• Hindi News
  • International
  • Imran Khan Afghanistan | Pakistan Prime Minister Imran Khan Latest Reaction After Taliban Capture Kabul

तालिबानी हुकूमत LIVE:काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा के लिए अमेरिका अपने 1 हजार जवान और भेजेगा, सभी सैन्य और कॉमर्शियल विमानों को रोका गया

काबुल3 महीने पहलेलेखक: पूनम कौशल

अफगानिस्तान पर तालिबान ने पूरी तरह से कब्जा कर लिया है। देश छोड़ने के लिए एयरपोर्ट से लेकर हर जगह भागमभाग मची है। 60 से ज्यादा देशों ने तालिबान से अफगानिस्तान छोड़ रहे लोगों को सुरक्षित रास्ता देने की गुजारिश की है।

समाचार एजेंसी एएफपी ने पेंटागन के हवाले से बताया कि काबुल हवाई अड्डे की सुरक्षा के लिए अमेरिका अपने 1 हजार जवानों को भेज रहा है। सुबह अमेरिकी सैनिकों ने 2 हथियारबंद लोगों को मार गिराया था। इस बीच, एयरपोर्ट पर सभी सैन्य और नागरिक उड़ानें रुकी हुई हैं।

वहीं भारतीय अधिकारियों ने बताया कि, अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में इंडियन एंबेसी के राजनयिक कर्मचारियों की सुरक्षा में तैनात ITBP की सशस्त्र टुकड़ी जरूरत पड़ने तक वहां रहेगी।

भारतीय वायु सेना का एक विमान अफगानिस्तान से अपने नागरिकों को लेकर लौटा
सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारतीय वायु सेना का एक C17 ग्लोबमास्टर अपने नागरिकों को लेकर आज दोपहर में ही काबुल से भारत लौट आया है। अभी और भी विमान हैं जो भारतीय नागरिकों को एयरलिफ्ट कर के ला रहे हैं।

तालिबान ने अफगानिस्तान के नेशनल चैनल पर शुरू कर दिया है।
तालिबान ने अफगानिस्तान के नेशनल चैनल पर शुरू कर दिया है।

काबुल एयरपोर्ट पर हादसों में गई 7 लोगों की जान
बताया जा रहा है कि आज सुबह अमेरिकी प्लेन से लटककर भागने के दौरान 7 लोगों की जान गई है। अमेरिकी सैनिकों ने काबुल एयरपोर्ट पर दो हथियारबंद लोगों को मार गिराया है। न्यूज एजेंसी एएफपी ने पेंटागन के हवाले से ये रिपोर्ट दी है।

UNSC की इमरजेंसी मीटिंग, कहा- संयम बरते तालिबान
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने सोमवार को अफगानिस्तान में तालिबान के कब्‍जे से पैदा हुए हालात पर एक आपात बैठक की। बैठक में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने कहा कि मैं सभी पक्षों खासकर तालिबान से गुजारिश करता हूं कि वे लोगों के जीवन की रक्षा करने के लिए संयम बरतें और मानवीय जरूरतों को पूरा करना सुनिश्चित करें।

बीते एक हफ्ते में सुरक्षा परिषद की यह दूसरी बैठक है। गुटेरस ने कहा- मैं सभी देशों से शरणार्थियों को स्वीकार करने की अपील करता हूं। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह सुनिश्चित करने के लिए एकजुट होना होगा कि अफगानिस्तान को दोबारा कभी आतंकवादी संगठनों के लिए सुरक्षित पनाहगाह नहीं बनने दिया जाएगा।

काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के अंदर जाने के लिए लोग दीवार फांद रहे हैं।
काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के अंदर जाने के लिए लोग दीवार फांद रहे हैं।

अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाएगा भारत: विदेश मंत्रालय
अफगानिस्तान की घटना पर विदेश मंत्रालय का बयान आया है। भारत ने कहा है कि हम अफगानिस्तान की घटना पर करीब से नजर बनाए हुए हैं। हम अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाएंगे। हम जानते हैं कि अफगानिस्तान में कुछ भारतीय नागरिक हैं जो वापस लौटना चाहते हैं और हम उनके संपर्क में हैं।

हम हर भारतीय से अपील करते हैं कि वे फौरन भारत लौंटे। हम अफगान सिख, हिंदू समुदायों के प्रतिनिधियों से भी लगातार संपर्क में हैं, जो लोग अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं उन्हें भारत लाने की पूरी सुविधा दी जाएगी।

तालिबान को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा बयान आया है। इमरान ने शनिवार को कहा कि, सालों बाद अफगानिस्तान के लोगों को आजादी मिली है। तालिबान ने गुलामी की जंजीर तोड़ी है। वह समय आने पर तालिबान सरकार को अंतरराष्ट्रीय सहमति, जमीनी हकीकत और अपने देश के राष्ट्रीय हितों के अनुरूप मान्यता देंगे। इससे पहले पाकिस्तान ने काबुल में अपने दूतावास को बंद नहीं करने का फैसला लिया है। अफगानिस्तान की हालिया स्थिति पर इमरान खान पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने तालिबान की तारीफ की है।

तालिबान के मुताबिक, स्थानीय लोग उनके आने से खुश हैं और उनका स्वागत कर रहे हैं।
तालिबान के मुताबिक, स्थानीय लोग उनके आने से खुश हैं और उनका स्वागत कर रहे हैं।

पहली बार बोला चीन, कहा- हम तालिबान से रिश्तों के लिए तैयार
इस बीच, चीन ने कहा है कि अफगानिस्तान तालिबान के साथ 'मैत्रीपूर्ण संबंध' बनाने को तैयार है। तालिबान के कब्जे के बाद यह चीन की ओर से पहली टिप्पणी है। रूस भी तालिबान के संपर्क में है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के विशेष प्रतिनिधि ने कहा वह काबुल में बात कर रहे हैं। दूतावास के अधिकारी तालिबान से मिलकर बात करेंगे।

उज्बेकिस्तान में अफगानिस्तानी मिलिट्री प्लेन क्रैश
समाचार एजेंसी AFP की रिपोर्ट के मुताबिक, उज्बेकिस्तान में अफगानिस्तान का एक मिलिट्री प्लेन क्रैश हो गया है। इसमें एक पायलट के गंभीर होने की खबर है। इस बीच, भारत ने देर शाम काबुल से अपने नागरिकों की वापसी के लिए C17 ग्लोबमास्टर विमान भेजा है।

फ्रांस की सेना ने अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए ऑरलियन्स स्थित ब्रिसी एयर बेस से काबुल के लिए उड़ान भरी।
फ्रांस की सेना ने अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए ऑरलियन्स स्थित ब्रिसी एयर बेस से काबुल के लिए उड़ान भरी।

भारतीयों को निकालने के इंतजाम हो रहे हैं: पुरी
पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से अपील की है कि अफगानिस्तान से 200 सिख समेत सभी भारतीयों को वापस लाने की जल्द व्यवस्था करें। वहीं, अफगानिस्तान से सिखों और हिंदुओं को निकालने पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि विदेश मंत्रालय और इसके लिए जिम्मेदार अन्य सभी अधिकारी इंतजाम कर रहे हैं।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष और अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, ‘वह काबुल और संगत की गुरुद्वारा कमेटी के संपर्क में है, उन्होंने मुझे बताया कि अल्पसंख्यकों ने काबुल के गुरुद्वारे में शरण ली है। तालिबान नेताओं ने उनसे मुलाकात कर सुरक्षा का आश्वासन दिया है।

महिलाओं को ऑफिस नहीं जाने का फरमान
अल जजीरा की रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान के एक अधिकारी का कहना है कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में तालिबान लड़ाकों ने नागरिकों से हथियार इकट्ठा करना शुरू कर दिया है क्योंकि लोगों को अब उनकी व्यक्तिगत सुरक्षा की जरूरत नहीं है। इसके अलावा तालिबान ने कुछ बैंकों की महिला कर्मचारियों से ऑफिस नहीं जाने की चेतावनी दी है।

काबुल एयरपोर्ट पर पाकिस्तान के 2 विमान फंसे
काबुल एयरपोर्ट पर रनवे के इस्तेमाल की इजाजत नहीं मिलने से पाकिस्तान के 2 विमान फंसे हैं। ये विमान पाकिस्तानी नागरिकों को वापस लाने गए थे। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्तान में हालात चिंताजनक हैं लेकिन दूतावास बंद करने पर अभी फैसला नहीं लिया गया है।

अमेरिका, ब्रिटेन समेत 60 देशों ने काबुल छोड़ने वाले लोगों को सुरक्षित रास्ता देने का अनुरोध किया
अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, जर्मनी और कनाडा सहित 60 से अधिक देशों ने उन लोगों को सुरक्षित रास्ता देने का अनुरोध किया है जो अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं। फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली ने बताया कि सोमवार शाम से फ्रांसीसी नागरिकों को एयरलिफ्ट किया जाएगा। इन्हें काबुल से संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में फ्रांस के एक सैन्य बेस पर लाया जााएगा। पार्ली ने यह भी बताया कि एयरलिफ्टिंग के लिए दो सैन्य विमानों का इस्तेमाल किया जाएगा।

मुल्ला हिबतुल्लाह अखुंदजादा अफगान का नया अमीर (लीडर) होगा
अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार के नए प्रमुख का नाम सामने आया है। दैनिक भास्कर को तालिबान सूत्रों से पता चला है कि मुल्ला हिबतुल्लाह अखुंदजादा अफगान का नया अमीर (लीडर) होगा। हिबतुल्लाह कंधार का रहने वाला है। तालिबान में मजहबी फैसले वही लेता है। हत्यारों और अवैध संबंध रखने वालों की हत्या का आदेश हिब्तुल्लाह ने ही दिया था। तालिबान में उसका आधिकारिक टाइटल अमीरुल मोमेनिन शेख हिबतुल्ला अखुंदजादा है।

एयरपोर्ट पर भगदड़ का माहौल, फायरिंग में पांच लोगों की मौत
अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा होने के बाद काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़ हो गई है। फिलहाल एयरपोर्ट अमेरिकी सैनिकों के कंट्रोल में है। रॉयटर्स के मुताबिक, एयरपोर्ट पर हुई गोलीबारी में पांच लोग मारे गए हैं और कई लोग घायल हुए हैं। वीडियो में एयरपोर्ट पर लाशें नजर आ रही हैं।

इसी बीच काबुल में कई इलाकों में लूटपाट की खबरें हैं। सरकारी नंबर प्लेट वाली गाड़ियां लूटी जा रही हैं। कुछ लोगों ने अपनी निजी गाड़ियां छीने जाने का भी दावा किया है। एयरपोर्ट के पास आवासीय कॉलोनी में गोलीबारी हुई है। वहीं सरकारी एजेंसियों के दफ्तरों में लूटपाट हुई है। तालिबान का कहना है कि अराजक तत्वों ने तालिबान के नाम पर लूटपाट की है और संवेदनशील दस्तावेज जला दिए हैं।

काबुल एयरपोर्ट पर बिछीं लाशें

हिजाब न पहनने वाली महिलाओं को तालिबान ने गोली मारी
अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान सभी को ये मैसेज देने की कोशिश कर रहा है कि वो अफगानियों की जान-माल की हिफाजत करेगा, लेकिन काबुल एयरपोर्ट से एक चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है। भास्कर को सूत्रों ने बताया कि एयरपोर्ट के नजदीक कई ऐसी महिलाओं को गोली मार दी गई है, जिन्होंने हिजाब नहीं पहना था। हालांकि, तालिबान के एक सूत्र ने इस खबर को गलत बताया है। उसने कहा कि ये अफवाहें तालिबान को बदनाम करने के लिए उड़ाई जा रही हैं।

फायरिंग के बाद एयरपोर्ट पर भगदड़ मच गई। इसका वीडियो भी सामने आया है। सूत्र के मुताबिक, तालिबानियों की फायरिंग के बाद अमेरिकी सैनिकों ने भी जवाबी फायरिंग की है।

