• Hindi News
  • International
  • The Elderly Couple Of Kerala Beat Corona At The Age Of 93 And 88, The Grandson Said Grandpa's Six pack Body Without Going To The Gym

जज्बा और जीत:केरल के बुजुर्ग दंपती ने 93 और 88 साल की उम्र में कोरोना को हराया; पोते ने कहा- दादा कभी जिम नहीं गए, पर उनके सिक्स पैक हैं

तिरुअनंपुरम (केरल)2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बुजुर्ग दंपति कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुकी है। डॉक्टर इनकी सादी जीवनशैली और पौष्टिक खान-पान को ठीक होने की सबसे बड़ी वजह मान रहे हैं। - Dainik Bhaskar
बुजुर्ग दंपति कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुकी है। डॉक्टर इनकी सादी जीवनशैली और पौष्टिक खान-पान को ठीक होने की सबसे बड़ी वजह मान रहे हैं।
  • बुजुर्ग दंपती पिछले महीने इटली से लौटे बेटे, बहू और पोते के संपर्क में आने की वजह से संक्रमित हुए थे, अब परिवार के पांचों सदस्य संक्रमण मुक्त
  • केरल सरकार ने इनका इलाज कर रही मेडिकल टीम की तारीफ की, कहा- इनका बचना किसी चमत्कार से कम नहीं

दुनियाभर में कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा बुजुर्गों की मौत हो रही है। ऐसे में केरल के 93 साल के थॉमस अब्राहम और उनकी 88 साल की पत्नी मरियम्मा ने कोरोना को मात देकर डॉक्टरों को चौंका दिया। यह दोनों पिछले महीने इटली से लौटे बेटे, बहू और पोते के संपर्क में आने की वजह से संक्रमित हुए थे। हालांकि, अब परिवार के पांचों सदस्य संक्रमण मुक्त हो गए हैं।   बुजुर्ग दंपति के स्वस्थ होने का राज उनकी जीवनशैली है। इसका खुलासा दंपति के पोते रिजो मोनसी ने किया। रिजो बताते हैं कि 93 साल के उनके दादा ने बिना जिम गए सिक्स पैक बॉडी बनाई है। उन्होंने कभी शराब या सिगरेट को हाथ तक नहीं लगाया।  

आईसोलेशन में भी खाने का रखा ध्यान
केरल के पथानामथिट्टा जिले के रहने वाले थॉमस किसान हैं। रिजो के मुताबिक आइसोलेशन में रहने के दौरान उनके दादा-दादी ने हमेशा सादे और पौष्टिक खाने पर ध्यान दिया। दादा पझनखानजी(चावल से बनी डिश) खाना पसंद करते हैं। यह केरल का प्रसिद्ध भोजन है। यह दलिया और चावल को मिलाकर बनता है। इसके अलावा फल और कटहल की सब्जी खाते थे जबकि दादी मछली-कड़ी खाना पसंद करती हैं। 

बुजुर्ग दंपती जल्द अस्पताल से डिस्चार्ज होगी
बुजुर्ग दंपति का इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि जब ये भर्ती हुए थे तो इनकी हालत काफी खराब थी। इनका बचना मुश्किल लग रहा था, लेकिन धीरे-धीरे ये ठीक होते गए। दोनों अंदर से काफी मजबूत हैं। इन्हें जिंदगी जीने की सही तरीका मालूम है। एक-दो दिन में इन्हें अस्पताल से छुट्‌टी दे दी जाएगी। डॉक्टरों ने बताया कि बुजुर्ग दंपति के पोते ने दोनों की जीवनशैली के बारे में बताया था। तब लगा कि ये मजाक कर रहा है। लेकिन अब यकीन हो गया। डॉक्टर इसे किसी चमत्कार से कम नहीं मान रहे है।      

राज्य सरकार ने की प्रशंसा
बुजुर्ग दंपति के ठीक होने पर केरल सरकार ने डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की तारीफ की। राज्य सरकार ने कहा- यह चमत्कार है कि बुजुर्ग दंपती कोरोना से बच गए। डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों ने इसके लिए काफी मेहनत की है। दंपती के इलाज में सात डॉक्टरों की टीम लगी थी। इसके अलावा 40 मेडिकल स्टाफ, जिसमें 25 नर्स भी शामिल थीं। 

पोते को कहा था कि इटली से ज्यादा सुरक्षित है
रिजो इटली में रेडियोलॉजिस्ट हैं। उन्होंने बताया कि हम अगस्त में केरल आने की योजना बना रहे थे। लेकिन मेरे दादाजी ने जल्दी आने को कहा। यह वाकई में चमत्कार है। अब हमें लगता है कि यह उनका आशीर्वाद ही था। नहीं तो ऐसी स्थिति में हम इटली में होते। जहां संक्रमण काफी फैला हुआ है और हजारों लोगों की जान जा चुकी है। दादाजी ने यह कहा था कि हम लोग इटली से ज्यादा सुरक्षित केरल में रहेंगे।

खबरें और भी हैं...