नए कोरोना वैरिएंट ने किया हैरान:सिंगापुर में बूस्टर डोज लगवा चुके दो लोगों के सैंपल में भी मिला ओमिक्रॉन, इनमें से एक जर्मनी से लौटा था

सिंगापुर5 महीने पहले

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के सामने कोविड वैक्सीन प्रभावी होगी या नहीं, इसे लेकर अभी रिसर्च जारी है, वहीं दूसरी तरफ सिंगापुर के दो लोगों में मिले इस वैरिएंट ने वैक्सीन की दोनों डोज ही नहीं बल्कि बूस्टर डोज को भी फेल साबित कर दिया है।

सिंगापुर में ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित मिले दोनों लोगों को कोविड वैक्सीन का बूस्टर डोज लग चुका है। इसके बावजूद इनके ओमिक्रॉन से संक्रमित होने के चलते अब बूस्टर डोज के भी वायरस के खिलाफ सुरक्षा देने की क्षमता पर सवाल उठ रहे हैं।

एक मामला लोकल, एक जर्मनी से आया
सिंगापुर में मिला ओमिक्रॉन का पहला मामला 24 वर्षीय महिला का है, जो एयरपोर्ट पर पैसेंजर सर्विस में काम करती है। यह महिला शुरुआती जांच में ओमिक्रॉन पॉजिटिव पाई गई है। सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि यह शहर में ओमिक्रॉन का पहला लोकल मामला है। दूसरा मामला विदेशी संक्रमण का है। इसमें संक्रमित मिला शख्स 6 दिसंबर को जर्मनी से लौटा था और माना जा रहा है कि वह जर्मनी में ही ओमिक्रॉन की चपेट में आया होगा। इसे भी बूस्टर डोज लग चुका था।

देश में और मामले मिलने की आशंका
सिंगापुर के मंत्रालय के मुताबिक, दोनों ही संक्रमित नेशनल सेंटर फॉर इन्फेक्शस डिजीज में रिकवर हो रहे हैं। उनके सभी कॉन्टैक्ट्स को 10 दिनों के लिए क्वारैंटाइन किया जाएगा। मंत्रालय का कहना है- ओमिक्रॉन वायरस के फैलने की रफ्तार को देखते हुए हम मानकर चल रहे हैं कि देश के बॉर्डर पर और हमारी कम्युनिटी के बीच ओमिक्रॉन से जुडे़ कई अन्य मामले भी मिल सकते हैं।

वैक्सीन निर्माताओं के दावों पर उठे सवाल
हालांकि वैक्सीन निर्माता फाइजर-बायोएनटेक ने इस हफ्ते की शुरुआत में वैक्सीन की तीसरी डोज यानी बूस्टर डोज से ओमिक्रॉन वैरिएंट के खत्म हो जाने का दावा किया था। कंपनी ने ये दावा ओमिक्रॉन वैरिएंट पर वैक्सीन के प्रभाव को लेकर चल रही रिसर्च के शुरुआती लैब रिजल्ट के आधार पर किया था, लेकिन सिंगापुर में मिले मामलों ने इन दावों पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

57 देशों में फैला ओमिक्रॉन
दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का पहला केस 24 नवंबर को सामने आया था। इसके बाद यह 8 दिसंबर तक 57 देशों में पहुंच चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अपनी वीकली रिपोर्ट में बताया है कि करीब दो हफ्तों में ही नया स्ट्रेन 57 देशों में पहुंच चुका है। अधिकतर केस उन लोगों में मिले हैं, जो विदेशों से लौटे हैं।

खबरें और भी हैं...