अफगानिस्तान / आत्मघाती विस्फोट में 20 की मौत; 90 से ज्यादा जख्मी, तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली



17 सितंबर को राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली के दौरान विस्फोट (फाइल फोटो)। 17 सितंबर को राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली के दौरान विस्फोट (फाइल फोटो)।
X
17 सितंबर को राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली के दौरान विस्फोट (फाइल फोटो)।17 सितंबर को राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली के दौरान विस्फोट (फाइल फोटो)।

  • तालिबान ने कहा- उसने अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय को निशाना बनाया था
  • ट्रम्प के शांति वार्ता से इनकार किए जाने के बाद से तालिबान ऐसे हमले को अंजाम दे रहा है 

Dainik Bhaskar

Sep 19, 2019, 12:53 PM IST

काबुल. अफगानिस्तान के दक्षिणी इलाके में गुरुवार सुबह आत्मघाती ट्रक बम विस्फोट में करीब 20 लोगों की मौत हो गई। जबकि 90 से ज्यादा लोग जख्मी हो गए। हादसे में जाबुल प्रांत की राजधानी कलात में स्थित अस्पताल का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया।

 

अस्पताल में बीमार सदस्यों को देखने आए लोगों ने जख्मी लोगों को निकाला। अधिकारियों ने घायलों को पास के कंधार के अस्पतालों में भर्ती कराया। प्रांत के गवर्नर के प्रवक्ता गुल इस्लाम सेयल ने पहले मरने वालों की संख्या 12 बताई थी। लेकिन, बाद में प्रांत के परिषद के प्रमुख अत्ता जान हकबयान ने बताया कि विस्फोट में 20 लोगों की मौत हुई है। राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय (एनडीएस) कार्यालय की दीवार भी ध्वस्त हो गई है।

 

विस्फोट सुबह 6 बजे हुआ

इस महीने की शुरुआत में अमेरिका और तालिबान के बीच शांति वार्ता होने वाली थी। लेकिन, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने वार्ता से इनकार कर दिया था। तब से ही तालिबान ऐसे हमलों को अंजाम दे रहा है। टोलो न्यूज ने बताया कि विस्फोट सुबह करीब छह बजे हुआ और इस धमाके से कई कार्यालयों के भवन और घरों को भी भारी नुकसान पहुंचा है। तालिबान ने बताया कि उसका निशाना एनडीएस कार्यालय था।

 

काबुल में तालिबानी हमले के बाद ट्रम्प ने वार्ता से इनकार किया था

काबुल में हुए तालिबानी हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और तालिबान नेताओं के साथ शांति वार्ता रद्द कर दी। वार्ता रविवार (8 सितंबर) को कैंप डेविड में होनी थी। अमेरिकी राष्ट्रपति ने काबुल में 5 सितंबर को हुए कार धमाके में एक अमेरिकी सैनिक समेत 12 लोगों की मौत के बाद यह फैसला किया।

 

17 सितंबर को चुनावी रैली में भी धमका हुआ था

इससे पहले मंगलवार को अफगानिस्तान के मध्य परवान प्रांत में राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली और एक अन्य जगह पर बम धमाका हुआ था। इसमें 48 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 42 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे।

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना