• Hindi News
  • International
  • The Taliban, Who Have Captured Many Capitals, Are Beating People, Also Looting, To Collect Logistics.

खाने के लिए लोगों को बर्बर यातनाएं दे रहा तालिबान:कई राजधानियों पर कब्जा कर चुके तालिबानी रसद जुटाने के लिए लोगों को पीट रहे, लूटपाट भी कर रहे

नई दिल्ली/ काबुल/लंदन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आतंकियों ने महिलाओं के गहनों समेत करोड़ों रुपए की निजी और सार्वजनिक संपत्तियों को लूट लिया है। - Dainik Bhaskar
आतंकियों ने महिलाओं के गहनों समेत करोड़ों रुपए की निजी और सार्वजनिक संपत्तियों को लूट लिया है।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में तालिबान के कब्जे को एक हफ्ता पूरा हो गया है। इस दौरान काबुल से कुंदुज और कंधार तक तालिबानियों की मार-काट, अपमान, बर्बर यातनाओं को लेकर लोग दहशत में हैं। इसकी वजह है- तालिबान ने काबुल तक बढ़ते हुए एक के बाद लगभग 25 से ज्यादा राजधानियों पर कब्जा किया, पर उसके पास अपने लड़ाकों की खाने-पीने से लेकर डीजल-पेट्रोल जैसी रसद पहुंचाने का ढांचा ही नहीं है।

इस कमी की कीमत आम लोगों को यातनाएं सहकर चुकानी पड़ रही हैं। वे लोगों को डरा-धमकाकर, लूटपाट और पीटकर तालिबानी लड़ाकों के लिए खाना और डीजल-पेट्रोल की व्यवस्था करने के लिए मजबूर कर रहे हैं। खौफ से दफ्तर भी बंद हैं। तालिबानी लोगों को धमका रहे हैं कि दफ्तरों में बिना वेतन के काम करने के लिए लौटें, वरना अंजाम भुगतना होगा।

तालिबानियों ने लूटी पब्लिक प्रॉपर्टी
दूसरा पहलू यह है कि आतंकियों ने महिलाओं के गहनों समेत करोड़ों रुपए की निजी और सार्वजनिक संपत्तियों को लूट लिया है। वहां के एक एक्टिविस्ट मुजीब ने बताया कि कंधार में तालिबानी हमारे घर से वसूली के तौर पर गाड़ी उठा ले गए।

फिरौती के लिए योजनाबद्ध तरीके से कंधार, गजनी, हेलमंद और काबुल में सैकड़ों लोगों की अपहरण कर हत्याएं कर दी गईं। एक बच्चे का आतंकियों ने अपहरण कर लिया। उसकी मां रोते हुए अपने बेटे को बचाने की गुहार लगाती फिर रही है। ऐसी तस्वीरें कई शहरों में सामने आ रही हैं।

महिलाओं ने अच्छा खाना नहीं पकाया तो उन्हें आग के हवाले किया
अफगान महिलाएं खाना बनाने को लेकर निशाने पर हैं। पूर्व जज नजला अयूबी ने बताया कि तालिबानी महिलाओं को अगवा कर उनसे घरेलू काम करवाने के साथ शारीरिक शोषण भी कर रहे हैं। हद तो ये है कि जब स्वादिष्ट खाना नहीं बना तो उन्हें आग के हवाले करने से भी गुरेज नहीं कर रहे। झुलसने से कई महिलाओं की मौत की खबरें हंै।

40 तालिबानी ढेर
तालिबानियों से कुछ जगह अभी भी संघर्ष जारी है। बगलान प्रांत में पंजशीर घाटी के लड़ाकों ने मुकाबला करते हुए 40 तालिबान आतंकियों को ढेर कर दिया। 15 अन्य तालिबानी घायल हो गए। इसी के साथ पंजशीर के लड़ाकों को तीन जिलों पर दोबारा नियंत्रण हासिल हो गया है। तीनों जिले पोल-ए-हेसर, देह सालेह और कसान इसी प्रांत के हैं।

गनी के भाई का साथ
अफगानिस्तान छोड़कर भागे पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी के भाई हशमत ने पाला बदल लिया है। कुचिस ग्रैंड काउंसिल के प्रमुख हशमत गनी अहमदजई ने तालिबानी खलील-उर-रहमान और धार्मिक नेता मुफ्ती महमूद जाकिर की उपस्थिति में तालिबान को समर्थन देने का ऐलान किया। उनकी तालिबान लीडरों के साथ तस्वीरें सामने आई हैं। अशरफ गनी अभी दुबई में रह रहे हैं।

10,000 से अधिक फंसे
अमेरिका एक हफ्ते में 17,000 लोगों को अफगानिस्तान से निकाल चुका हैं। निकाले गए लोगों में 2500 अमेरिकी हैं। उसकी वायुसेना रोज 2000 लोगों को एयरलिफ्ट कर रही है। एयरपोर्ट पर विभिन्न देशों के 10 हजार से ज्यादा लोग फंसे हुए हैं। जर्मनी ने 2000 लोग निकाले हैं। फ्रांस ने सोमवार से अब तक 570 लोगों को, इटली ने 1000 लोगों को निकाला है।

खबरें और भी हैं...