• Hindi News
  • International
  • America United States On India's decision to declare Masood Azhar, Hafiz Saeed, Dawood as terrorists new anti terror law

तारीफ / अमेरिका ने हाफिज, मसूद, दाऊद और लखवी को आतंकी घोषित करने के भारत के फैसले का समर्थन किया

America United States On India's decision to declare Masood Azhar, Hafiz Saeed, Dawood as terrorists new anti-terror law
X
America United States On India's decision to declare Masood Azhar, Hafiz Saeed, Dawood as terrorists new anti-terror law

  • अमेरिका की दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की कार्यवाहर सह मंत्री ने भारत के यूएपीए कानून का समर्थन किया
  • हाफिज और मसूद को अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र और यूरोपियन यूनियन पहले ही वैश्विक आतंकी घोषित कर चुके हैं

दैनिक भास्कर

Sep 05, 2019, 12:26 PM IST

वॉशिंगटन. भारत ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद समेत चार आतंकवादियों को संशोधित आतंकरोधी कानून (यूएपीए) के तहत बुधवार को आतंकी घोषित किया। अब अमेरिका ने भारत के इस कदम की तारीफ की है। अमेरिका की दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की कार्यवाहक सह मंत्री एलिस जी वेल्स ने ट्वीट कर कहा कि हम हाफिज सईद, मौलाना मसूद अजहर, जकी-उर-रहमान लखवी और दाऊद इब्राहिम को आतंकी घोषित करने के भारत के फैसले का समर्थन करते हैं। भारत के नए कानून (यूएपीए) से आतंक पर लगाम लगाने के दोनों देशों की कोशिशों को बल मिलेगा।  
 
जमात उद-दावा के हाफिज सईद और जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को इससे पहले अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र और यूरोपियन यूनियन वैश्विक आतंकवादी घोषित कर चुके हैं। इसके अलावा अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भी कई देशों की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में शामिल है।


यह पहली बार है जब भारत ने आतंकवादी संगठनों के सरगनाओं को आतंकी घोषित किया है। अनलॉफुल एक्टिविटी प्रिवेंशन एक्ट (यूएपीए) के तहत केंद्र और राज्य आतंकवाद और गैरकानूनी कार्यों  में संलिप्त लोगों को आतंकी घोषित कर सकते हैं। इसके तहत उनकी संपत्तियां सीज की जा सकती हैं। संसद ने यह विधेयक इसी महीने पास किया था।

 

पहले सिर्फ आतंकवादी संगठन घोषित करने का प्रावधान था
इससे पहले, इस यूएपीए कानून के तहत सिर्फ संगठनों को ही आंतकवादी संगठन घोषित किया जा सकता था। किसी व्यक्ति को आतंकवादी घोषित करने का प्रावधान इसमें नहीं था। हाफिज सईद पर भारत में कई हमले करने के आरोप हैं। हाफिज 2008 के मुंबई हमलों का भी मास्टरमाइंड है। इसमें 166 लोगों की मौत हो गई थी।

 

मसूद पर संसद और जम्मू-कश्मीर विधानसभा पर हमला का आरोप
जैश-ए-मोहम्मद पर संसद और जम्मू-कश्मीर विधानसभा परिसर में 2001 में हमला करने के आरोप हैं। संसद हमले में 9 जबकि विधानसभा में हुए हमले में 8 लोगों की मौत हुई थी। जैश ने 2016 में पठानकोट और इसी साल फरवरी में पुलवामा हमला को अंजाम दिया था। इसका सरगना मसूद अजहर है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना