• Hindi News
  • International
  • Study Claims Elders Learn Skills Faster When It Comes To The Benefit Of Others, While Young People Do So When They Are About To Benefit

युवाओं से आगे बुजुर्ग:स्टडी में दावा- दूसरों के फायदे के मामले में बुजुर्ग तेजी से कौशल सीखते हैं, जबकि युवा तब ऐसा करते हैं जब उन्हें फायदा हो

लंदन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुजुर्ग लोग तेजी से नए कौशल सीख सकते हैं अगर उसका फायदा उनके बजाय दूसरों को मिलता है। - Dainik Bhaskar
बुजुर्ग लोग तेजी से नए कौशल सीख सकते हैं अगर उसका फायदा उनके बजाय दूसरों को मिलता है।
  • शोधकर्ताओं का मानना- अपने अनुभवों से सीख लेकर बुजुर्ग खुद को अपडेट भी करते हैं।

बुजुर्ग लोग तेजी से नए कौशल सीख सकते हैं अगर उसका फायदा उनके बजाय दूसरों को मिलता है, इसके उलट युवा खुद की मदद करने के लिए तेजी से सीखते हैं। यह दावा ऑक्सफोर्ड और बर्मिंघम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने साझा स्टडी में किया है।

स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने बुजुर्गों और युवाओं के समूह पर अनुभव से सीखने संबंधी टेस्ट किए थे। बर्मिंघम यूनिवर्सिटी में न्यूरोसाइंटिस्ट पेट्रिशिया लॉकवुड कहती हैं कि अनुभवों से सीखना उन महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है, जिसमें इंसान, पशु यहां तक कि पौधे भी अपने माहौल से सीखते हैं, उसके अनुकूल होते हैं।

बुजुर्ग भी ऐसे ही सीखते हैं और खुद को अपडेट करते हैं। लॉकवुड के मुताबिक हमें मिलने वाली सकारात्मक या नकारात्मक प्रतिक्रिया के आधार पर हमें फैसले लेने और हर समय सीखने की जरूरत है। यह हमें भविष्य में किसी काम को करने के संभावित विकल्पों में से श्रेष्ठ तरीका चुनने की सहूलियत देता है।

सकारात्मक प्रक्रिया से सीखने में युवाओं की तुलना में बुजुर्ग कमतर
स्टडी के दौरान पता चला कि खुद के व्यवहार पर सकारात्मक प्रक्रिया से सीखने के मामले में युवाओं की तुलना में बुजुर्ग कमतर हैं। लॉकवुड और उनकी टीम ने 152 लोगों पर यह स्टडी की थी। इनमें आधे 18-36 उम्र वर्ग के और बाकी 60-80 उम्र वर्ग के थे। हर प्रतिभागी को टेस्ट की सीरीज दी गई। उन्हें कम्प्यूटर पर प्रदर्शित दो प्रतीकों में से एक चुनना था। हर चयन पर उन्हें फीडबैक, रिवॉर्ड पॉइंट या आर्थिक फायदे मिले।

शोधकर्ताओं ने पाया कि विकल्प चुनने के मामले में बुजुर्ग प्रतिभागियों का समूह युवाओं की तुलना में धीमा था। जबकि इस चयन में उन्हें आर्थिक फायदे हो सकते थे, पर उन्होंने दूसरों का फायदा देखा। स्टडी के लेखक और न्यूरोसाइंटिस्ट जे कटलर कहते हैं कि उम्र बढ़ने के साथ बौद्धिक व सीखने की क्षमता घटती है। पर यह देखना दिलचस्प था कि दूसरों को फायदा पहुंचाने वाले विकल्प चुनते समय बुजुर्गों की सीखने की क्षमता किस तरह तेज हो गई थी।

कम सहानुभूति या दूसरों की चिंता न करना जैसे लक्षण बुजुर्गों में कम दिखे
जर्नल नेचर कम्युनिकेशंस में प्रकाशित इस स्टडी के मुताबिक बुजुर्ग लोगों को कौन सी चीजें सीखने के लिए प्रेरित करती हैं, इसे बेहतर ढंग से समझकर हेल्दी एजिंग की रणनीति में अहम योगदान दे सकते हैं। स्टडी के तहत ही प्रतिभागियों को मनोरोग से जुड़े लक्षण जैसे सहानुभूति की कमी या दूसरों के लिए चिंता न होने को लेकर टेस्ट भी किए गए।

हैरानी की बात यह है कि बुजुर्गों में ये लक्षण कम दिखे। शोधकर्ताओं का मानना है कि बुजुर्गों में इन लक्षणों की कमी के चलते ही दूसरों के भले के लिए वे तेजी से सीख पाते हैं।

खबरें और भी हैं...