• Hindi News
  • International
  • US Defense Minister Said Will Support Taiwan Against China, Peace In Indo Pacific Is Our Priority

चीन से एशिया में खतरा:अमेरिकी रक्षा मंत्री बोले- चीन के खिलाफ ताइवान का साथ देंगे, इंडो-पैसोफिक में शांति हमारी प्राथमिकता

सिंगापोर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी (रक्षा मंत्री) लॉयड ऑस्टिन ने कहा- चीन का आक्रामक रवैया एशिया में शांति और तरक्की के लिए खतरा है। वे ताइवान को चीन का हिस्सा नहीं मानते हैं और हर तरीके से ताइवान का साथ देंगे। अमेरिका के लिए इंडो-पैसिफिक एरिया में शांति कायम रखना सबसे जरूरी है। यह बात ऑस्टिन ने सिंगापोर के प्रीमियर डिफेंस फोरम में कही।

अमेरिका सिर्फ मानेगा वन-चाइना पॉलिसी
ऑस्टिन ने कहा- अमेरिका हमेशा अपनी वन-चाइना पॉलिसी ही मानेगा। अमेरिका 1979 के ताइवान रिलेशन्स एक्ट को अपने संबंधों का आधार मानता है। हम स्टेटस के बदलाव करने वाले एकतरफा प्रयास की निंदा करते है।

अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ऑस्टिन ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की ‘पिवेट टू एशिया’ पॉलिसी को पुराना बताया।
अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ऑस्टिन ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की ‘पिवेट टू एशिया’ पॉलिसी को पुराना बताया।

चीनी सेना के बड़े अफसरों से बातचीत होती है
अमेरिका सेल्फ डिफेंस क्षमता को बढ़ाने में ताइवान की मदद करेगा। शांति कायम रखने के लिए अमेरिका बातचीत के हर जरिए का इस्तेमाल करेगा ऑस्टिन ने कहा- वॉशिंगटन में चीनी आर्मी के बड़े अफसरों से भी बातचीत हो रही हैं। अमेरिकी और चीनी सेना बातचीत से किसी भी तरह की गलतफहमी से बचेगी। ऑस्टिन के मुताबिक- शांति कायम रखने के लिए हम अपने प्रतिद्वंद्वी और दोस्त दोनों के साथ काम कर रहे हैं।

जरूरत पड़ी तो अमेरिकी सेना देगी साथ
डिफेंस सेक्रेटरी ऑस्टिन ने एशियाई देशों में नई कोल्ड वॉर या अशांत माहौल से दूरी बनाने की बात कही है। ऑस्टिन ने कहा- 3 लाख से ज्यादा अमेरिकी सैनिक इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में शांत अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था के लिए अपने सहयोगी देशों का साथ देंगे।

पुतिन का यूक्रेन पर हमला गलत
अपने भाषण में अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ऑस्टिन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा- रूसी राष्ट्रपति का यूक्रेन पर हमले का फैसला दुनिया भर में अशांति फैला रहा है, जिसका असर इंडो-पैसिफिक में भी हो रहा है।