• Hindi News
  • International
  • three BILLION fewer birds in the US and Canada now than 50 years ago says Cornell university researcher

रिसर्च / अमेरिका और कनाडा से 50 साल में 3 अरब चिड़िया लुप्त हुईं, जंगल कटना मुख्य वजह

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • कॉर्नेल यूनिवर्सिटी की रिसर्च में खुलासा, "फसल को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़ों को शिकार बनाने वाली चिड़ियां कम हुईं"
  • 1970 से अब तक हुए 13 सर्वे में उत्तरी अमेरिका की 529 पक्षी प्रजाति के ट्रेंड को समझाने के लिए कंप्यूटर मॉडल की भी मदद ली गई

दैनिक भास्कर

Sep 23, 2019, 10:46 AM IST

साइंस डेस्क. उत्तरी अमेरिका में पिछले 50 साल में परिंदों की संख्या 3 अरब तक घट गई। अमेरिका और कनाडा में 5 दशक पहले 10.1 अरब चिड़िया थीं, जो अब घटकर 7.2 अरब रह गई हैं। यह खुलासा कॉर्नेल यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आया है। साइंस जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, इन पर ध्यान देने की जरूरत है, ऐसा न हो कि देर हो जाए।

मौसम के राडार से जानी पक्षियों की आबादी

शोधकर्ताओं ने मौसम के राडार का इस्तेमाल कर चिड़ियाें की संख्या के आंकड़े जुटाए हैं। जो चिड़ियों के झुंड के बारे में जानकारी देता है। 1970 से अब तक चिड़ियों पर हुए 13 सर्वे में उत्तरी अमेरिका की 529 पक्षी प्रजाति के ट्रेंड को समझाने के लिए कंप्यूटर मॉडल की भी मदद ली गई। शोधकर्ताओं का कहना है कि गायब हुए पक्षियों की सभी नहीं लेकिन तीन चौथाई प्रजातियों पर असर पड़ा है।

शोधकर्ता रुबेगा का कहना है कि 3 अरब पक्षी जो फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले और एंसेफिलाइटिस जैसी बीमारी फैलाने वाले कीड़ों को खाते थे, वे दुनिया से चले गए हैं। यह सोचने का विषय है। सबसे बुरा हाल आसानी से पहचानी जाने वाली चिड़िया गौरैया का हुआ है। हालांकि,सभी चिड़ियों की संख्या कम नहीं हो रही है। जैसे ब्लूबर्ड की आबादी बढ़ रही है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, चिड़ियों की आबादी घटने की सबसे बड़ी वजह इनका आवास खत्म होना है। 2015 की एक रिसर्च कहती है, अमेरिका और कनाडा में चिड़ियों के मरने का एक बड़ा कारण बिल्लियां हैं। जो हर साल 2.6 करोड़ चिड़ियों को मार देती है। इसके अलावा, 62.4 करोड़ पक्षी खिड़कियों और 2.14 करोड़ पक्षी कारों से टकराकर मर जाते हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि पक्षियों की संख्या बढ़ाने के लिए बिल्लियों को घर के अंदर रखना होगा। खिड़कियों को ऐसे इस्तेमाल करना होगा कि पक्षियों के लिए समस्या न पैदा हो। इसके साथ ही खेती में रसायनों का प्रयोग कम करना होगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना