अफगानिस्तान में महिलाओं का प्रदर्शन:जिन तालिबानियों के आगे 3 लाख सैनिक झुक गए, वहां 5 महिलाएं डटी हुईं; कहा- हमारी आवाज दबा नहीं सकते

काबुल2 महीने पहले

तालिबान ने बीते रविवार को अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर भी कब्जा कर लिया। इससे पूरे देश पर उसका कंट्रोल हो गया है। जिन तालिबानियों के आगे 3 लाख अफगान सैनिक झुक गए, वहीं कुछ महिलाओं को इनकी हुकूमत मंजूर नहीं है। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के तीसरे ही दिन काबुल में 5 महिलाएं प्रदर्शन करती दिखीं। सामने हथियारबंद लड़ाके थे, जो महिलाओं को घर जाने के लिए कहते रहे।

इन प्रदर्शनकारी महिलाओं ने कहा कि हमें अधिकार चाहिए, जो 20 साल से हमें मिला हुआ था। हम पढ़ने और काम करने की स्वतंत्रता चाहते हैं। राजनीति में भागीदारी हमारा हक है। सोशल एक्टिविटी का अधिकार मिलना चाहिए।

महिलाओं को इग्नोर नहीं कर सकता अफगानिस्तान
हाथ में पोस्टर लिए एक महिला ने कहा कि मौजूदा संविधान के हिसाब से अफगानिस्तान की महिलाओं को फंडामेंटल राइट दिया जाएं। अफगानिस्तान महिलाओं को इग्नोर नहीं कर सकता। अफगान महिलाओं की आवाज कोई भी सत्ता दबा नहीं सकती। 20 साल में अफगान महिलाओं ने जो कुछ हासिल किया है, उसे भूला न जाए। हम लड़ते रहेंगे।

महिलाओं की स्वतंत्रता पर तालिबान का बयान
तालिबान ने मंगलवार को महिलाओं को स्वतंत्रता, मीडिया की आजादी और सबको माफी देने की बात कही। महिलाओं से सरकार में शामिल होने की भी अपील की। तालिबान ने कहा कि महिलाओं को शरिया कानून के तहत हक मिलेंगे। बुर्का पहनकर पढ़ने, काम करने की इजाजत होगी।

यह शरियत से जुड़ा मामला, सिद्धांत नहीं बदलेंगे: तालिबान प्रवक्ता
तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि यह शरियत से जुड़ा मामला है और मुझे इस मामले में बस इतना ही कहना है कि हम शरियत के सिद्धांतों को नहीं बदल सकते हैं। कुछ तालिबान नेताओं का रहन-सहन और पहनावा बदला हुआ नजर आ सकता है, लेकिन संगठन की सोच नहीं बदली है।

काबुल को छोड़कर बाकी प्रांतों में महिलाओं का बुरा हाल
तालिबान ने अपनी छवि बदलने की कोशिश की है। उसने काबुल में महिलाओं को काम पर आने, बाजार जाने जैसी छूट दे दी है, लेकिन यह सिर्फ दुनिया को दिखाने के लिए है। बाकी प्रांतों में अभी ऐसा नहीं है। वहां महिलाएं खौफ की वजह से बाजार तो क्या, घर से बाहर तक नहीं निकल पा रहीं।

हस्तियों की फैंसी तस्वीरों वाले ब्यूटी पार्लर बंद
काबुल की सड़कों पर चलते हुए लगता है कि बाजार धीरे-धीरे खुल रहा है। टॉप हस्तियों की फैंसी तस्वीरों वाले ब्यूटी पार्लर बंद हैं। शहर के कुछ हिस्सों में सड़कों के किनारे तालिबान लड़ाके अफगान पुलिस के वाहनों में गश्त कर रहे हैं।

शहर में बाइक, पिकअप कारों में गर्जना
शहर के दूसरे हिस्सों में तालिबान अपनी बाइक या पिकअप कारों में गर्जना करते हुए दिखाई दे रहे हैं। इन वाहनों पर तालिबान के झंडे लगे हुए हैं। तालिबान ने पुलिस जिला जैसी अहम जगहों पर कुछ अस्थाई चौकियां भी बना ली हैं। काबुल में तालिबान का कब्जा मुहर्रम शुरू होने के साथ हुआ है।

खबरें और भी हैं...