पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रिसर्च में खुलासा:बच्चे के शुरुआती छह महीनाें की देखभाल से माताएं 3 से 7 साल बड़ी दिखने लगती हैं

लाॅस एंजिलिस2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अध्ययन में खुलासा हुआ है कि बच्चे के पैदा होने के बाद पहले छह महीने बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसी दौरान नींद के अभाव में बीमारियों के खतरे बढ़ते हैं। - Dainik Bhaskar
अध्ययन में खुलासा हुआ है कि बच्चे के पैदा होने के बाद पहले छह महीने बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसी दौरान नींद के अभाव में बीमारियों के खतरे बढ़ते हैं।
  • अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के अध्ययन का निष्कर्ष

बच्चे काे जन्म देने के बाद शुरुआती छह महीने में उनकी देखभाल करते हुए मां अपनी उम्र से तीन से सात साल तक बड़ी दिखने लगती हैं। मतलब उनके स्वास्थ्य पर इसका गंभीर असर पड़ता है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफाेर्निया के एक अध्ययन में यह निष्कर्ष सामने आया है।

यह शोध अध्ययन करने वाले दल की सदस्य डाॅ. जूडिथ कैराॅल का कहना है, ‘आधी रात में बच्चों को फीड करना, उनकी नैपी बदलना और देखभाल के तमाम ऐसे काम रहते हैं। इनकी वजह से मांओं की नींद पूरी नहीं हाे पाती। उनकी नियमित रूप से रात में सात घंटे से कम ही नींद हो पाती है।

इसका असर ये होता है कि माताओं की उम्र उनकी वास्तविक उम्र से तीन से सात साल तक ज्यादा लगने लगती है।’ इस समस्या से बचने का उपाय भी वे बताती हैं। इसके मुताबिक, ‘माताओं को इसीलिए जब भी मौका मिले, झपकी ले लेनी चाहिए। जहां कहीं भी मदद की जरूरत हो, पति, पार्टनर, बच्चों की दादी-नानी, दादा-नाना से सहयोग ले लेना चाहिए।’

अध्ययन में एक साल के बच्चों की 33 मांओं से पूछा गया कि बच्चे के पैदा होने के बाद से उन्होंने कितनी नींद ली है। उनमें से आधी से अधिक का कहना था कि वे रात में सात घंटे से कम सो पा रही हैं। लिहाजा विश्लेषण के लिए उनके रक्त का नमूना लिया गया। उसकी जांच से उनकी उम्र में तेजी से वृद्धि का पता लगा।

अन्य बीमारियों के संकेत भी मिले। कैरॉल का कहना है कि अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है। यह जानने के लिए कि क्या उम्र में बढ़ाेतरी स्थाई हाेती है या आगे के वर्षाें में अच्छी नींद लेने पर शरीर क्षतिपूर्ति कर लेता है।

पर नींद के अभाव में बीमारियों के खतरे भी

अध्ययन में खुलासा हुआ है कि बच्चे के पैदा होने के बाद पहले छह महीने बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसी दौरान नींद के अभाव में बीमारियों के खतरे बढ़ते हैं। इसके बाद के महीनों में नींद के अभाव का अधिक प्रभाव नहीं दिखाई दिया।

खबरें और भी हैं...