दक्षिण अफ्रीका की संसद में भीषण आग:मीलों दूर से नजर आ रहीं लपटें और धुंआ, काबू पाने में लगीं दमकल की 35 गाड़ियां

केपटाउन7 महीने पहले

दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन में स्थित संसद भवन में आग लगने की वजह से छत गिर गई। दमकल विभाग की 35 गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाने की कोशिश की। आग लगने की वजह से संसद के कई हिस्से जलकर खाक होने की आशंका है। स्थानीय समयानुसार, आज सुबह करीब 5 बजे हाउस ऑफ पार्लियामेंट में आग लगी।

संसद में आग लगने की कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं। इनमें संसद भवन से आग की लपटें और गहरा काला धुंआ निकलते देखा जा सकता है। आग की लपटें इतनी तेज हैं कि कई मील दूर से नजर आ रही हैं। साथ ही धुंआ आसपास के इलाके में फैल गया है।

संसद भवन से आग की तेज लपटें निकलती नजर आ रही हैं।
संसद भवन से आग की तेज लपटें निकलती नजर आ रही हैं।
भीषण आग की वजह से संसद का कुछ हिस्सा जलकर खाक हो गया।
भीषण आग की वजह से संसद का कुछ हिस्सा जलकर खाक हो गया।
संसद भवन से निकलता गहरा काला धुंआ काफी दूर से नजर आ रहा है।
संसद भवन से निकलता गहरा काला धुंआ काफी दूर से नजर आ रहा है।

आग लगने का कारण अभी साफ नहीं
आग लगने की वजह अभी तक पता नहीं चल पाई है। हालांकि, मीडिया रिपोर्ट्स में शार्ट सर्किट से आग लगने की आशंका जताई जा रही है। यह भी अभी साफ नहीं हो पाया है कि बिल्डिंग के अंदर कोई व्यक्ति फंसा है या नहीं। फायर एंड रेस्क्यू सर्विस के ऑफिसर जर्मेन कैरल्स ने बताया कि छत पर कोलतार भी पिघल रहा है, जो अच्छा संकेत नहीं है।

काले धुंए की वजह से आसपास के इलाके में धुंध सी छा गई है।
काले धुंए की वजह से आसपास के इलाके में धुंध सी छा गई है।
दमकल विभाग ने लोगों से संसद के आसपास न जाने की अपील की है।
दमकल विभाग ने लोगों से संसद के आसपास न जाने की अपील की है।
दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।
दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

दक्षिण अफ्रीका की संसद के बारे में
दक्षिण अफ्रीकी संसद भवन के मुख्य तीन हिस्से हैं। इनमें ओरिजिनल और सबसे पुरानी इमारत शामिल है जो 1884 में बनी थी। इसके सबसे नए हिस्से 1920 और 1980 में बनाए गए, जो कि नेशनल असेंबली में हैं। पिछले साल अप्रैल में केपटाउन यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में आग लग गई थी, जिसमें अफ्रीकी आर्काइव का यूनिक कलेक्शन था।