श्रीलंका में बिजली की दर में 264% की बढ़ोतरी:रेगुलेटर ने इजाजत दी, कहा- घाटे की भरपाई करने के लिए बदलाव जरूरी

कोलंबो2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रीलंका में बिजली की कम खपत करने वाले लोगों के लिए टैरिफ में 264% की बढ़ोतरी की जाएगी। जबकि अधिक खपत करने वाले लोगों के लिए कम यह दर कम होगी। सीलोन इलैक्ट्रिसिटी बोर्ड (CEB) ने कहा टैरिफ तय करने वाले रेगुलेटर ने मंगलवार को इसमें वृद्धि करने की अनुमति दी है। यह बढ़ोतरी 9 साल में पहली बार हो रही है। नई दरें 10 अगस्त 2022 से लागू कर दी जाएंगी।

अधिकारियों ने कहा CEB ने 800% से ज्यादा की टैरिफ बढ़ोतरी के लिए कहा था। लेकिन रेगुलेटर ने इसमें बदलाव कर बढ़ोतरी को 264% कर दिया। CEB को बिजली दरों के कारण अभी तक 61.6 करोड़ डॉलर का घाटा हो चुका है। जिसकी भरपाई करने के लिए दरों में बढ़ोतरी की गई है।

2.50 रुपए चार्ज देने वाले अब 8 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देंगे

2.50 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देने वाले उपभोक्ताओं से अब 8 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देना होगा।
2.50 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देने वाले उपभोक्ताओं से अब 8 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देना होगा।

ऑफिशियल रिकार्ड के मुताबिक 90 किलोवॉट से कम खपत करने वाले परिवार सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। जबकि 90 किलोवॉट से ज्यादा बिजली का उपयोग करने वालों को बिल का 80% ही भुगतान करना होगा। अभी तक 2.50 रुपए प्रति यूनिट चार्ज देने वाले उपभोक्ताओं से अब 8 रुपए प्रति यूनिट चार्ज लिया जाएगा। वहीं इससे ज्यादा खपत करने वाले उपभोक्ताओं को 45 रुपए प्रति यूनिट की जगह 75 ₹ प्रति यनिट चार्ज देना होगा।

लंबे समय से बिजली ब्लैक आउट

CEB थर्मल जनरेटर के लिए तेल खरीदने में सक्षम नहीं है। जिसकी वजह से देश हाइपरफ्लिनेशन और लंबे समय से बिजली ब्लैक आउट का सामना कर रहा है। सरकार ने कहा कि वह अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष से बात कर रही है।

खबरें और भी हैं...