सऊदी सिस्टर्स की मर्डर मिस्ट्री में उलझी ऑस्ट्रेलियाई पुलिस:दो महीने बाद भी कत्ल का कोई सुराग नहीं, अब FBI करेगी मदद

सिडनी4 महीने पहले

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में सऊदी अरब की दो लड़कियों का कत्ल पुलिस के लिए भी रहस्य साबित हो रहा है। करीब दो महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस यह पता लगाने में नाकाम है कि यह कत्ल है या खुदकुशी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई पुलिस अब इस मामले की जांच में अमेरिकी खुफिया एजेंसी FBI की मदद लेने जा रही है।

असरा अब्दुल्ला (23) और उनकी सगी बहन अल्सेहिली अब्दुल्ला (24) के शव जून की शुरुआत में उनके अपार्टमेंट में अलग-अलग बेडरूम्स में मिले थे। दोनों बहनें 2017 में सऊदी अरब से भागकर ऑस्ट्रेलिया आईं थीं।

एक महीने तक घटना का पता ही नहीं लगा

  • ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के मुताबिक, जून के पहले हफ्ते में दोनों बहनों की लाशें सिडनी में उनके अपार्टमेंट में मिली थीं। अब तक की जांच के मुताबिक, शवों की हालत और ऑटोप्सी रिपोर्ट से पता लगता है कि दोनों की मौत मई में हुई होगी।
  • दोनों के शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं थे। पुलिस ने जब घर की बारीकी से जांच की तो उसमें भी ऐसा कुछ नहीं मिला जिससे लगता हो कि कोई बाहरी शख्स वहां आया था।
  • पुलिस ने आसपास के लोगों से भी लंबी और कई बार पूछताछ की। इसमें भी कोई सुराग हाथ नहीं लगा। दोनों लड़कियां 2017 से सिडनी के एक ही अपार्टमेंट में रह रहीं थीं। पड़ोसी भी कोई खास बात नहीं बता सके।
सिडनी की इसी बिल्डिंग के एक फ्लैट में 7 जून को पुलिस पहुंची। यहां सऊदी अरब की दो बहनों के शव अलग-अलग बेडरूम से मिले।
सिडनी की इसी बिल्डिंग के एक फ्लैट में 7 जून को पुलिस पहुंची। यहां सऊदी अरब की दो बहनों के शव अलग-अलग बेडरूम से मिले।

मौत की जानकारी मिलना भी इत्तेफाक
सिडनी पुलिस का कहना है कि लड़कियों के मकान मालिक ने किराए के लिए उन्हें फोन किया। कई बार फोन करने के बाद भी जब कॉल रिसीव नहीं हुई तो उन्होंने पुलिस को फोन किया। पुलिस पहुंची तो दो अलग-अलग कमरों में दोनों बहनों के शव मिले। इन दोनों लड़कियों का कोई परिचित या फैमिली मेंबर भी ऑस्ट्रेलिया में नहीं है। मई के पहले हफ्ते में पुलिस ने उनसे वेलफेयर प्रोग्राम के तहत मुलाकात की थी। तब वो दोनों बिल्कुल ठीक थीं। इसके बाद 7 जून को उनके शव मिले। पोस्टमॉर्टम और ऑटोप्सी 10 जून को की गई। अब अमेरिकी एजेंसी जांच में शामिल हो रही है।

सिडनी के अपार्टमेंट में जांच करती ऑस्ट्रेलिया पुलिस की स्पेशल सेल। अब तक यह साफ नहीं हो सका है कि यह खुदकुशी का मामला है या कत्ल का।
सिडनी के अपार्टमेंट में जांच करती ऑस्ट्रेलिया पुलिस की स्पेशल सेल। अब तक यह साफ नहीं हो सका है कि यह खुदकुशी का मामला है या कत्ल का।

गुत्थी क्यों उलझ रही
आसपास के लोगों का कहना है कि दोनों बहनें बहुत कम बाहर निकलती थीं और पड़ोसियों से भी कम बात करती थीं। स्पेशल सेल की पुलिस अफसर क्लाउडिया एल्क्राफ्ट ने कहा- हम लोगों से अपील करते हैं कि अगर उनके पास इस केस से जुड़ी कोई भी जानकारी है तो प्लीज हमें बताएं। ये बेहद उलझा हुआ केस है। ये भी साफ नहीं हो सका है कि मौत की वजह क्या है। जितनी रहस्यमय उनकी जिंदगी थी, उतनी ही मौत भी रही। वो ऑस्ट्रेलिया में परमानेंट रेसीडेंसी चाहती थीं।

2018 में न्यूयॉर्क की एक नदी किनारे पुलिस को इन दो बहनों के शव मिले थे। दोनों सगी बहनें थीं और सऊदी अरब से भागकर अमेरिका आईं थीं।
2018 में न्यूयॉर्क की एक नदी किनारे पुलिस को इन दो बहनों के शव मिले थे। दोनों सगी बहनें थीं और सऊदी अरब से भागकर अमेरिका आईं थीं।

2018 में भी ऐसा ही हुआ था
चार साल पहले न्यूयॉर्क में हडसन नदी के किनारे सऊदी अरब की ही रहने वाली दो बहनों के शव मिले थे। इनके नाम ताला फरा (16) और रोताना फरा (22) थे। उनकी मौत की गुत्थी भी अब तक नहीं सुलझ सकी है। हालांकि, कुछ पुलिस अफसर इसे सुसाइड ही बता रहे हैं। ये दोनों लड़कियां भी सऊदी अरब से भागकर अमेरिका आईं थीं और यहां की नागरिकता चाहती थीं। कहा जाता है कि अमेरिका की नागरिकता न मिलने के डर से उन्होंने खुदकुशी कर ली थी।

पुलिस ने तब एक बयान में कहा था- दोनों लड़कियां अमेरिका में शरण चाहती थीं। उन्होंने हमसे कहा था कि सऊदी अरब लौटने से बेहतर होगा कि हम यहीं मर जाएं।