• Hindi News
  • International
  • US Afghanistan Taliban Longest War; Wall Street New York Times Reaction After Taliban Capture Kabul

अफगानिस्तान में अमेरिकी रोल पर वर्ल्ड मीडिया:वॉल स्ट्रीट ने लिखा- बाइडेन का अफगानिस्तान सरेंडर; न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा- ये हार की तस्वीर

2 महीने पहले

अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी और वहां तालिबान के कब्जे के बाद पूरी दुनिया के मीडिया में US प्रेसिडेंट जो बाइडेन की आलोचना हो रही है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा कि ये बाइडेन का अफगानिस्तान में सरेंडर है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने अफगानिस्तान के हालात पर लिखा कि ये हार की वो तस्वीर है, जिसे बाइडेन देखना नहीं चाहेंगे। पढ़िए, वर्ल्ड मीडिया ने अफगानिस्तान के हालात पर क्या कहा...

न्यूयॉर्क टाइम्स: अमेरिकी एक्सपेरिमेंट का शर्मिंदगी भरा अध्याय
अमेरिकी न्यूज पेपर ने लिखा कि जो बाइडेन इतिहास में ऐसे राष्ट्रपति के तौर पर देखे जाएंगे, जिन्होंने अफगानिस्तान में अमेरिकी एक्सपेरिमेंट का शर्मिंदगी भरा फाइनल चैप्टर लिखा। मॉडर्न प्रेसिडेंशियल हिस्ट्री में शायद ही किसी राष्ट्रपति के कहे शब्द उतनी तेजी से वापस लौटे हों, जितनी तेजी से बाइडेन के। 5 हफ्ते पहले ही उन्होंने कहा था कि अफगानिस्तान में आप ऐसा नहीं देखेंगे कि लोगों को अमेरिकी दूतावास की छत से एयरलिफ्ट किया जा रहा है। लेकिन, रविवार को ही ऐसी तस्वीरें आईं जब अमेरिकी नागरिकों और दूतावास में काम करने वालों को एम्बेसी के बगल में एक लैंडिंग पैड से लिफ्ट करना पड़ा।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा कि कि जो बाइडेन इतिहास में ऐसे राष्ट्रपति के तौर पर देखे जाएंगे, जिन्होंने अफगानिस्तान में अमेरिकी एक्सपेरिमेंट का शर्मिंदगी भरा फाइनल चैप्टर लिखा
न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा कि कि जो बाइडेन इतिहास में ऐसे राष्ट्रपति के तौर पर देखे जाएंगे, जिन्होंने अफगानिस्तान में अमेरिकी एक्सपेरिमेंट का शर्मिंदगी भरा फाइनल चैप्टर लिखा

द गार्जियन: अलकायदा फिर पनपा तो अमेरिकी जनता माफ नहीं करेगी
ब्रिटिश न्यूज पेपर द गार्जियन ने लिखा कि अफगानिस्तान को जो बाइडेन की हार के तौर पर देखा जाएगा। अगर अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी और तालिबानी कब्जे के बाद अलकायदा फिर से पनपता है तो अमेरिकी जनता माफ नहीं करेगी। बाइडेन ने कहा था कि अमेरिका ने अफगानिस्तान में एक ट्रिलियन डॉलर खर्च किए हैं। 2400 से ज्यादा अमेरिकी वहां मारे गए। ये हमेशा के लिए नहीं चल सकता है। राष्ट्रपति को लगा था कि अफगानिस्तान से वापसी पर उन्हें क्रेडिट दिया जाएगा। अभी तक तो ये रोड़ा ही नजर आ रहा है। विपक्ष सवाल करेगा कि जो, अफगानिस्तान कौन हारा? यह जायज तो नहीं है, पर ये बाइडेन की हार है और उन्हें इसकी जिम्मेदारी लेनी होगी। ये उन्हें लंबे समय तक सताएगी।

द गार्जियन ने लिखा कि अफगानिस्तान को जो बाइडेन की हार के तौर पर देखा जाएगा
द गार्जियन ने लिखा कि अफगानिस्तान को जो बाइडेन की हार के तौर पर देखा जाएगा

वाल स्ट्रीट जर्नल: बाइडेन का बयान सबसे शर्मनाक
अमेरिकी बिजनेस न्यूज पेपर ने लिखा कि ये बाइडेन का अफगानिस्तान में सरेंडर है। बाइडेन ने शनिवार को कहा कि जब तक अफगानी सेना अपने देश को संभालेगी नहीं, तब तक अमेरिकी सेना के वहां होने से कोई फर्क नहीं पड़ता, भले वो एक साल और रुके या 5 साल। अफगानिस्तान इस पतन के लायक ही है। पेपर ने कहा है कि जब अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना वापस आ रही हो, ऐसे पल में किसी राष्ट्राध्यक्ष का ऐसा बयान, इतिहास का सबसे शर्मनाक बयान है।

वाल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा कि ये बाइडेन का अफगानिस्तान में सरेंडर है
वाल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा कि ये बाइडेन का अफगानिस्तान में सरेंडर है

BBC: अमेरिका की साख पर सवाल खड़ा हुआ
ब्रिटिश न्यूज पेपर ने अफगानिस्तान छोड़कर आई एक महिला की कहानी के जरिए बाइडेन के फैसले का निगेटिव पहलू बताया है। अफगानिस्तान से अमेरिका आई हादिया एसाजादा का इंटरव्यू भी दिया गया है। इसमें हादिया ने बताया कि उनके बड़े भाई को तालिबानियों ने कत्ल कर दिया और सड़कों पर घसीटा। उन्होंने कहा कि तालिबान जरा सा भी नहीं बदला है। अब वो अफगानिस्तान और अमेरिका को लेकर चिंतित हैं। BBC ने कहा कि कंधार के तालिबानियों के हाथ में जाने के बाद से ही बाइडेन का विरोध बढ़ गया है। पूर्व सैन्य अधिकारी और नेता जल्दबाजी में अमेरिकी सेना की वापसी के फैसले को गलत कह रहे हैं और बाइडेन की आलोचना कर रहे हैं। बाइडेन के फैसले से मानवीय त्रासदी का रास्ता खुला और इससे अमेरिका की साख पर भी सवाल खड़ा हुआ है।

BBC ने लिखा है कि बाइडेन के फैसले से मानवीय त्रासदी का रास्ता खुला
BBC ने लिखा है कि बाइडेन के फैसले से मानवीय त्रासदी का रास्ता खुला

CNN: अफगानिस्तान बाइडेन के लिए पॉलिटिकल डिजास्टर
CNN ने लिखा कि अफगानिस्तान में अमेरिका की हार और वहां से सेना की वापसी जो बाइडेन के लिए पॉलिटिकल डिजास्टर साबित होगी। ये समस्याओं से ग्रस्त उनकी प्रेसीडेंसी को भी आगे हिलाएगी और उनकी विरासत पर एक धब्बा होगी। बाइडेन की इन गलतियों का फायदा उठाने के लिए उनके विरोधियों में होड़ मच जाएगी।

CNN ने लिखा कि अफगानिस्तान में अमेरिका की हार बाइडेन के लिए पॉलिटिकल डिजास्टर साबित होगी
CNN ने लिखा कि अफगानिस्तान में अमेरिका की हार बाइडेन के लिए पॉलिटिकल डिजास्टर साबित होगी

पॉलिटिको: अफगानिस्तान को लेकर व्हाइट हाउस पर हमला
बेल्जियम की मैग्जीन ने लिखा कि जब बाइडेन व्हाइट हाउस में आए थे तो उन्होंने कहा था कि दुनिया के मंच पर अमेरिका वापस आ गया है। उन्होंने कहा था कि ओवल ऑफिस में वो अपनी विदेश नीति के मूल तत्व लेकर आए हैं। हालांकि, अफगानिस्तान से सेना वापस बुलाने का विदेश नीति का फैसला ही उथल-पुथल और भ्रम से भर गया। व्हाइट हाउस अब आलोचकों के निशाने पर है। विशेषज्ञों का कहना है कि अफगानिस्तान से क्या सेना वापसी का फैसले को सही तरह से अंजाम दिया गया, ये सवाल इतिहास की किताबों में लिखा जाएगा।

पॉलिटिको ने लिखा कि व्हाइट हाउस अब आलोचकों के निशाने पर है
पॉलिटिको ने लिखा कि व्हाइट हाउस अब आलोचकों के निशाने पर है

डायचे वेले: अफगानिस्तान में अमेरिका फेल हो गया
जर्मन मीडिया समूह ने कहा कि अमेरिकी सेनाओं की वापसी से अफगानिस्तान तालिबान का कब्जा हो गया और उथल-पुथल मच गई। इससे यह भी उजागर हो गया कि अफगानिस्तान को लेकर अमेरिका का आंकलन पूरी तरह गलत था। अमेरिका अपनी साख जुए में हार गया।

डायचे वेले ने लिखा कि अमेरिका अपनी साख जुए में हार गया
डायचे वेले ने लिखा कि अमेरिका अपनी साख जुए में हार गया
खबरें और भी हैं...