न्यूजीलैंड / दो मस्जिदों में आतंकी हमले में 49 की मौत, 9 भारतीय लापता; हमलावर ने घटना फेसबुक पर लाइव की

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 07:33 AM IST


New Zealand Mosque Shooting: Christchurch Mosque Shooting, New Zealand News Update Today
X
New Zealand Mosque Shooting: Christchurch Mosque Shooting, New Zealand News Update Today
  • comment

  • प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न ने गोलीबारी को बताया देश का सबसे काला दिन 
  • अभी तक एक महिला समेत चार लोग गिरफ्तार, फेसबुक लाइव करने वाला 28 साल का हमलावर ब्रेंटन टैरेंट फरार 
  • बांग्लादेश का न्यूजीलैंड दौरा रद्द, आज लौटेगी क्रिकेट टीम

वेलिंगटन. न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की अल-नूर और लिनवुड मस्जिद में शुक्रवार को गोलीबारी हुई। हमला दोपहर की नमाज के बाद किया गया। इसमें 49 लोग मारे गए और 50 जख्मी हैं। पुलिस ने बताया कि 4 लोगों को हिरासत में लिया गया। लेकिन अभी हमलावर की तलाश जारी है। प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न ने इसे आतंकी हमला करार दिया है। एक महिला समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने मस्जिद के पास से एक कार से कई आईईडी को डिफ्यूज किया। उधर, ऑकलैंड स्थित ब्रिटोमार्ट स्टेशन पर भी एक बम डिफ्यूज किया गया।

 

न्यूजीलैंड में भारतीय राजदूत ने ट्वीट किया, "स्रोतों से मिल रही जानकारी के मुताबिक हमले में 9 भारतीय/भारतीय मूल के लोगों के लापता होने की खबर है। आधिकारिक जानकारी आना बाकी है।''


हमलावर ने फेसबुक पर लाइव किया कत्लेआम
न्यूजीलैंड पुलिस के मुताबिक, हमलावर एक ऑस्ट्रेलियाई युवक ब्रेंटन टैरेंट (28) था। उसने मस्जिद में घुसने से पहले ही फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग शुरू कर दी। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे फुटेज में हमलावर को मस्जिद के अंदर घुसकर लोगों पर गोलियां बरसाते देखा गया। हालांकि, घटना के बाद फेसबुक और ट्विटर ने यह वीडियो ब्लॉक कर दिया। गोलीबारी के बाद हमलावर ने वापस अपनी कार में बैठकर बंदूक के अटकने और लोगों को आसानी से मारने के बारे में भी बात की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, ब्रेंटन ने खतरनाक मंशा वाला 37 पन्नों के एक मैनिफेस्टो भी लिखा था। 

 

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन के मुताबिक- ब्रेंटन ऑस्ट्रेलिया का नागरिक है और वह कट्टरपंथी राइट विंग से जुड़ा है।

 

नमाज के लिए गए थे बांग्लादेश के खिलाड़ी

गोलीबारी स्थानीय समय के मुताबिक दोपहर करीब 1.45 बजे हुई। बांग्लादेश टीम के कुछ सदस्य कोचिंग स्टाफ के साथ नमाज पढ़ने अल-नूर मस्जिद गए थे। ईएसपीएन के बांग्लादेश के कॉरस्पॉन्डेंट मोहम्मद इस्लाम भी खिलाड़ियों के साथ थे। इस्लाम के मुताबिक- खिलाड़ी जैसे ही बस से उतरे, उन्होंने मस्जिद के अंदर गोलियों की आवाज सुनी। वे भीतर जाने ही वाले थे कि कई लोग अंदर से भागते हुए निकले। कुछ लोगों ने खिलाड़ियों के सामने ही दम तोड़ा। 10 मिनट में ही खिलाड़ी वहां से होटल के लिए निकल गए।

 

बांग्लादेश के क्रिकेटर तमीम इकबाल ने ट्वीट किया- हमलावरों से पूरी टीम सुरक्षित है। यह एक भयावह अनुभव रहा। हमारे लिए प्रार्थना करें। बांग्लादेश टीम के प्रवक्ता ने कहा कि पूरी टीम सुरक्षित है लेकिन सभी खिलाड़ी मानसिक रूप से तनाव में हैं।


भारत सभी प्रकार के आतंक निंदा करता है- प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमले में मारे गए निर्दोष लोगों के प्रति दुख और संवेदनाएं व्यक्त की हैं। मोदी ने न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा, ''भारत सभी प्रकार के आतंक और उनका इस तरह की घटनाओं का समर्थन करने वालों की निंदा करता है। इस प्रकार की घृणा और हिंसा की लोकतंत्र में कोई जगह नहीं है।''

 

घायलों में एक हैदराबाद का भी युवक
हमले में घायल लोगों में एक हैदराबाद का युवक भी शामिल है। अहमद जहांगीर के अल नूर मस्जिद में शुक्रवार की प्रार्थना के लिए गए थे। उनके भाई खुर्शीद इकबाल ने बताया कि अहमद को अस्पताल में भर्ती किया गया है। उन्होंने बताया कि उन्हें एक वीडियो मिला है जिसमें उनके भाई नजर आ रहे हैं उसके सीने में गोली लगी है और वह स्ट्रेचर पर लेटा है। अहमद 15 साल पहले न्यूजीलैंड में शिफ्ट हुए हैं और यहां मस्जिद के पास रेस्टोरेंट चलाते हैं।

 

स्कूल बंद किए गए
इस घटना के बाद देशभर में मस्जिदों को बंद करने के लिए कहा गया है। पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने गोलीबारी के चलते क्राइस्टचर्च के सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। ऑफिस, लाइब्रेरी और इमारतें भी बंद कर दी गई हैं। माइक ने लोगों से अपील की कि वे सड़कों पर न निकलें और किसी व्यक्ति के संदिग्ध बर्ताव की सूचना दें। एक चश्मदीद ने बताया कि उसने गोलीबारी की आवाज सुनी। चार लोग जमीन पर गिरे हुए थे और हर तरफ खून बिखरा हुआ था।

 

सिटी काउंसिल ने पेरेंट्स के लिए हेल्पलाइन जारी की है ताकि बच्चों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया जा सके। पास के इलाके में जलवायु परिवर्तन रैली के लिए लोग जुटने वाले थे। पुलिस ने कहा कि जब तक कहा न जाए, लोग किसी भी इलाके में न जाएं।

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन