तालिबान का नया फरमान:कहा- गाड़ी चलाना महिलाओं का काम नहीं, इन्हें ड्राइविंग लाइसेंस न दिया जाए

काबुल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तालिबानी अधिकारियों ने महिलाओं के अधिकार सीमित करने की तरफ एक और कदम बढ़ाया है। अफगानिस्तान के सबसे हेरात शहर में तालिबानी अधिकारियों ने सभी ड्राइविंग इंस्टीट्यूट से महिलाओं का लाइसेंस इश्यू न करने का फरमान जारी किया है। अफगानिस्तान में पहले भी कई दफा महिलाओं पर पाबंदियां लगाई जा चुकी हैं।

हेरात शहर में ड्राइविंग करने वाली महिलाओं की संख्या पहले से ही कम थी। तालिबान के सत्ता पर काबिज होने के बाद अफगानिस्तान में महिलाओं की हालत बद से बदतर हो रही है। जो औरतें पहले से ड्राइविंग कर रही थी, अब उनसे ये अधिकार भी छीना जा रहा है।

क्या कहती हैं अफगानी महिलाएं
हेरात प्रांत के ट्रैफिक मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट की हेड और ड्राइविंग इंस्ट्रक्टर जान आगा कहती हैं- हमें इस बात के लिए कोई नोटिस तो नहीं मिला है। हालांकि, हमें मौखिक तौर पर ही महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस इश्यू न करने के लिए कहा गया है।

29 साल की अदीला अफगानिस्तान में ड्राइविंग इंस्ट्रक्टर का काम करती हैं। वे कहती हैं- तालिबान चाहता है हमारी आने वाली पीढ़ी को वो अधिकार न मिले, जो हमें मिले। वे इन सब से महरुम रह जाएं। इसीलिए हमे कहा गया है हम भविष्य में किसी औरत को ड्राइविंग लाइसेंस न दें। वहीं, सहिमा का कहना है कि वह किसी अनजान टैक्सी ड्राइवर के पीछे बैठने की बजाय खुद गाड़ी चलाने में सेफ फील करती हैं।

महिला अधिकारों को लगातार सीमित कर रहा है तालिबान

सरकार बनने के एक महीने बाद ही सोशल मीडिया पर ये तस्वीर खूब वायरल हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक महिला पर अश्लीलता फैलाने का आरोप था। जिसकी सजा कौड़े मारकर दी गई थी। (फाइल)
सरकार बनने के एक महीने बाद ही सोशल मीडिया पर ये तस्वीर खूब वायरल हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक महिला पर अश्लीलता फैलाने का आरोप था। जिसकी सजा कौड़े मारकर दी गई थी। (फाइल)

तालिबान ने काबुल पर कब्जा करने के बाद कहा था- हम 1996 के शासन की तरह इस बार महिलाओं के अधिकारों के साथ किसी कोई खिलवाड़ नहीं करेंगे। वे इस्लाम के दायरे में रहकर महिलाओं की शिक्षा और रोजगार के अवसर पैदा करेंगे।

लेकिन हर दिन तालिबान महिला अधिकारों को सीमित कर रहा है। चाहे वो स्कूल बंद करना हो, सरकारी दफ्तर के दरवाजे महिलाओं के लिए बंद करना हो। तालिबान अपने पुराने रूप में वापसी कर रहा है।

पहले अकेले हवाई सफर करने पर लगाई थी रोक
इससे पहले मार्च में तालिबान ने महिलाओं के अकेले हवाई सफर पर पाबंदी लगा दी थी। इसे लेकर तालिबान ने जो आदेश लागू किया था, उसमें कहा गया था कि महिलाओं को किसी पुरूष (अभिभावक या पति) की मौजूदगी में ही हवाई यात्रा करने की परमिशन दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...