• Hindi News
  • International
  • Taliban Afghanistan Kabul Capture LIVE Update; US Military Withdrawal | Pakistan Imran Khan, Indian Evacuation Latest News

तालिबानी हुकूमत:पंजशीर के लड़ाकों का 300 तालिबानियों को मार गिराने का दावा, रास्ते में घात लगाकर किया हमला

3 महीने पहले
यह फोटो BBC के पत्रकार यालदा हकीम ने सोशल मीडिया में पोस्ट की है। इसमें पंजशीर के रास्ते पर तैनात लड़ाके नजर आ रहे हैं।

पंजशीर घाटी पर कब्जा जमाने के मंसूबे पाले बैठे तालिबान को तगड़ा झटका लगा है। सूत्रों का दावा है कि पंजशीर के लड़ाकों ने तालिबान पर रास्ते में घात लगाकर हमला किया। इस हमले में तालिबान के 300 लड़ाकों को मार दिया गया है।

इधर खबर ये भी है कि अफगानिस्तान में कब्जा करने के एक सप्ताह बाद तालिबान जल्द सरकार बनाने की घोषणा कर सकता है। इसके साथ नए राष्ट्रपति के नाम का ऐलान भी किया जा सकता है। तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने टोलो न्यूज से कहा कि नई सरकार के गठन को लेकर अफगानिस्तान के नेताओं से बातचीत जारी है। जल्द इसकी घोषणा की जाएगी।

तालिबान ने सरकार बनाने की तैयारी पूरी कर ली है। जल्दी ही वह सरकार का ऐलान कर सकता है।
तालिबान ने सरकार बनाने की तैयारी पूरी कर ली है। जल्दी ही वह सरकार का ऐलान कर सकता है।

भारी हथियारों के साथ पंजशीर पर हमला करने पहुंचा तालिबान
तालिबान पंजशीर में बड़े हमले की तैयारी कर रहा है। तालिबान के लड़ाके भारी हथियारों के साथ पंजशीर पर हमला करने पहुंच गए हैं। इस बार लड़ाकों की संख्या भी ज्यादा है। इससे सटे बगलान प्रांत के अंदराब जिले में बीती रात बड़ी तादाद में तालिबानी लड़ाकों ने हमला किया था। यहां कई लोगों के मारे जाने की खबर है। हमले को देखते हुए बगलान के देह-ए-सलाह जिले में विद्रोही लड़ाकों ने जुटना शुरू कर दिया है।

बगलान प्रांत के अंदराब जिले से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है। लोग सुरक्षित ठिकाने की तलाश में यहां से भाग रहे हैं।
बगलान प्रांत के अंदराब जिले से लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है। लोग सुरक्षित ठिकाने की तलाश में यहां से भाग रहे हैं।

हमले के बाद पंजशीर के आस-पास के क्षेत्र से पलायन शुरू हो गया है। सुरक्षित ठिकाने की तलाश में लोग अपना घर छोड़कर भाग रहे हैं। यहां तालिबान का मुकाबला कर रहे विद्रोही कुछ दिन पहले पीछे हट गए थे और पहाड़ों पर चले गए थे, लेकिन आज सुबह उन्होंने पहाड़ों से ही तालिबान पर हमले शुरू कर दिए हैं।

फोटो पंजशीर में तालिबान से मुकाबला कर रहे लड़ाकों की है। इस तरह पहाड़ों में छिपकर ये लड़ाके हमलों को अंजाम दे रहे हैं।
फोटो पंजशीर में तालिबान से मुकाबला कर रहे लड़ाकों की है। इस तरह पहाड़ों में छिपकर ये लड़ाके हमलों को अंजाम दे रहे हैं।

तालिबान के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं पंजशीर के लड़ाके
तालिबानी भी पंजशीर मामले को जल्दी हल करने के पक्ष में हैं। उनका मानना है कि पंजशीर के लड़ाकों को शांत नहीं किया गया तो उन्हें सरकार चलाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। पंजशीर अफगानिस्तान का एकमात्र ऐसा प्रांत है, जिस पर तालिबान आज तक अपना कब्जा नहीं कर पाया है।

