• Hindi News
  • International
  • Putin India Visit | Russian President Vladimir Putin India Visit; Modi, Putin To Discuss Ways To Strengthen India Russia Strategic Partnership

पुतिन का भारत दौरा:विदेश मंत्रालय ने कहा- 6 दिसंबर को मोदी से मुलाकात करेंगे रूस के राष्ट्रपति, 2+2 समिट भी होगी

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन 6 दिसंबर को भारत यात्रा पर आ रहे हैं। एक दिन की इस यात्रा के दौरान रूसी राष्ट्रपति का शेड्यूल का बिजी रहेगा। इस दौरान वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे। इसके अलावा 2+2 समिट भी अहम होगी। इसमें भारत और रूस के विदेश और रक्षा मंत्रियों के साथ दोनों देशों के आला अफसर शिरकत करेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने गुरुवार को पुतिन की भारत यात्रा की पुष्टि की।

21वीं समिट की तैयारियां पूरी
भारत और रूस के बीच यह 21वीं समिट होगी। इस दौरान क्षेत्रीय मुद्दों के साथ आपसी और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी विचार होगा। माना जा रहा है कि इस दौरान अफगानिस्तान के मसले पर भी चर्चा होगी। इसके अलावा कोविड-19 पर सहयोग के बारे में भी चर्चा होगी। यह इसलिए भी अहम हो जाता, क्योंकि साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट पाया गया है। गुरुवार को ही भारत में भी इसके दो संक्रमित पाए गए हैं। समिट के लिए तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं।

राजनाथ मिलेंगे सोयग्यू से
बागची के मुताबिक, 6 दिसंबर को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंग रूस के डिफेंस मिनिस्टर सर्गेई सोयग्यू से मुलाकात करेंगे। इस दौरान दोनों के बीच मिलिट्री-टेक्निकल कोऑपरेशन पर बातचीत होगी। इसके बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर रूस के फॉरेन मिनिस्टर सर्गेई लावरोव से बातचीत करेंगे। बागची ने कहा- इस समिट के दौरान दोनों देशों के बीच गहन बातचीत होगी।

2+2 समिट अलग से होगी
पहले दोनों देशों के रक्षा और विदेश मंत्री मिलेंगे। इसके बाद भारत और रूस के बीच औपचारिक तौर पर 2+2 समिट होगी। इसमें भी दोनों देशों के रक्षा और विदेश मंत्री शामिल होंगे। इसके बाद डेलिगेशन लेवल की बातचीत होगी। इस बातचीत में आपसी संबंधों के अलावा क्षेत्रीय मुद्दों और अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रम पर भी विचार किया जाएगा। इस मीटिंग के बाद प्रधानमंत्री मोदी और पुतिन की बातचीत होगी।

साझा बयान भी संभव
बागची के मुताबिक, मोदी और पुतिन की बातचीत के बाद दोनों देश साझा बयान भी जारी कर सकते हैं। इसमें बातचीत से जुड़े अहम मुद्दों की जानकारी दी जा सकती है। दोनों देशों के बीच कुछ अहम समझौतों पर भी दस्तखत किए जा सकते हैं। इनमें डिफेंस, ट्रेड और इन्वेस्टमेंट्स शामिल हैं। रूस के रक्षा और विदेश मंत्री पुतिन से एक दिन पहले भारत पहुंच सकते हैं।

खबरें और भी हैं...