• Hindi News
  • International
  • Taliban Afghanistan Kabul Blast ISIS LIVE Update Today 27 August US Military Pakistan Imran Khan Indian Evacuation

तालिबानी हुकूमत:काबुल एयरपोर्ट पर धमाकों में अब तक 170 लोगों की मौत; 13 अमेरिकी सैनिक और 2 ब्रिटिश नागरिक शामिल

नई दिल्ली9 महीने पहले

काबुल एयरपोर्ट पर गुरुवार को हुए धमाकों में अब तक 170 लोगों को मौत हो चुकी है। फॉक्स न्यूज के मुताबिक, इन हमलों में 13 अमेरिकी सैनिक और 2 ब्रिटिश नागरिक भी मारे गए हैं, वहीं 1276 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं।

इधर, अफगानिस्तान में फिदायीन हमलों से ज्यादा लोगों में तालिबान का खौफ है। दरअसल, गुरुवार शाम 6 बजे हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद काबुल एयरपोर्ट से लगे नाले में लाशें बिछी थीं। घायल इलाज के लिए पानी में पड़े तड़प रहे थे। लेकिन आज उसी नाले की तस्वीर कुछ और थी। यहां लोगों का फिर से हुजूम उमड़ा हुआ है।

लोग तालिबान से इतने ज्यादा खौफजदा हैं कि वे किसी भी हाल में देश छोड़ना चाहते हैं। उन्हें न ब्लास्ट की फिक्र है और न ही अपने जान की। लोग शुक्रवार को भी हजारों की संख्या में नाले के ऊपर और नाले के अंदर खड़े होकर किसी भी तरह अपना डॉक्यूमेंट वैरिफाई करवाने में लगे हुए हैं ताकि तालिबानी हुकूमत के साए से दूर जा सकें।

इस बीच, ब्लास्ट के 16 घंटे बाद यानी आज दोपहर 12 बजे से उड़ानें फिर शुरू कर दी गई हैं। यहां गुरुवार शाम को फियादीन हमले हुए थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जो 155 अफगानी मारे गए हैं उनमें 28 तालिबानी थे, जो कि काबुल एयरपोर्ट के बाहर तैनात थे। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन ISIS के खुरासान ग्रुप ने ली है। पूरी खबर पढ़ें...

प्रधानमंत्री मोदी ने अफगानिस्तान मुद्दे पर इटली के PM मारियो ड्रैगी से चर्चा की
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुकव्रार को इटली के पीएम PM मारियो ड्रैगी से अफगानिस्तान के हालात पर चर्चा की। दोनों नेताओं ने काबुल एयरपोर्ट पर हुए ब्लास्ट में जान गंवाने लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना जताते हुए आतंकी हमले की निंदा की है और अफगानिस्तान में फंसे लोगों की सुरक्षित स्वदेश वापसी सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान के विकास में उत्पन्न मानवीय संकट और दीर्घकालिक सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के लिए G20 के स्तर सहित अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता पर बल दिया। दोनों नेताओं ने जलवायु परिवर्तन जैसे G20 एजेंडा के अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी चर्चा की। इस संदर्भ में, उन्होंने सीओपी-26 जैसे अन्य आगामी बहुपक्षीय कार्यक्रमों पर भी बातचीत की।

प्रधान मंत्री ने G20 के भीतर सार्थक रूप से विचार-विमर्श करने में इटली के गतिशील नेतृत्व की सराहना की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों पर विशेष रूप से अफगानिस्तान की स्थिति पर संपर्क में रहने पर सहमति व्यक्त की।

अपडेट्स

  • काबुल में हुए ब्लास्ट के बाद तालिबान ने महिला स्वास्थ्यकर्मियों को काम पर लौटने को कहा है। बताया जा रहा है कि अस्पताल में स्टाफ की कमी के बीच तालिबान ने महिलाओं को ये आदेश दिया है। तालिबान के प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने सोशल मीडिया पर लिखा कि, इस्लामी अमीरात के स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी महिला कर्मचारियों को केंद्र और प्रांतों में नियमित रूप से अपने काम पर लौटने को कहा है। इस्लामिक अमीरात की उनके काम में कोई बाधा नहीं डालेगी।
  • काबुल एयरपोर्ट पर हुए ब्लास्ट में ब्रिटेन के दो नागरिकों की भी मौत हुई है। ब्रिटेन सरकार ने इसकी पुष्टि की है। ब्रिटिश सरकार ने अफगानिस्तान में काम कर चुके 8000 अफगानियों को एयरलिफ्ट किया है। ब्रिटिश सरकार इन्हें शरणार्थी का दर्जा देकर 5 साल का वीजा देगी। इसके बाद ये अफगानी स्थायी नागरिकता के लिए आवेदन कर सकेंगे।
  • पेंटागन प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने कहा है कि अमेरिका काबुल ब्लास्ट की जांच करेगा। हम जितना हो सके हमले के पीछे की वजह जानने की कोशिश करेंगे। हम अफगानिस्तान को गृहयुद्ध से टूटते हुए नहीं देखना चाहते।
  • व्हाइट हाउस के मुताबिक काबुल एयरपोर्ट पर हुए फिदायीन हमले से पहले 24 घंटे में 12,500 लोगों को निकाला गया है। 14 अगस्त से अब तक 1 लाख 5 हजार लोगों को रेस्क्यू किया जा चुका है। वहीं जुलाई से अब तक 1 लाख 10 हजार 600 लोगों को एयरलिफ्ट किया जा चुका है।
  • काबुल एयरपोर्ट पर हुए ब्लास्ट में एक फिदायीन हमलावर शामिल था। पेंटागन ने शुक्रवार को इसकी पुष्टि की है। इससे पहले दो आत्मघाती हमलों की जानकारी सामने आ रही थी।
  • विदेश मंत्रालय ने बताया है कि अफगानिस्तान में नई सरकार के गठन होने का भारत इंतजार कर रहा है। इसके बाद ही बातचीत को लेकर रणनीति तय की जाएगी।

