• Hindi News
  • International
  • Sleeping not only late, but also the risk of heart disease, at least 7 hours of sleep every night is necessary

भास्कर खास / लेट ही नहीं जल्दी सोने से भी हृदय रोग का खतरा, हर रात कम से कम 7 घंटे की नींद जरूरी

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • नियमित समय से 30 मिनट देर से सोने से उच्च हो जाता है रेस्टिंग हार्ट रेट 

  • इस अनुसंधान में भारतीय मूल के नीतेश चावला भी शामिल रहे

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 06:36 AM IST

न्यूयार्क. नींद अनियमित होने से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है, हर रात कम से कम 7 घंटे की नींद लेनी चाहिए। ऐसा नहीं होने पर डायबिटीज, स्ट्रोक और कार्डियोवेस्क्युलर की समस्या हो सकती है। जर्नल नेचर में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया, नींद की नियमितता और रेस्टिंग हार्ट रेट (आरएचआर) के बीच स्टडी में पाया गया, रोज सोने वाले समय से महज 30 मिनट बाद में सोने से रेस्टिंग हार्ट रेट आने वाले दिनों में उच्च हो जाता है। भारतीय मूल के अनुसंधानकर्ता और अमेरिका में नोट्रे डेम यूनिवर्सिटी के नीतेश चावला भी अध्ययन में शामिल रहे।


ऐसे किया अध्ययन

अनुसंधान करने वाली टीम ने चार साल तक 557 कॉलेज स्टूडेंट्स से डाटा एकत्र कर विश्लेषण किया। उन्होंने 2 लाख 55 हजार 736 स्लीप सेशन को रिकॉर्ड किया, जिसमें सोने के समय, नींद और रेस्टिंग हार्ट रेट को मापा गया। आश्चर्यजनक रूप से नियमित समय पर सोने वाले जब पहले सोए, तब भी आरएचआर बढ़ा हुआ मिला। आधे घंटे से ज्यादा समय पहले सोने से आरएआर में वृद्धि देखी गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना