पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • Tech Companies Are Giving Extra Holidays To Take Care Of Children, Employees Who Have No Children Are Treating It As Discrimination

अमेरिकी टेक्नोलॉजी कंपनियों की परेशानी:टेक कंपनियां बच्चों की देखभाल के लिए दे रहीं एक्स्ट्रा छुट्टियां, जिन कर्मचारियों के बच्चे नहीं वे इसे भेदभाव बता रहे

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिलिकाॅन वैली, सैनफ्रांसिस्को कैलिफोर्निया में फेसबुक का नया मुख्यालय। (फाइल)
  • फेसबुक, ट्विटर, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल ने बच्चों की देखभाल के लिए स्टाफ को अतिरिक्त छुटि्टयां दीं
  • सबसे अधिक आपत्तियां फेसबुक की अंदरूनी बैठकों और मैसेज बोर्ड पर संदेशों में सामने आईं

(दाइसुके वाकाबयाशी, शीरा फ्रेंकेल). अमेरिका में कोरोना वायरस के बाद स्कूल और बच्चों की देखभाल के सेंटर बंद हो गए। इससे पैरेंट्स के लिए मुश्किल हो गई। इन हालात में टेक्नोलॉजी कंपनियों ने कर्मचारियों की मदद की। जिन स्टाफर्स के बच्चे हैं, उन्हे बच्चों का ख्याल रखने के लिए ज्यादा वक्त और छुटि्टयां दीं। अब वे कर्मचारी कंपनियों के इस कदम पर ऐतराज जता रहे हैं कि जिनके बच्चे नहीं हैं।

फेसबुक और ट्विटर में नाराजगी सामने आई

फेसबुक की एक मीटिंग में ऐसी नीतियों पर सवाल खड़े किए गए, जिनसे पैरेंट्स को ही फायदा है। टि्वटर में मैसेज बोर्ड पर विवाद सामने आया। एक कर्मचारी का बच्चा नहीं है, उसने बच्चे की देखभाल के लिए छुट्टी लेने वाले दूसरे कर्मचारी पर आरोप लगाया।

कर्मचारियों का ऐतराज

सेल्स फोर्स कंपनी में पैरेंट्स को 6 हफ्ते की छुट्टी दी रही है और इस दौरान सैलरी भी पूरी मिलेगी। लेकिन, एक मैनेजर ने बताया कि दो ऐसे कर्मचारियों ने इस पर ऐतराज जताया। इनके बच्चे नहीं हैं। उनका आरोप है कि उन कर्मचारियों को ज्यादा छु्ट्टियां दी जा रही हैं जिनके बच्चे हैं। कई टेक कंपनियों के ऐसे कुछ कर्मचारी कहते हैं कि इन पॉलिसीज से उन्हें ऐसा लगता है जैसे उनका ध्यान नहीं रखा जा रहा।

दूसरी ओर, ऐसे कर्मचारी जो पैरेंट्स हैं, वे कहते हैं- ये बात वो लोग नहीं समझ सकते जिनके बच्चे नहीं हैं। काम और बच्चों के बीच बैलेंस रखना आसान नहीं है। चाइल्ड केयर सेंटर्स बंद होने से काफी दिक्कत हुई। बच्चों को घर पर पढ़ाना भी पड़ता है।

यहां विवाद ज्यादा

उन टेक्नोलॉजी कंपनियों में विवाद ज्यादा है, जहां युवा कर्मचारी अधिक हैं। वे भरपूर काम के बदले अच्छी सैलरी और सुविधाओं की उम्मीद रखते हैं। महामारी फैलते ही सबसे पहले टेक कंपनियों ने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी। इससे साफ हो गया कि बच्चे घर में रहेंगे तो उन्हें आराम से छुटि्टयां और दूसरी सुविधाएं दी गईं। ये दिक्कत फेसबुक में ज्यादा है।

मार्च में फेसबुक ने बच्चों और बीमार बुजुर्ग रिश्तेदारों की देखभाल के लिए कर्मचारियों को दस सप्ताह की सैलरी समेंत छुट्टी दी। गूगल और माइक्रोसॉफ्ट ने भी यही किया। फेसबुक चीफ मार्क जकरबर्ग ने कहा कि कंपनी 2020 के पहले छह महीनों के काम के आधार पर कर्मचारियों का वैल्यूएशन नहीं करेगी। टि्वटर में भी विवाद चल रहा है। वहां कर्मचारियों को छुटिट्यों की सुविधा बहुत ज्यादा है। एक कर्मचारी ने लिखा, पैरेंट्स कर्मचारियों ने ज्यादा छुट्टियां लीं।

स्टाफ का आरोप है कि कुछ वक्त से फेसबुक में इस पर इंटरनल फोरम्स पर बातचीत भी बंद है। ऑफिस अक्टूबर तक बंद रहेंगे। कैलिफोर्निया में ऑनलाइन स्कूल शुरू होने पर कंपनी ने अगस्त में कहा कि उसकी छुटि्टयों की नीति जून 2021 तक जारी रहेगी। इस साल कुछ छुटि्टयां लेने वाले कर्मचारी अगले साल भी दस हफ्ते की छुट्टी ले सकते हैं। इससे वे कर्मचारी खफा हैं जिनके बच्चे नहीं हैं। कुछ ने लिखा कि कंपनी को उनकी जरूरतों की कम चिंता है।

कर्मचारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग में सवाल उठाए गए

फेसबुक की मुख्य ऑपरेटिंग अधिकारी शेरिल सैंडबर्ग ने 20 अगस्त को कंपनी के सभी कर्मचारियों की वीडियो कांफ्रेंस बुलाई थी। दो हजार से अधिक कर्मचारियों ने पूछा- फेसबुक ऐसे कर्मचारियों के लिए क्या कर रही है जिनके बच्चे नहीं हैं। एक कर्मचारी ने लिखा, यह गलत है कि संतानहीन लोगों को ऐसी सुविधाएं नहीं हैं, जैसी पैरेंट्स कर्मियों को दी गई हैं।

बच्चों वाले एक कर्मचारी ने लिखा, यह सवाल नुकसान पहुंचाने वाला है। सैंडबर्ग ने कहा, वे पैरेंट्स को फायदा पहुंचाने के सवाल से सहमत नहीं हैं। सभी कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए एक हजार डॉलर दिए गए हैं। जनरल बोनस सभी को मिला है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें