• Hindi News
  • International
  • The New Trend Of Knowing The Past In Blacks; Tracing The Ancestors By Making A Family Tree, It Gave Many Proud Stories

श्वेतों के इतिहास के बाद अश्वेत लिख रहे नई इबारत:अश्वेतों में अतीत जानने का नया ट्रेंड; फैमिली ट्री बनाकर पुरखों का पता लगा रहे, इससे गर्व की कई कहानियां मिलीं

वाॅशिंगटनएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका में श्वेत लोगों के पास तो समाचार-पत्रों और पाठ्यपुस्तकों में उनकी विरासत की ऐसी कई कहानियां दर्ज हैं, जो उन्हें श्रेष्ठता और गर्व महसूस कराती हैं। मगर अश्वेत लोगों के पूर्वजों की ऐसी कहानियां अतीत के पन्नों में कहीं गुम हो गई हैं। अश्वेतों ने इन्हीं पन्नों की धूल झाड़कर अपने पूर्वजों का इतिहास खोजने के लिए ‘फैमिली ट्री’ बनाने की मुहिम शुरू की है। इसमें वे अपने पूर्वजों के बारे में जानकारियां जुटाते हैं।

दिलचस्प ये कि उन्हें पूर्वजों की उपलब्धियां पता भी चलने लगी हैं। दरअसल, अमेरिका में 2020 में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा बबर्रता से की गई हत्या ने अमेरिकी अश्वेताें की चिंताएं बढ़ा दी हैं। 56 वर्षीय सैम्पसन कहते हैं, जॉर्ज फ्लॉयड की जैसे हत्या हुई, उससे हम सभी पीड़ित महसूस करने लगे। यह सभी अश्वेताें का अपमान था। हमें नई ताकत हासिल करने के लिए अपने पूर्वजों के इतिहास से जुड़ने की जरूरत है।

अब जरा कल्पना कीजिए कि अतीत के पन्ने पलटते हुए कभी अचानक आपको ये पता चले कि आपके पूर्वज इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षराें में दर्ज हैं तो आपको कैसा लगेगा? ठीक वैसी ही अनुभूति हुई फिलाडेल्फिया में रहने वाली अश्वेत एंबर जैक्सन को, जब 19 साल की रिसर्च के बाद उन्हें पता चला कि वे दासता प्रथा के खिलाफ आंदोलन चलाने वाली महान नेता हैरियट टूबमैन के परिवार से ताल्लुक रखती हैं। जैक्सन कहती हैं-अपने पूर्वजाें की कहानी जानकर सबसे पहले मैंने महसूस किया कि मेरे रोम-रोम से गर्व फूट रहा है।

आज यह साेचती हूं कि हम सबके लिए मेरी दादी काे क्या-क्या नहीं सहना पड़ा। दरअसल, अमेरिका में कई सदियों तक अश्वेत दास प्रथा से पीड़ित रहे। उसका अपमान वे आज तक झेल रहे हैं। इसी अपमान से बाहर निकलने के लिए अश्वेत अब अपने पूर्वजों का इतिहास खोजकर फैमिली ट्री बना रहे हैं। एम्बर जैक्सन भी उन्हीं में से एक हैं। ऐसा करके अश्वेत न केवल अपने अतीत से जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं, बल्कि अपनी विरासत संजोकर खुद की नई पहचान बनाने में लगे हैं।

एम्बर कहती हैं- मैं बॉलीवुड फिल्म ‘एंट्वोन फिशर’ देखने के बाद अपने पूर्वजों के बारे में जानने को प्रेरित हुई थी। 2002 में आई यह फिल्म एक युवा नाविक के जीवन पर आधारित है, जिसे गोद लिए एक परिवार ने पाला है। बड़ा होने पर उसे पता चलता है, तो वह अपने जैविक माता-पिता की खोज करता है।

क्रेज...1 साल में ही गुलाम रहे अश्वेतों के 35 लाख रिकॉर्ड जारी हुए
अश्वेताें के फैमिली ट्री स्टडी काे लेकर अमेरिका में वंशावली से जुड़ी जानकारी वाली वेबसाइट्स एंसेस्ट्री, 23एंडमी, अफ्रीकन एंसेस्ट्री का तेजी से प्रसार हुआ है। फेसबुक पेज अवर ब्लैक एंसेस्ट्री के पिछले सात वर्षों में लगभग 36,000 सदस्य बढ़े हैं। पिछले साल Ancestry.com ने पूर्व में गुलाम रहे अश्वेताें के 35 लाख से ज्यादा रिकाॅर्ड फ्री में जारी किए। ये दस्तावेज 1865 में गृह युद्ध के खत्म हाेने के बाद गठित फेडरल एजेंसी फ्रीडमैन ब्यूरो से लिए गए थे।