• Hindi News
  • International
  • This Disclosure In The Department Of The Interior's Investigation Embarrassment; The Tiger And Cheetah Fur Clothes Given To Trump By The Saudi Royal Family Were Fake

जांच में खुलासा:सऊदी शाही परिवार ने ट्रम्प को तोहफे में बाघ और चीता फर के जो कपड़े दिए, वो नकली हैं

8 दिन पहलेलेखक: माइकल एस श्मिट
  • कॉपी लिंक
ट्रम्प और उनके सहयोगियों का सऊदी दौरा 2017 में हुआ था। ट्रम्प प्रशासन ने करीब चार साल तक इन तोहफों की जानकारी ही नहीं दी। - Dainik Bhaskar
ट्रम्प और उनके सहयोगियों का सऊदी दौरा 2017 में हुआ था। ट्रम्प प्रशासन ने करीब चार साल तक इन तोहफों की जानकारी ही नहीं दी।

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सऊदी अरब के शाही परिवार से मिले जिन तोहफों को चार साल तक छिपाकर रखा, वो नकली निकले हैं। इनमें बाघ और चीता के फर से बने कपड़े, तीन तलवारें और तीन खंजर सहित अन्य महंगे बताए गए तोहफे शामिल हैं। इनमें एक खंजर भी है, जिसका हत्था हाथी दांत का बना है। इसके भी असली होने पर संदेह है। आंतरिक विभाग की जांच में यह खुलासा हुआ है।

ट्रम्प और उनके सहयोगियों का सऊदी दौरा 2017 में हुआ था। ट्रम्प प्रशासन ने करीब चार साल तक इन तोहफों की जानकारी ही नहीं दी। ट्रम्प के राष्ट्रपति के तौर पर कार्यकाल के आखिरी दिन व्हाइट हाउस ने सामान्य सेवा प्रशासन को ये तोहफे सौंपे। यूएस फिश एंड वाइल्डलाइफ सर्विस ने हाल में इन तोहफों को कब्जे में लिया, इसके बाद ही ये चौंकाने वाले खुलासे हुए।

फरों की परत रंगी हुई थी
आंतरिक विभाग के प्रवक्ता टायलर चेरी ने बताया,‘वाइल्ड लाइफ इंस्पेक्टर और विशेष एजेंटों ने जांच में पाया कि फरों की परत बाघ और चीता के पैटर्न की नकल करने के लिए रंगी हुई थी और इसमें संरक्षित प्रजातियां शामिल नहीं थीं।’ हालांकि इन तोहफों ने पहले ही ट्रम्प प्रशासन को मुश्किल में डाल दिया था क्योंकि फर वास्तव में असली होते तो व्हाइट हाउस ने लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम, 1973 के पर्यावरण संरक्षण कानून को तोड़ने का जोखिम उठाया था।

पर अब जब यह नकली निकले तो सऊदी के लिए भी शर्मिंदगी का विषय बन गए हैं। ट्रम्प प्रशासन ने इस बात का खुलासा भी नहीं किया कि व्हाइट हाउस के शीर्ष सलाहकार जेरेड कुशनर को सऊदी से दो तलवारें और एक खंजर तोहफे में मिले थे। हालांकि ऑफिस छोड़ने के बाद ट्रम्प ने इनके लिए करीब 36 लाख रुपए का भुगतान किया था।

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के पूर्व वकील स्टेनली एम ब्रांड ने कहा, ‘अमेरिकी और विदेशी नेताओं के बीच तोहफों का लेन-देन उच्च विनियमित प्रक्रिया है, पर ट्रम्प के शासनकाल में यह कई बार खतरे में पड़ी। यह गंभीर लापरवाही है।’

G7 समिट के लिए विशेष तौर पर तैयार तोहफों के बैग में भी घोटाला
जनवरी में जब बाइडेन प्रशासन के कैरियर अधिकारियों ने काम संभाला तो उन्होंने पूर्व अधिकारियों के व्हाइट हाउस छोड़ने के समय ध्यान नहीं दिया। बाद में जांच करने पर विदेश विभाग के वॉल्ट में रखे कुछ बैग गायब मिले। ये बैग जी 7 समिट में शामिल विदेशी नेताओं के लिए तैयार किए गए थे। इसके साथ ही ट्रम्प के अधिकारियों को मिले तोहफे भी नदारद थे।

पहले के राष्ट्रपतियों के कार्यकाल में ऐसा कभी देखने को नहीं मिला। इससे पहले पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ को 4.32 लाख रुपए की व्हिस्की की बॉटल, सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन को तोहफे में मिले सोने के सिक्के व पोर्सेलिन बाउल का क्या हुआ, यह अभी रहस्य ही है।

खबरें और भी हैं...