--Advertisement--

वॉशिंगटन पोस्ट / जर्नलिस्ट खशोगी की हत्या के समय का ऑडियो मौजूद, एपल वॉच में रिकॉर्ड हुआ था: तुर्की



Trump vows 'severe punishment' if Jamal Khashoggi was killed by Saudis
यह सीसीटीवी फुटेज इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास के बाहर की है। इसमें जमाल खगोशी दूतावास के अंदर जाते नजर आ रहे हैं। यह सीसीटीवी फुटेज इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास के बाहर की है। इसमें जमाल खगोशी दूतावास के अंदर जाते नजर आ रहे हैं।
X
Trump vows 'severe punishment' if Jamal Khashoggi was killed by Saudis
यह सीसीटीवी फुटेज इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास के बाहर की है। इसमें जमाल खगोशी दूतावास के अंदर जाते नजर आ रहे हैं।यह सीसीटीवी फुटेज इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास के बाहर की है। इसमें जमाल खगोशी दूतावास के अंदर जाते नजर आ रहे हैं।
  • 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास गए थे पत्रकार जमाल खशोगी
  • इसके बाद से खशोगी लापता, सऊदी पर उनकी हत्या करने का आरोप है

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 03:31 PM IST

इस्तांबुल. तुर्की के अधिकारियों ने कहा है कि उनके पास जर्नलिस्ट जमाल खशोगी की कथित हत्या के वक्त का ऑडियो है। बताया जा रहा है कि खशोगी एक हफ्ते पहले जब इस्तांबुल स्थित सऊदी काउंसलेट गए थे तो वह एपल वॉच पहने हुए थे। ये ऑडियो उसी में रिकॉर्ड हुआ है। शनिवार को तुर्की के सरकारी अखबार सबाह ने इस बात की जानकारी दी है। खगोशी सऊदी अरब के ही जर्नलिस्ट थे।

तुर्की स्थित सऊदी काउंसलेट से लापता हो गए थे खशोगी

  1. सबाह का दावा है कि खशोगी मामले में तुर्की के अफसरों के पास काफी जानकारी है। अब सऊदी अरब पर इस बात की जानकारी देने का काफी दबाव है कि खशोगी के साथ आखिर क्या हुआ?

  2. शनिवार को अंकारा के टॉप डिप्लोमेट ने सऊदी अरब को फोन कर उनका काउंसलेट खोले जाने की बात कही है। सऊदी काउंसलेट जाने के बाद से ही खशोगी गायब हो गए थे। तुर्की अधिकारी इसी बात की जांच कर रहे हैं।

  3. खशोगी ने सऊदी क्राउन प्रिंस की आलोचना की थी

    जर्नलिस्ट खशोगी ने सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की एक लेख में आलोचना की थी। 2 अक्टूबर को वह तुर्की स्थित सऊदी काउंसलेट गए थे और तभी से गायब थे। सऊदी ने अपने ऊपर लगे आरोपों को आधारहीन बताया था।

  4. डोनाल्ड ट्रम्प ने मामले पर चिंता जताते हुए कहा- हम उम्मीद करते हैं कि खशोगी की हत्या न हुई हो। लेकिन जिस तरह की खबरें आ रही हैं, उसे अच्छा नहीं कहा जा सकता।

  5. ट्रम्प ने कहा कि यह मामला इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह व्यक्ति पत्रकार है। उन्होंने कहा कि वे सऊदी को हथियार बेचते तक सीमित नहीं करना चाहते। अगर खशोगी की हत्या हो गई है और उसमें सऊदी का हाथ तो यह निर्भर करेगा कि उस पर क्या प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

  6. खशोगी के आईफोन और आईक्लाउड से मिले सबूत

    सबाह अखबार के मुताबिक- तुर्की अफसरों को खशोगी के आईफोन और आईक्लाउड अकाउंट से एक ऑडियो मिला है। खशोगी ने काउंसलेट में जाने से पहले अपनी मंगेतर को फोन दे दिए थे।

  7. अखबार का ये भी दावा है कि सऊदी अधिकारियों ने रिकॉर्डिंग्स को खत्म करने की भी कोशिश की लेकिन उन्हें खशोगी की घड़ी का पिन पता नहीं चल पाया। एपल वॉच किसी ऑडियो को रिकॉर्ड कर सकती है और उसे ब्लूटूथ के जरिए आईफोन पर भेजा जा सकता है।

  8. तुर्की अफसरों का मानना है कि सऊदी के 15 लोगों ने काउंसलेट में खशोगी की हत्या की। अफसरों का यह भी आरोप है कि हत्या के समय का वीडियो भी बनाया गया। एक्सपर्ट्स का मानना है कि तुर्की अपने इंटेलिजेंस सोर्स को बचाव कर रहा है, लिहाजा वह कई खुलासे नहीं कर रहा।

  9. सऊदी शाही परिवार के करीबी थे खशोगी

    खशोगी को सऊदी शाही परिवार का करीबी माना जाता था लेकिन वह मौजूदा सरकार और प्रिंस सलमान की आलोचना कर रहे थे। वह सऊदी अरब के यमन से चल रहे युद्ध की भी निंदा कर रहे थे।

  10. खशोगी अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के कॉलमिस्ट हैं। 2 अक्टूबर को वे अपनी टर्की निवासी मंगेतर से शादी की इजाजत के लिए जरूरी कागजी कार्यवाही करने इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास गए थे। इसके बाद से वे लापता हैं।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..