• Hindi News
  • International
  • The Prime Minister Of Iraq Had Gone On A Visit To America, When He Returned, He Also Brought 17 Thousand Ancient Iraqi Artifacts With Him In The Plane.

युद्ध काल में लूटी प्राचीन कलाकृतियां अमेरिका से वापस ली:इराक के प्रधानमंत्री अमेरिका की यात्रा पर गए थे, लौटे तो अपने साथ विमान में 17 हजार प्राचीन इराकी कलाकृतियां भी ले आए

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युद्ध काल में लूटी गईं 17 हजार प्राचीन कलाकृतियां  इराक ने अमेरिका से वापस ले ली। - Dainik Bhaskar
युद्ध काल में लूटी गईं 17 हजार प्राचीन कलाकृतियां इराक ने अमेरिका से वापस ले ली।
  • इराक से लूटी गईं पुरातात्विक कलाकृतियां अमेरिका के संग्रहालय में मिलीं

इराक ने युद्ध काल में लूटी गईं 17 हजार प्राचीन कलाकृतियां अमेरिका से वापस ले ली हैं। ये पुरातात्विक कलाकृतियों की अब तक की इराक में सबसे बड़ी वापसी है। पिछले हफ्ते इराक के प्रधानमंत्री मुस्तफा अल कदीमी अमेरिका की आधिकारिक यात्रा पर गए थे। वे अमेरिका से लौटे तो अपने साथ विमान में ये पुरातात्विक कलाकृतियां भी ले आए। इन्हें बगदाद एयरपोर्ट पर उतारा गया। अधिकारियों के मुताबिक ये कलाकृतियां वॉशिंगटन की म्यूजियम ऑफ बाइबल और न्यूयॉर्क की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में रखी गई थीं।

अमेरिकी सरकार के आदेश के बाद दोनों संस्थाओं ने इराक को ये कलाकृतियां लौटा दीं। म्यूजियम ऑफ बाइबल के पास 12 हजार इराकी पुरातात्विक कलाकृतियां थीं। यह चार साल पुराना संग्रहालय है। इसे एक अमेरिकी परिवार ने स्थापित किया था। यह परिवार ‘हॉबी लॉबी क्राफ्ट’ नाम का स्टोर भी चलाता था। अमेरिकी न्याय विभाग ने चार साल पहले इस स्टोर पर 5 हजार कलाकृतियों का उचित ब्योरा नहीं देने के कारण 22 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया था।

बाद में म्यूजियम ऑफ बाइबल की जांच की गई। तब वहां हजारों संदिग्ध कलाकृतियां मिलीं। जबकि 5 हजार से अधिक इराकी पुरातात्विक कलाकृतियां कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में मिलीं। साल 2000 में किसी अज्ञात शहर के कलेक्टर ने यूनिवर्सिटी को ये कलाकृतियां दान कर दी थीं। इन सभी कलाकृतियों को प्लाईवुड के बक्से में इराक लाया गया। इनमें मेसोपोटामिया काल की हजारों मिट्‌टी की गोलियां और मुहरें थीं।

मेसोपोटामिया दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक है। दक्षिणी इराक प्राचीन मेसोपोटामिया का हिस्सा था। इसमें टाइग्रिस और यूफ्रेट्स नदियों के बीच हजारों बिना खुदाई वाले पुरातात्विक स्थल हैं। इराक के संस्कृति और पुरातत्व मंत्री हसन नादेम ने कहा कि यह सिर्फ हजारों साल पुरानी मिट्‌टी की गोलियों की बात नहीं है। यह इराकी लोगों की सांस्कृतिक पहचान की बात है।

खाड़ी युद्ध के दौरान इराक में लूटपाट बढ़ी थी, तब हुई थी चोरी
इराक ने दशकों तक युद्ध और तबाही का सामना किया है। इस दौरान चोरों ने पुरातात्विक वस्तुओं की चोरी की। उन्हें विदेशों में बेच दिया। इन्हें वापस लाने के लिए सरकार कोशिश करती रही। पता चला कि ज्यादातर कलाकृतियां विभिन्न देशों के संग्रहालय में हैं। वहीं अब जाकर 17 हजार कलाकृतियां इराक को वापस मिल सकीं।

खबरें और भी हैं...