इस घटना की तालिबान ने नहीं की पुष्टि
तालिबान से जुड़े एक सूत्र ने दैनिक भास्कर को बताया है- सबकुछ बहुत तेजी से हुआ है। कई इलाकों में तालिबान अपने लड़ाके तैनात नहीं कर पाए हैं। शहर के कई हिस्सों से लूटपाट की खबरे हैं, इनसे निपटा जा रहा है। एयरपोर्ट की सुरक्षा तालिबान के हाथ में नहीं हैं। वहां की घटना की हम पुष्टि नहीं कर सकते हैं।

काबुल में हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाहर खड़े तालिबानी। यहां पर तालिबानियों की फायरिंग के बाद अमेरिकी सैनिकों ने भी जवाबी फायरिंग की है।
काबुल में हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाहर खड़े तालिबानी। यहां पर तालिबानियों की फायरिंग के बाद अमेरिकी सैनिकों ने भी जवाबी फायरिंग की है।

एयरपोर्ट पर 6 हजार सैनिक तैनात करेगा अमेरिका
हालांकि, अमेरिका ने कहा है कि वह एयरपोर्ट पर अपने 6 हजार सैनिक तैनात करेगा, ताकि नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके। अभी काबुल एयरपोर्ट पर भगदड़ जैसे हालात हैं। देश छोड़ने के लिए लोग हजारों की तादाद में वहां जमा हो गए हैं। कई ऐसे भी हैं जो बिना कोई सामान लिए एयरपोर्ट पर पहुंच गए हैं।

मलाला युसुफजई ने ट्वीट कर जताया दुख
तालिबान की बंदूक का निशाना बन चुकीं पाकिस्तानी एक्टिविस्ट मलाला युसुफजई ने ट्वीट करके कहा कि- अफगानिस्तान पर तालिबान को कब्जा करते हुए देखकर हम सदमे में हैं। मैं महिलाओं, अल्पसंख्यकों और मानवाधिकार के हिमायती लोगों को लेकर बहुत चिंतित हूं। वैश्विक, क्षेत्रीय और स्थानीय ताकतों को मिलकर तुरंत सीजफायर की मांग करनी चाहिए और लोगों को तत्काल मदद पहंचानी चाहिए। शरणार्थियों और नागरिकों की रक्षा की जानी चाहिए।

पूरे काबुल में तालिबानी झंडे, आज पहुंचेगा मुल्ला बरादर
तालिबान काबुल में आजादी की अपनी पहली सुबह मना रहा है। पूरे शहर में सफेद तालिबानी झंडे दिखाई दे रहे हैं। तालिबानी नेता सोशल मीडिया पर इस बार ज्यादा सक्रिय नजर आ रहे हैं और शांति का मैसेज देने की कोशिश कर रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक, तालिबानी नेता मुल्ला बरादर अपने साथियों के साथ आज काबुल पहुंचेगा। अभी उसके कतर में होने की खबर है। रविवार को उसने एक बयान जारी किया था। बरादर ने कहा था कि हमें इतनी आसानी से अफगानिस्तान पर कब्जा होने की उम्मीद नहीं थी।

तालिबान काबुल में आजादी की पहली सुबह मना रहा है। पूरे शहर में तालिबान के सफेद झंडे लगे हैं।
तालिबान काबुल में आजादी की पहली सुबह मना रहा है। पूरे शहर में तालिबान के सफेद झंडे लगे हैं।

तालिबान ने कहा- अब जंग खत्म
तालिबान के पॉलिटिकल प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने अलजजीरा TV को एक इंटरव्यू दिया है। इसमें नईम ने कहा- 'आज अफगानी लोगों और मुजाहिदीन के लिए बड़ा और महान दिन है। 20 साल के बलिदान और संघर्ष का फल आज वे देख रहे हैं। अल्लाह का शुक्र है कि जंग अब खत्म हो गई है। हम अलग-थलग नहीं रहना चाहते हैं और हम शांतिपूर्ण अंतरराष्ट्रीय संबंध चाहते हैं। हम किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते हैं और हम किसी को अपनी जमीन का इस्तेमाल किसी दूसरे को निशाना बनाने के लिए नहीं करने देंगे।'

खबरें और भी हैं...