तीन साल से लगातार बढ़ रहा कुपोषण, 2018 में दुनिया के 82 करोड़ लोग भूखमरी का शिकार हुए

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।
  • संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक- वर्तमान में विश्व के 14.9 करोड़ बच्चे भूख की समस्या से जूझ रहे
  • रिपोर्ट में बताया गया- कुपोषण और भूखमरी बढ़ने के कारण जलवायु परिवर्तन और युद्ध जैसे हालात

वॉशिंगटन. दुनिया में भुखमरी और कुपोषण की समस्या पिछले तीन सालों से लगातार बढ़ रही है। संयुक्त राष्ट्र फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन (यूएनएफएओ) ने सोमवार को एक रिपोर्ट जारी की। इसके मुताबिक 2018 में 82.10 करोड़ लोग हर रात भूखे सोने के लिए मजबूर थे। 2017 में इनकी संख्या 81.10 करोड़ थी। वर्तमान में दुनिया के 14.9 करोड़ बच्चे भूख की समस्या से जूझ रहे।

 

रिपोर्ट में बताया गया- जलवायु परिवर्तन और युद्ध से हालात के कारण विश्व में कुपोषण और भुखमरी की समस्या बढ़ी है। यूएन ने लक्ष्य रखा है कि 2030 तक इस समस्या को पूरी तरह खत्म किया जाए ताकि लोगों का शारीरिक-मानसिक विकास हो। विश्व खाद्य कार्यक्रम के प्रमुख डेविड बैसली के मुताबिक- हम 2030 तक शून्य भुखमरी का लक्ष्य हासिल नहीं कर सकते। यह मुश्किल है।

 

‘बगैर खाद्य सुरक्षा के दुनिया में शांति नहीं हो सकती’

डेविड के अनुसार- मीडिया भूख से मरने वाले बच्चों की तुलना में ब्रेक्सिट और डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में ज्यादा बात करती है। यह एक गलत दौर चल पड़ा है। बगैर खाद्य सुरक्षा के हम दुनिया में शांति और स्थायित्व कायम नहीं कर सकते। वर्तमान में खाद्य सुरक्षा की स्थिति कुपोषण के कारण बहुत खराब है। अच्छी अर्थव्यवस्था और सामाजिक योजनाओं के बगैर इसे खत्म नहीं किया जा सकता।

 

एशिया में 12% लोग कुपोषण से ग्रस्त

अफ्रीकी देशों में कुल जनसंख्या के लगभग 20% लोग कुपोषण से ग्रस्त हैं। वहीं एशिया में यह 12% है। अगर लैटिन अमेरिका और कैरेबियन देशों की बात करें, तो यहां कुल जनसंख्या के 7% लोग इस समस्या से जूझ रहे हैं। उत्तर अमेरिका और यूरोप में 8% लोग कुपोषण से ग्रस्त हैं। एफएओ के अधिकारी ने कहा- इस समस्या को दूर करने के लिए सभी देशों को मजबूत नीतियां बनानी होंगी।

खबरें और भी हैं...