• Hindi News
  • International
  • Taliban Pakistan | Taliban Supplied US Military Equipment And Weapons To Pakistan, Video Goes Viral

तालिबान की नई हरकत:अफगान हुकूमत अमेरिकी हथियार और बख्तरबंद गाड़ियां PAK भेज रही, वीडियो सामने आया

काबुल/इस्लामाबाद12 दिन पहले

15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान के नए कारनामे सामने आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। यह वीडियो अफगानिस्तान के एक पत्रकार ने जारी किया है। इसमें दिखाई देता है कि कैसे बड़े-बड़े ट्रॉलों के जरिए हथियार और बख्तरबंद गाड़ियां अफगानिस्तान से पाकिस्तान भेजी जा रही हैं। ये वही हथियार और गाड़ियां हैं, जो अमेरिकी सेना वापसी के वक्त अफगानिस्तान में छोड़ गई थी और अब इन पर तालिबान का कब्जा है। अब तक ये साफ नहीं हो सका कि तालिबानी हुकूमत ये सामान पाकिस्तान क्यों भेज रही है।

क्या है वीडियो में
सोशल मीडिया पर यह वीडियो अफगान जर्नलिस्ट माजिद करार ने पोस्ट किया है। बाद में इसकी समरी कनाडा के पूर्व डिप्लोमैट क्रिस एलेक्जेंडर ने अफगानिस्तान के ही एक और जर्नलिस्ट हबीब खान के हवाले से पोस्ट की है। हबीब दुनिया के कई बड़े मीडिया हाउसेज के लिए काम कर चुके हैं।

वीडियो अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच चमन बॉर्डर का बताया जाता है। इसमें दिखाई देता है कि अफगानिस्तान से कुछ बख्तरबंद गाड़ियां पाकिस्तान की तरफ ट्रॉलों में लोड करके भेजी जा रही हैं। माना जा रहा है कि कुछ हथियार भी पाकिस्तान भेजे गए हैं।

अमेरिकी सैनिकों के लौटने के बाद तालिबान के खास दस्ते 'बदरी' ने हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय काबुल हवाई अड्डे को अपने कब्जे में ले लिया था। इन्होंने अमेरिकी सैनिकों के साज-ओ-सामान को ही इस्तेमाल किया था।
अमेरिकी सैनिकों के लौटने के बाद तालिबान के खास दस्ते 'बदरी' ने हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय काबुल हवाई अड्डे को अपने कब्जे में ले लिया था। इन्होंने अमेरिकी सैनिकों के साज-ओ-सामान को ही इस्तेमाल किया था।

क्या होगा इस सामान का
अब तक यह साफ नहीं हो सका है कि तालिबानी हुकूमत आखिर इस सामान को पाकिस्तान क्यों भेज रही है। क्या इनका इस्तेमाल पाकिस्तान सेना करेगी? क्या तालिबान ने इन्हें पाकिस्तान को किसी सौदेबाजी के तहत दिया है? या फिर इन्हें रिपेयरिंग के लिए भेजा गया है।

हालांकि, ये पहली बार नहीं है जब तालिबान और पाकिस्तान के बारे में यह बात सामने आई है। मिलिट्री एक्सपर्ट पहले ही यह वॉर्निंग दे चुके हैं कि तालिबान और पाकिस्तानी सेना अमेरिकी हथियारों और दूसरे मिलिट्री इक्युपमेंट्स का गलत फायदा उठा सकते हैं।

अमेरिकी सैनिकों ने अफगानिस्तान से लौटते वक्त यहां मौजूद अपने कुछ एयरक्राफ्ट्स के पार्ट्स निकालकर उन्हें इस्तेमाल के लायक नहीं छोड़ा था।
अमेरिकी सैनिकों ने अफगानिस्तान से लौटते वक्त यहां मौजूद अपने कुछ एयरक्राफ्ट्स के पार्ट्स निकालकर उन्हें इस्तेमाल के लायक नहीं छोड़ा था।

नई सेना में शामिल होंगे पुरानी आर्मी के पायलट
तालिबानी फिलहाल जिन हथियारों और उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं, उनमें से ज्यादातर हथियार और उपकरण अमेरिका ने पूर्व अफगान सरकार को सप्लाई किए थे। तालिबान अब अफगान नेशनल आर्मी के पायलट, मैकेनिक्स और अन्य विशेषज्ञों को भी सेना में शामिल कर रहा है। हालांकि, उसके सामने आईएसआएस खुरासान के रूप में एक बहुत बड़ी चुनौती सामने है।

28 अरब डॉलर से ज्यादा के हथियार और उपकरणों की सप्लाई

  • स्पेशल इंस्पेक्टर जनरल फॉर अफगानिस्तान रिकंस्ट्रक्शन (Sigar) की रिपोर्ट पिछले साल आई थी।
  • रिपोर्ट में साल 2002 से 2017 के बीच का डेटा दिया गया था।
  • अमेरिकी सरकार ने अफगान सरकार को हथियार, वाहन, एयरक्राफ्ट और कई रक्षा उपकरण दिए।
  • 15 सालों तक सप्लाई किए हथियारों और उपकरणों की कीमत 28 अरब डॉलर से ज्यादा बताई गई।
  • अमेरिका के अफगानिस्तान छोड़ने के बाद कई विमान वहीं छूट गए थे।
  • अफगानिस्तान छोड़ने से पहले अमेरिकी सैनिकों ने करीब 70 विमान नष्ट कर दिए थे।
  • एयर डिफेंस सिस्टम को भी डिसेबल कर दिया था।