अमरुल्लाह सालेह का दावा- हमलावर ISIS खुरासान ग्रुप का तालिबानी से कनेक्शन
अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने कहा है, 'हमारे पास मौजूद सबूतों से साफ पता चलता है कि IS-K के तालिबान और हक्कानी नेटवर्क से संबंध हैं। तालिबान का ISIS से लिंक होने से इनकार करना ठीक वैसा ही है जैसे पाकिस्तान क्वेटा शुरा को लेकर कहता रहा है। अब तालिबान ने भी अपने आका पाकिस्तान से ये गुर सीख लिए हैं।'

एयरपोर्ट पर फिर से आतंकी हमले का खतरा
फिदायीन हमलों से दहले काबुल एयरपोर्ट पर और भी आतंकी हमले हो सकते हैं। अमेरिकन ब्रॉडकास्ट कंपनी (ABC) के मुताबिक एयरपोर्ट के नॉर्थ गेट पर कार बम ब्लास्ट का खतरा है। ऐसे में काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास ने नया अलर्ट जारी किया है। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने हमलावरों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा है कि आतंकियों को ढूंढ ढूंढ कर मारेंगे।

अपडेट्स

  • ब्रिटेन ने कहा है कि वह कुछ घंटों में अफगानिस्तान से इवैक्यूशन (लोगों को निकालने का सिलसिला) बंद कर देगा। वहीं स्पेन और ऑस्ट्रेलिया ने इवैक्यूशन बंद कर दिया है।
  • अमेरिका ने कहा है कि काबुल से लोगों को निकालने का मिशन जारी रहेगा। काबुल हमले में मारे गए लोगों के सम्मान में अमेरिका का झंडा 30 अगस्त की शाम तक आधा झुका रहेगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा- हमलावरों को छोड़ेंगे नहीं
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल एयरपोर्ट पर हुए हमलों की निंदा करते हुए कहा है कि अमेरिकी सैनिकों की मौत बेहद दुखद है, दूसरों की जान बचाने में अमेरिकी सैनिकों का बलिदान हम कभी भूलेंगे नहीं और न ही हमलावरों को माफ करेंगे। हम आतंकियों को ढूंढ़कर मारेंगे, सैनिकों के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं। हम अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों को निकालेंगे और अपने अफगान सहयोगियों को भी बाहर निकालेंगे। हमारा मिशन जारी रहेगा और जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त फौज भी भेजेंगे। पूरी खबर पढ़ें...

ट्रम्प की पार्टी ने कहा- बाइडेन के हाथ खून से रंगे हुए हैं
काबुल एयरपोर्ट पर धमाके के बाद डोनाल्ड ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर और पूर्व प्रवक्ता डेन क्रेनशॉ ने प्रेसिडेंट बाइडेन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा- मिस्टर प्रेसिडेंट अब इस मामले को संभालिए जिसको आपने ही खड़ा किया है। इससे भागने की कोशिश मत कीजिए। आपके हाथ खून से रंगे हुए हैं। हम अब भी जंग के मैदान में हैं। इसे युद्ध का अंत समझने की गलती मत कीजिए। आपने दुश्मन को एक और फायदेमंद मौका दिया है।

ISIS-K का चीफ असलम फारूकी पाकिस्तानी है
काबुल एयरपोर्ट पर फिदायीन हमले की जड़ पाकिस्तान में ही है। इन धमाकों की जिम्मेदारी ISIS खुरासान यानी ISIS-K ने ली है। इस आतंकी संगठन का चीफ है मावलावी अब्दुल्ला उर्फ असलम फारूकी। फारूकी पाकिस्तानी नागरिक है और खुरासान का चीफ बनने का सफर उसने वहीं से शुरू किया था। वह लश्कर और तहरीक जैसे प्रतिबंधित संगठनों से भी जुड़ा। ये बात उसने तब कबूल की थी, जब अफगानी एजेंसियों ने उसे अरेस्ट किया। पूरी खबर पढ़ें...

तालिबान ने पाकिस्तान को बताया दूसरा घर, कश्मीर पर भारत को दी नसीहत
तालिबान ने पाकिस्तान से अपनी नजदीकियों की बात कबूल की है। तालिबानी प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने पाकिस्तानी चैनल ARY न्यूज से बातचीत में कहा है कि पाकिस्तान उनके संगठन (तालिबान) के लिए दूसरे घर जैसा है। जबीउल्लाह ने ये भी कहा है कि अफगानिस्तान की सीमा पाकिस्तान से लगती है और धार्मिक आधार पर भी दोनों देशों के लोग एक-दूसरे से घुले-मिले हुए हैं। इसलिए हम पाकिस्तान से रिश्ते और मजबूत करना चाहते हैं।

जबीउल्लाह ने भारत के साथ भी अच्छे रिश्ते की बात कही है। उसने कहा कि हमारी बस ये इच्छा है कि भारत अफगानियों के हितों के हिसाब से ही अपनी नीतियां तय करे। तालिबान प्रवक्ता ने कश्मीर को लेकर भारत को सकारात्मक रुख अपनाने की नसीहत दी। उसने कहा कि दोनों देशों के हित एक-दूसरे से जुडे हुए हैं, इसलिए हर विवादित मसलों को उन्हें मिल बैठकर सुलझाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...