सोमालिया में मुंबई जैसा आतंकी हमला:आतंकियों ने हयात होटल में घुसकर फायरिंग की, 8 लोगों की मौत; कई घायल

मोगादिशु3 महीने पहले

सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में शुक्रवार की देर रात आतंकी हमला हुआ। आतंकियों ने हयात होटल में घुसकर फायरिंग की, जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई है और 9 घायल हो गए। खबर है कि पहले हयात होटल के बाहर खड़ी 2 कारों में ब्लास्ट हुए। इसके बाद आतंकी होटल में घुसे और लोगों के बीच फायरिंग शुरू कर दी।

न्यूज एजेंसी AFP के मुताबिक, होटल में सिक्योरिटी फोर्स और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। हमले में मोगादिशु के खुफिया प्रमुख मुहीदीन मोहम्मद घायल हुए हैं। फिलहाल 8 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इस्लामी आतंकवादी समूह अल-शबाब ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

28 जुलाई को सोमालिया में अलग-अलग बम हमलों में 19 लोगों की मौत हो गई थी।

ये हयात होटल की तस्वीर है। यहां सरकारी अधिकारी अपने परिवार के साथ ठहरते हैं।
ये हयात होटल की तस्वीर है। यहां सरकारी अधिकारी अपने परिवार के साथ ठहरते हैं।

क्यों कह रहे मुंबई जैसा हमला
26 नवंबर 2008 में भारत के मुंबई में भी ऐसा ही हमला हुआ था। आतंकियों ने ताज होटल में घुसकर फायरिंग और ब्लास्ट किए थे। इस हमले में 9 हमलावरों समेत करीब 180 लोगों की मौत हो गई थी। यहां 10 आतंकी बैग में 10 एके-47, 10 पिस्टल, 80 ग्रेनेड, 2 हजार गोलियां, 24 मैगजीन, 10 मोबाइल फोन, विस्फोटक और टाइमर्स लेकर घुसे थे।

क्या है अल-शबाब

  • अल-शबाब एक आतंकी संगठन है। इसका मकसद 2017 में बनी सोमालिया सरकार को जड़ से उखाड़ना है।
  • अल-शबाब का जन्म 2006 में हुआ। ये सऊदी अरब के वहाबी इस्लाम को मानता है।
  • मोगादिशू शहर यूनियन ऑफ इस्लामिक कोर्ट्स के कब्जे में था, जो कि शरिया अदालतों का एक संगठन था। इसका मुखिया शरीफ शेख अहमद था। 2006 में इथियोपिया की सेना ने इस संगठन को हरा दिया और अल-शबाब का जन्म हुआ। अल-शबाब यूनियन ऑफ इस्लामिक कोर्ट्स की ही एक कट्टरपंथी शाखा है।
अल-शबाब आतंकी संगठन में दुनिया के कुछ सबसे खूंखार और खतरनाक आतंकवादी शामिल हैं, जो आत्मघाती हमलों को अंजाम देने के लिए तैयार रहते हैं।
अल-शबाब आतंकी संगठन में दुनिया के कुछ सबसे खूंखार और खतरनाक आतंकवादी शामिल हैं, जो आत्मघाती हमलों को अंजाम देने के लिए तैयार रहते हैं।

अल-शबाब के बड़े हमले

  • 2017 में मोगादिशू शहर में ब्लास्ट हुआ था। इस हमले में 275 लोगों की मौत हो गई थी।
  • अल-शबाब आतंकियों ने 2016 में केन्या के सैन्य शिविर पर हमला किया था। इसमें 180 सैनिकों की मौत हो गई थी।
  • 2015 में केन्या की यूनिवर्सिटी पर आतंकी हमला हुआ था। इस दौरान 148 छात्र मारे गए थे।
खबरें और भी हैं...