दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट को मिला नाम:WHO ने नए स्ट्रेन B.1.1.529 को ओमीक्रॉन नाम दिया, इसे वैरिएंट ऑफ कंसर्न क्लास में रखा

वॉशिंगटन8 दिन पहले

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट B.1.1.529 को ओमीक्रॉन नाम दिया है। WHO ने शुक्रवार को इसकी घोषणा करते हुए इसे वैरिएंट ऑफ कंसर्न की श्रेणी में रखा है। संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने बताया कि तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि महामारी का यह स्ट्रेन काफी खतरनाक हो सकता है।

इससे पहले शुक्रवार को WHO की बैठक के बाद ऑर्गेनाइजेशन के प्रवक्ता क्रिश्चियन लिंडमेयर ने कहा कि शुरुआती एनालिसिस से पता चला है कि इस वैरिएंट में कई म्यूटेशन हो रहे हैं। इसकी और स्टडी करने की जरूरत है। हमें इसका असर समझने में कुछ हफ्ते लगेंगे। रिसर्चर्स इसे और ज्यादा समझने पर काम कर रहे हैं। नए वैरिएंट के बारे में WHO सरकारों के लिए गाइडेंस जारी करेगा, जिससे वे आगे के एक्शन ले सकेंगे।

बेल्जियम की युवती में 11 दिन बाद लक्षण दिखाई दिए
दक्षिण अफ्रीका में मिला कोरोना का नया वैरिएंट तेजी से दुनिया में फैल रहा है। हॉन्गकॉन्ग और बोत्सवाना के बाद शुक्रवार को इजराइल और बेल्जियम में भी नए वैरिएंट से संक्रमित लोग मिले हैं। इससे पहले WHO ने नए वैरिएंट पर दिन में इमरजेंसी मीटिंग की।

बेल्जियम में इजिप्ट से तुर्की होते हुए अपने देश लौटी एक युवती में 11 दिन बाद लक्षण दिखाई दिए, जबकि इजराइल की हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक विदेश से आए तीन लोगों में नए वैरिएंट के लक्षण मिले हैं, जिन्हें क्वारैंटाइन कर दिया गया है। बेल्जियम के PM एलेक्जेंडर डि क्रू ने नए वैरिएंट के मिलने के बाद देश में नाइट क्लब तीन हफ्ते के लिए बंद कर दिए हैं, जबकि बार-रेस्टोरेंट को भी खोलने का समय सीमित कर दिया है।

बेल्जियम में मास्क को लेकर भी सख्ती कर दी गई है।
बेल्जियम में मास्क को लेकर भी सख्ती कर दी गई है।

फ्रांस ने 48 घंटे के लिए फ्लाइट्स बैन किए
उधर, फ्रांस ने 48 घंटे के लिए दक्षिण अफ्रीका से आने वाली सभी उड़ानों को सस्पेंड कर दिया है। फ्रांसीसी स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन ने शुक्रवार को कहा कि कुछ अफ्रीकी देशों में कोरोना का नया वैरिएंट मिलने के बाद यह फैसला लिया गया है।

हॉन्गकॉन्ग तक पहुंचा नया वैरिएंट
दक्षिण अफ्रीका और बोत्सवाना में मिले कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर खतरा बढ़ता जा रहा है। ब्रिटिश साइंटिस्ट्स ने भी बोत्सवाना में मिले नए वैरिएंट को लेकर चेतावनी दी थी। इसमें 32 म्यूटेशन हो रहे हैं, जिस वजह से वैक्सीन भी इसके खिलाफ कारगर नहीं है। यह वैरिएंट अपने स्पाइक प्रोटीन में बदलाव कर काफी तेजी से फैल रहा है। भारत के लिए खतरे की बात यह है कि नया स्ट्रेन हॉन्गकॉन्ग तक पहुंच गया है।

दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफेक्शियस डिजीज ने बताया- देश में इस वैरिएंट के अब तक 22 केस मिले हैं। वैज्ञानिकों ने इसे B.1.1.529 नाम दिया है। इसे वैरिएंट ऑफ सीरियस कंसर्न बताया है। WHO में कोरोना मामले की तकनीकी प्रमुख डॉ. मारिया वान केरखोव ने कहा- हमें इस वैरिएंट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। मल्टीपल म्यूटेशन की वजह से वायरस के बिहेवियर में बदलाव हो रहा है और यह चिंता की बात है।

ब्रिटेन का सख्त रुख
ब्रिटेन ने नए वैरिएंट के खतरे को देखते हुए अफ्रीका के 6 देशों से आने वाली फ्लाइट्स पर फिलहाल रोक लगा दिया है। इनमें दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, बोत्सवाना, जिंबाब्वे, लिसोथो और एसवाटिनी शामिल हैं। ब्रिटेन के हेल्थ सेक्रेटरी साजिद जाविद ने बताया- देश की हेल्थ एजेंसी नए वैरिएंट की जांच कर रही है। हमें और डेटा की जरूरत है, लेकिन हम सावधानी बरत रहे हैं। इन 6 अफ्रीकी देशों को रेड लिस्ट में डाला जाएगा और ब्रिटेन आने वाले यात्रियों को क्वारैंटाइन में रहना होगा।

ब्रिटेन में 18 साल से ऊपर के लोगों से वैक्सीन लगवाने के लिए लगातार अपील की जा रही है।
ब्रिटेन में 18 साल से ऊपर के लोगों से वैक्सीन लगवाने के लिए लगातार अपील की जा रही है।

हॉन्गकॉन्ग में दोनों केस नए वैरिएंट के
साउथ अफ्रीका से हॉन्गकॉन्ग पहुंचे लोगों में भी इस वैरिएंट का संक्रमण पाया गया है। नया वैरिएंट सबसे पहले रीगल एयरपोर्ट होटल में ठहरे 2 लोगों में पाया गया। हॉन्गकॉन्ग के सेंटर फॉर हेल्थ प्रोटेक्शन (CHP) के मुताबिक जांच से पता चला है कि दोनों मामले B.1.1.529 वैरिएंट के ही हैं। पहले शख्स ने एयर वॉल्व वाला मास्क पहना था और इस मास्क की वजह से ही दूसरे शख्स में वायरस का संक्रमण पहुंचा।

जर्मनी में सरकार ने ज्यादा से ज्यादा लोगों की कोरोना टेस्टिंग के लिए अस्थायी सेंटर खोले हैं।
जर्मनी में सरकार ने ज्यादा से ज्यादा लोगों की कोरोना टेस्टिंग के लिए अस्थायी सेंटर खोले हैं।

भारत में भी अलर्ट जारी
हॉन्गकॉन्ग, बोत्सवाना और इजराइल से आने वाले यात्रियों की जांच के लिए सभी एयरपोर्ट्स को निर्देश दिए गए हैं। केंद्र सरकार ने राज्यों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। राज्यों से कहा गया है कि वे दक्षिण अफ्रीका, हॉन्गकॉन्ग, बोत्सवाना और इजराइल से आने वाले यात्रियों की अच्छी तरह से जांच करें। किसी भी तरह की लापरवाही न बरतें।

भारत में एयरपोर्ट्स पर हॉन्गकॉन्ग से आने वाले पैसेंजर्स की विशेष जांच के निर्देश दिए गए हैं।
भारत में एयरपोर्ट्स पर हॉन्गकॉन्ग से आने वाले पैसेंजर्स की विशेष जांच के निर्देश दिए गए हैं।

राज्यों और UTs को लिखे एक लेटर में हेल्थ सेक्रेटरी राजेश भूषण ने कहा- पॉजिटिव पाए जाने वाले सैंपल्स को तुरंत जीनोम सीक्वेंसिंग लैबोरेटरी में भेजा जाए। देश के नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने भी इस वैरिएंट को लेकर आगाह किया है।

साउथ अफ्रीका आने-जाने पर जर्मनी ने बैन लगाया
जर्मनी ने भी साउथ अफ्रीका आने-जाने वाले नागरिकों के ट्रैवल पर बैन लगाने का फैसला किया है। जर्मनी के हेल्थ मिनिस्टर जेंस स्पॉन ने शुक्रवार को कहा- नए नियम शुक्रवार रात से लागू होंगे, अफ्रीका के आस-पास के देशों पर भी ट्रैवल बैन लगाया जा सकता है। वैक्सीन लगे होने के बावजूद जर्मनी के नागरिकों को देश पहुंचने पर 14 दिनों तक क्वारैंटाइन में रहना होगा।

9 महीने होगी यूरोप में वैक्सीन की वैलिडिटी
यूरोपियन यूनियन ने सदस्य देशों के बीच ट्रैवल करने वाले लोगों के लिए वैक्सीन की वैलिडिटी 9 महीने करने का प्रस्ताव रखा है। वैलिडिटी खत्म होने के बाद लोगों को बूस्टर डोज लेना जरूरी होगा। प्रस्ताव में वैक्सीनेटेड लोगों को कोविड नियमों में छूट देने की बात भी कही गई है।