सूत्रों के मुताबिक, तालिबान के वार्ताकार अहमद मसूद से लगातार सरकार में शामिल होने के लिए बातचीत कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक अभी तक कोई समझौता नहीं हुआ है। हक्कानी के दावों की भी अभी पुष्टि नहीं हुई है।

हथियारों के साथ नॉर्दर्न अलायंस का लड़ाका। इनके पास जंग के सभी साधन उपलब्ध हैं।
हथियारों के साथ नॉर्दर्न अलायंस का लड़ाका। इनके पास जंग के सभी साधन उपलब्ध हैं।
पाकिस्तान की जमात ए इस्लामी पार्टी ने तालिबान को मुबारकबाद देते हुए पेशावर में पोस्टर लगाए हैं। इससे पहले तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान ने तालिबान के समर्थन में रैली निकाली थी और जश्न मनाया था। पाकिस्तान इसे आतंकी संगठन मानता है।
पाकिस्तान की जमात ए इस्लामी पार्टी ने तालिबान को मुबारकबाद देते हुए पेशावर में पोस्टर लगाए हैं। इससे पहले तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान ने तालिबान के समर्थन में रैली निकाली थी और जश्न मनाया था। पाकिस्तान इसे आतंकी संगठन मानता है।

146 भारतीयों को कतर लाया गया
अफगानिस्तान से 146 भारतीयों को रेस्क्यू कर कतर की राजधानी दोहा लाया गया है। इन्हें आज ही भारत लाया जाएगा। कतर में स्थित भारतीय दूतावास ने रविवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी है।

काबुल से 329 भारतीयों की वतन वापसी हुई
काबुल से भारतीयों के निकलने का सिलसिला जारी है। रविवार को तीन विमानों से 390 लोग भारत लौटे, इनमें 329 भारतीय हैं। एयरफोर्स के C-17 एयरक्राफ्ट से 168 लोगों की वापसी हुई, इनमें 107 भारतीय और 23 अफगानी सिख और हिंदू शामिल हैं। ये विमान गाजियाबाद स्थित हिंडन एयरबेस पर पहुंचा था। इससे पहले एयर इंडिया के विमान से 87 भारतीयों और 2 नेपालियों को भारत लाया गया था। वहीं एक दूसरी फ्लाइट से 135 लोगों की वापसी हुई है।

एयरफोर्स का C-17 विमान 107 भारतीयों समेत 168 लोगों को लेकर गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर लैंड हुआ था।
एयरफोर्स का C-17 विमान 107 भारतीयों समेत 168 लोगों को लेकर गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर लैंड हुआ था।

भारत पहुंचकर भावुक हुए अफगानी सांसद
एयरफोर्स के विमान से आए 168 लोगों में अफगानी सांसद नरेंदर सिंह खालसा, अनारकली होनरयार और इनके परिवार भी शामिल हैं। होनरयार और खालसा उन लोगों में शामिल थे जिन्हें तालिबान शनिवार को काबुल एयरपोर्ट से अपने साथ ले गया था। तालिबान ने कहा था कि ये अफगानी हैं इसलिए देश नहीं छोड़ सकते। हालांकि, बाद में इन्हें छोड़ दिया गया। रविवार को भारत पहुंचने पर नरेंदर सिंह खालसा भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि 20 साल में जो कुछ बनाया था, सब खत्म हो गया। वहीं एक अफगानी महिला ने कहा कि अफगानिस्तान में हालात बेहद खराब हैं, तालिबानों ने हमारा घर जला दिया। पूरी खबर पढ़िए...

इन लोगों के साथ एक बच्चा भी आया है जिसके पास भारतीय पासपोर्ट नहीं था, लेकिन सरकार ने उसे रोका नहीं। भारत पहुंचने के बाद इस बच्चे का वीडियो सामने आया है जिसमें एक बच्ची उसे प्यार करते हुए नजर नजर आ रही है। इस दौरान बच्ची बेहद खुश नजर आई।

एयर इंडिया की फ्लाइट से लौटे 87 लोग फ्लाइट के अंदर भारत माता की जय के नारे लगा रहे थे।
एयर इंडिया की फ्लाइट से लौटे 87 लोग फ्लाइट के अंदर भारत माता की जय के नारे लगा रहे थे।

काबुल एयरपोर्ट से हर रोज उड़ सकेंगे भारत के 2 विमान
अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों के वतन वापसी की राह आसान हो गई है। काबुल एयरपोर्ट से भारत को रोजाना दो विमानों के संचालन की अनुमति मिल चुकी है। अमेरिकी और उत्तरी अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (NATO) फोर्स ने इसकी अनुमति शनिवार को दी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि अब वे जल्द ही सभी भारतीयों को वापस लाएंगे। यहां अभी 300 भारतीयों के फंसे होने की जानकारी है।

अमेरिका ने 18 कॉमर्शियल एयरक्राफ्ट को काबुल एयरपोर्ट पर उतरने की मंजूरी दी
अमेरिका ने काबुल में फंसे अफगानियों को निकालने के लिए 18 कॉमर्शियल एयरक्राफ्ट के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी है। अमेरिका के डिफेंस सेक्रेट्री (रक्षा मंत्री) लॉयड ऑस्टिन ने कहा है कि रेस्क्यू के लिए अमेरिकन एयरलाइंस, एटलस एयर, डेल्टा एयरलाइंस, ओमनी एयर, यूनाइटेड एयरलाइंस और हवाई एयरलाइंस के 3-3 एयरक्राफ्ट उपयोग किए जाएंगे।

काबुल एयरपोर्ट पर भगदड़ से 7 अफगानियों की मौत
अफगानिस्तान में तालिबानी हुकूमत के बीच काबुल एयरपोर्ट पर मची भगदड़ में अफगानिस्तान के 7 लोगों की मौत हो गई है। ये जानकारी ब्रिटिश मिलिट्री ने दी है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि हालात बेहद चुनौतीपूर्ण हैं, लेकिन स्थिति को संभालने के साथ ही लोगों की सुरक्षा की पूरी कोशिश की जा रही है।

एयरपोर्ट पर भारी भीड़
अफगानिस्तान छोड़ने वाले लोगों की काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़ है। दूसरी तरफ तालिबान अफगानियों को देश छोड़ने से रोक रहा है। एयरपोर्ट आने वाले रास्तों पर तालिबान का कड़ा पहरा है और तालिबानी हर आने-जाने वाले की जांच कर रहे हैं।

तालिबान ने कहा- अहमद मसूद साथ आने को तैयार
तालिबान ने कहा है कि पंजशीर में लड़ाकों का नेतृत्व कर रहा अहमद मसूद उनके साथ आने को तैयार है। आतंकी संगठन हक्कानी ने यह ऐलान किया है। अगर ऐसा होता है तो अफगानिस्तान में तालिबान को रोकने वाला अब कोई नहीं होगा।

अहमद मसूद के नॉर्दर्न अलायंस ने शुक्रवार को ही तालिबान लड़ाकों से 3 जिले छीनने का ऐलान किया था। इन जिलों में तालिबानी झंडा हटाकर अफगानिस्तान का राष्ट्रीय झंडा फहरा दिया गया था। अफगानिस्तान के रक्षा मंत्री जनरल बिस्मिल्ला मोहम्मद ने भी सोशल मीडिया पर कहा है कि पुल-ए-हिसार, बानू और देह-ए-सलाह से तालिबान को खदेड़ दिया गया है। बिस्मिल्लाह मोहम्मद अशरफ गनी की सरकार में रक्षा मंत्री थे।

अमेरिका ने अपने नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट न जाने का निर्देश दिया
अमेरिका ने अपने नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट से दूर रहने का निर्देश दिया है। अमेरिकी दूतावास ने अमेरिकियों से कहा है कि एयरपोर्ट के हालात ठीक नहीं हैं। यहां गोलियां चल रही हैं और अफरातफरी का माहौल है। अमेरिकी नागरिकों से अपील है कि वे अभी काबुल एयरपोर्ट के आसपास भी न जाएं। एयरपोर्ट के हालात सुधरने के बाद सरकार नए निर्देश जारी करेगी।

अफगानिस्तान में फिलहाल 6 हजार अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं। इनमें कई काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा संभाले हुए हैं।
अफगानिस्तान में फिलहाल 6 हजार अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं। इनमें कई काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा संभाले हुए हैं।
खबरें और भी हैं...