अमेरिका में आया पोलियो का केस:बीमारी के खत्मे के ऐलान के 10 साल बाद न्यूयॉर्क में 20 साल के युवक में वायरस मिला

वॉशिंगटन6 महीने पहले

अमेरिका के न्यूयॉर्क में पोलियो का एक मरीज मिला है। यहां रॉकलैंड काउंटी में रहने वाले बीस साल के एक युवक में पोलियो का वायरस मिला है। स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने उसकी जांच के बाद गुरुवार को इसकी जानकारी दी। दस साल पहले अमेरिका को पोलियो मुक्त घोषित किया गया था। उसके बाद यह पहला केस मिला है।

20 साल के इस व्यक्ति को जून में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। द वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार युवक की करीब एक महीने तक कई प्रकार की जांचें की गईं। रोगी को छुट्टी दे दी गई है और वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ घर पर रह रहा है। व्यक्ति खड़े होने में सक्षम है, लेकिन उसे चलने में कठिनाई हो रही है।

द वाशिंगटन पोस्ट के अनुसार- एक स्वास्थ्य अधिकारी ने इसकी जानकारी देते बताया- पोलियो एक वायरल बीमारी है, जो तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकती है, जिससे मांसपेशियों में कमजोरी हो सकती है और कुछ मामलों में मौत भी हो सकती है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है- 95 प्रतिशत लोगों में पोलियो का कोई लक्षण नहीं है, फिर भी वे वायरस फैला सकते हैं। काउंटी स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. पेट्रीसिया श्नाबेल रूपर्ट ने कहा- हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। हम न्यूयॉर्क राज्य स्वास्थ्य विभाग, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

पाकिस्तान में 11 और अफगानिस्तान में 1 केस
पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा के नॉर्थ वजीरिस्तान में पोलियो के 11 मामले हैं। पोलियो वैक्सीनेशन टीम घर-घर जाकर बच्चों को ओरल वैक्सीन दे रही हैं। खैबर के नॉर्थ और साउथ वजीरिस्तान के अलावा डेरा इस्माइल खान, बन्नू, टांक और लक्की मरवात जिलों में भी केस सामने आते रहे हैं। अप्रैल और मई की शुरुआत में दो केस सामने आए थे। इसके अलावा अफगानिस्तान में भी पोलियो का फिलहाल एक केस है।

दुनिया में 99% इस वायरस पर काबू पाया जा चुका है। लेकिन पाकिस्तान में अब भी इसके केस सामने आ रहे हैं। पाकिस्तान और अफगानिस्तान में पोलियो वर्कर्स की टीम पर कई हमले हो चुके हैं। इनमें कई वर्कर्स को जान गंवानी पड़ी है।
दुनिया में 99% इस वायरस पर काबू पाया जा चुका है। लेकिन पाकिस्तान में अब भी इसके केस सामने आ रहे हैं। पाकिस्तान और अफगानिस्तान में पोलियो वर्कर्स की टीम पर कई हमले हो चुके हैं। इनमें कई वर्कर्स को जान गंवानी पड़ी है।

पोलियो केस सामने आने की 2 वजह
पाकिस्तान के नॉर्थ वजीरिस्तान में केस सामने आते हैं। इसकी दो वजहें अहम हैं। पहली- यहां के लोग पोलियो वैक्सीनेशन कराने में लापरवाही करते हैं। दूसरी- वैक्सीनेशन के बाद फिंगर मार्किंग या निशान नहीं लगवाते। खैबर की सीमा अफगानिस्तान से लगती है। यहां चेक पोस्ट्स पर भी पोलियो की ओरल ड्रॉप दी जाती है। इसके बावजूद सबसे ज्यादा मामले यहीं से सामने आ रहे हैं।