पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • UN Passed Resolution Over Atrocities With Rohingyas In Myanmar, Garnered Support Of 134 Member Countries.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर अत्याचार के खिलाफ प्रस्ताव पास, 193 देशों में से 134 ने समर्थन किया

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
म्यांमार के रोहिंग्या मुस्लिम 2017 से भारत-बांग्लादेश समेत दूसरे देशों में शरण ले रहे हैं। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
म्यांमार के रोहिंग्या मुस्लिम 2017 से भारत-बांग्लादेश समेत दूसरे देशों में शरण ले रहे हैं। (फाइल फोटो)
  • संयुक्त राष्ट्र के 28 देश प्रस्ताव पर वोटिंग में शामिल नहीं हुए, जबकि 9 इसके खिलाफ रहे
  • इस प्रस्ताव में रोहिंग्या समेत सभी अल्पसंख्यकों पर अत्याचार बंद करने की मांग की गई
  • यूएन में म्यांमार के राजदूत हाऊ डो सुआल ने प्रस्ताव पारित करने की आलोचना की

वॉशिंगटन. म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर अत्याचार के खिलाफ शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में पारित हो गया। यूएन के 193 सदस्य देशों में से 134 ने प्रस्ताव का समर्थन और 9 देशों ने विरोध किया। जबकि 28 देश वोटिंग में शामिल नहीं हुए। प्रस्ताव में रोहिंग्या समेत सभी अल्पसंख्यकों पर अत्याचार रोकने और उन्हें न्याय दिलाने की मांग की गई है। हालांकि, म्यांमार इसे मानने के लिए कानूनी तौर पर बाध्य नहीं होगा, लेकिन इससे पता चलता है कि इस मुद्दे पर दुनिया की सोच क्या है।


महासभा की बैठक में म्यांमार के राजदूत हाऊ डो सुआल ने प्रस्ताव पास करने की आलोचना की। उन्होंने कहा कि यह मानवाधिकार नियमों को लेकर दोहरे मापदंड और भेदभावपूर्ण रवैये का उदाहरण है। इसमें रोहिंग्या बहुल्य रखाइन प्रांत की समस्या का समाधान नहीं है। म्यांमार पर अवांछित राजनीतिक दबाव बनाने के लिए प्रस्ताव पेश किया गया है।

आईसीजे में भी उठ चुका है रोहिंग्याओं पर अत्याचार का मुद्दा
रोहिंग्या मुस्लिमों पर म्यांमार के सुरक्षाबल और सेना के अत्याचार का मुद्दा इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) में दक्षिण अफ्रीकी मुस्लिम बहुल्य देश गांबिया ने उठाया था। उसने 12 अन्य मुस्लिम देशों के साथ मिलकर इसे आईसीजे के समक्ष रखा था। इसी महीने नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सान सू की ने आईसीजे में म्यांमार का पक्ष रखा था। उन्होंने कोर्ट को बताया कि रखाइन में हुई हिंसा एक आतंरिक विवाद था। यह सेना की चौकियों पर रोहिंग्या समुदाय के विद्रोहियों के हमले के बाद शुरू हुआ था। सूकी ने कहा था कि हो सकता है कि सैनिकों ने युद्ध अपराध किए हों, इस स्थिति में उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

रोहिंग्या म्यांमार से दूसरे देशों में पलायन कर रहे हैं

  • म्यांमार एक बौद्ध बहुल्य देश है। यहां के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या की आबादी सबसे ज्यादा है। माना जाता है कि रोहिंग्या दूसरे स्थानों से पलायन कर पहुंचे हैं। साल 2017 में सरकार ने रोहिंग्या के खिलाफ सैन्य अभियान चलाने की अनुमति दी। इसके बाद से ही रोहिंग्या मुस्लिम बड़ी संख्या में बांग्लादेश और भारत समेत अन्य देशों में पलायन कर रहे हैं।
  • संयुक्त राष्ट्र के फैक्ट फाइंडिंग मिशन समेत कई स्वतंत्र संस्थाओं ने अपने अध्ययन में रोहिंग्या के साथ म्यांमार की सेना के अत्याचार की पुष्टि की। कुछ ने कहा है कि रखाइन में रोहिंग्या मुस्लिमों के नरसंहार की जांच होनी चाहिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser