जेलेंस्की के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की।