पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • These Are Found In Bats Found In Myanmar, The Viruses Are Part Of The Corona Family, But Genetically Distinct.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैज्ञानिकाें ने 6 नए कोरोना खोजे:ये म्यांमार में पाए जाने वाले चमगादड़ों में मिले, वायरस कोरोना परिवार का हिस्सा हैं, लेकिन जेनेटिकली अलग

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वायरस की खोज साल 2016 से 2018 के बीच की गई थी, लेकिन वह वतर्मान में महाकारी का कारण बने कोरोनावायरस से मिलते हैं, हालांकि उनमें जेनेटिकली संबंध नहीं है। - Dainik Bhaskar
वायरस की खोज साल 2016 से 2018 के बीच की गई थी, लेकिन वह वतर्मान में महाकारी का कारण बने कोरोनावायरस से मिलते हैं, हालांकि उनमें जेनेटिकली संबंध नहीं है।
  • नए वायरस एसएआरएस-सीओवी 2 जैसे हैं, इनका इंसानों की सेहत पर इतना असर हो सकता है, इस पर शोध जारी है
  • वायरसेस के नाम प्रीडिक्ट-कोव-90, प्रीडिक्ट-कोव-47 और प्रीडिक्ट-कोव-82, क्रमश: प्रीडिक्ट-कोव-92, 93 और 96 हैं

वैज्ञानिकों ने 6 नए कोरोनावायरस का पता लगाया है। यह म्यांमार में पाए जाने वाली चमगादड़ों की तीन प्रजातियों में मिले हैं। यह कोरोनावायरस से मिलते-जुलते हैं। रिसर्च टीम का कहना है कि इन वायरसेस को ग्रेट एशियाटिक घरों में पाए जाने वाले चमगादड़ों में खोजा गया था। वैज्ञानिकों के मुताबिक, वायरस की खोज साल 2016 से 2018 के बीच की गई थी, लेकिन वह वतर्मान में महाकारी का कारण बने कोरोनावायरस से मिलते हैं, हालांकि उनमें जेनेटिकली संबंध नहीं है। वायरस जानवरों से इंसानों के शरीर में कैसे पहुंचे और उसे कितना नुकसान पहुंचा सकते हैं। इस पर आगे शोध किया जा रहा है। 

स्मिथसोनियन्स ग्लोबल हेल्थ प्रोग्राम द्वारा कराए गए रिसर्च में शोधकर्ताओं ने उम्मीद जताई कि इस प्रयास से दुनिया में फैल रहे वायरस के प्रकार, संक्रमण क्षमता को समझने, रोकथाम के तरीके और लोगों को होने वाले खतरे से बचाने में मदद मिलेगी। शोधकर्ताओं ने 11 प्रजातियों के 464 अलग-अलग प्रकार के चमगादड़ों से सैंपल इकट्ठे किए। लाइव साइंस के मुताबिक, नए 6 वायरस को प्रीडिक्ट-कोव-90, प्रीडिक्ट-कोव-47 और प्रीडिक्ट-कोव-82, प्रीडिक्ट-कोव-92, 93 और 96 नाम दिए गए हैं।

आज दुनिया भर में लोग इस बात की चर्चा कर रहे हैं कि कोरोना जानवरों से ही इंसानों तक पहुंचा है।
आज दुनिया भर में लोग इस बात की चर्चा कर रहे हैं कि कोरोना जानवरों से ही इंसानों तक पहुंचा है।

चमगादड़ों में हजारों कोरोना वायरस मौजूद हैं 
स्टडी के सह लेखक और स्मिथसोनियन्स ग्लोबल हेल्थ प्रोग्राम के निदेशक सुजान मुरे के मुताबिक, ‘‘कई तरह के कोरोनावायरस लोगों के लिए महामारी ला सकते हैं। अभी कुछ तरह के वायरस मिले हैं। हजारों तरह के कोरोना का पता लगाया जाना अभी बचा हुआ है।’’ 

इंसानों की सेहत का जानवरों से सीधा संबंध है
स्मिथसोनियन्स ग्लोबल हेल्थ प्रोग्रामर और फॉर्मर वाइल्डलाइफ वेटरिनेरियन मार्क वालटुट्टो ने अपने अध्ययन में कहा कि कोरोनावायरस से फैली महामारी हमें बताती है कि इंसानों की सेहत का संबंध पर्यावरण और वन्यजीवन से जुड़ा है। आज दुनिया भर में लोग इस बात की चर्चा कर रहे हैं कि कोरोना जानवरों से ही इंसानों तक पहुंचा है। इस अध्ययन से हमें वायरस के बारे में अधिक जानने में आसानी होगी। इसके बाद ही हम वायरस के संक्रमण को फैलने से रोक सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें