• Hindi News
  • International
  • US Military Mission Afghanistan Kabul | United States Armed Forces Completes Troop Withdrawal From Afghanistan

20 तस्वीरों में अमेरिकी सेना के 20 साल:अफगानियों को उम्मीद और आजादी दी, पर दो दशक बाद सब पहले जैसा; अब तालिबान के हवाले छोड़ लौटा अमेरिका

काबुल9 महीने पहले

अमेरिका ने आखिरकार अफगानिस्तान में अपने सैन्य ऑपरेशंस को खत्म कर दिया है। बीती रात आखिरी अमेरिकी सैनिक ने काबुल एयरपोर्ट से उड़ान भरी। इसके साथ ही अफगानिस्तान के लाखों लोगों की जिंदगी तालिबान के हवाले कर दी गई। इसी के साथ 20 साल में अफगानियों को जो आजादी और बेखौफ जीने का जो जज्बा मिला, उसका भी अंत हो गया है।

तालिबान रात से ही अमेरिकी सेना की वापसी का जश्न मना रहा है। तालिबान ने काबुल एयरपोर्ट को अपने कब्जे में ले लिया और वहां हवाई फायरिंग की। तालिबानियों ने इतनी आतिशबाजी की कि रात में काबुल के आसमान में रोशनी छा गई, लेकिन रोशन होने के बजाय आने वाला समय आम अफगानियों के लिए और ज्यादा स्याह होने की आशंका है।

तस्वीरों में देखिए अमेरिकी सेना के अफगानिस्तान में तैनाती के दौरान 20 सालों में कैसे बदला इस देश का माहौल...

2001 से 2002 तक अफगानिस्तान में जंग का माहौल रहा

2001 में अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया। अमेरिका की स्पेशल फोर्सेज अफगानिस्तान में तालिबान के विरोधी नॉर्दर्न अलायंस जैसे मिलिशिया के साथ मैदान में कूद पड़ीं। 2001 में नवंबर के दूसरे हफ्ते में राजधानी काबुल के साथ कंधार को भी तालिबान से छुड़ा लिया गया। कंधार तालिबान का गढ़ था। दिसंबर 2001 में ओसामा बिन लादेन तोरा-बोरा पर्वतों से होता हुआ पाकिस्तान भाग गया और इधर, काबुल में हामिद करजई की अगुआई में नई सरकार बना दी गई।

अक्टूबर 2001 में अफगानिस्तान के पूर्वोत्तर में तालोकान शहर में तालिबान की चौकियों पर गोलीबारी करते नॉर्दर्न अलायंस के सैनिक।
अक्टूबर 2001 में अफगानिस्तान के पूर्वोत्तर में तालोकान शहर में तालिबान की चौकियों पर गोलीबारी करते नॉर्दर्न अलायंस के सैनिक।
नवंबर 2001 में काबुल की ओर जाते हुए नॉर्दर्न अलायंस के सैनिकों को एक तालिबानी लड़ाका खाई में छिपा मिला। उसकी मिन्नतों के बावजूद उसे मार डाला गया।
नवंबर 2001 में काबुल की ओर जाते हुए नॉर्दर्न अलायंस के सैनिकों को एक तालिबानी लड़ाका खाई में छिपा मिला। उसकी मिन्नतों के बावजूद उसे मार डाला गया।
अगस्त 2002 में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के उत्तर में बगराम एयरबेस पर मौजूद अमेरिकी सैनिक। यह एयरबेस अमेरिका का सबसे बड़ा सैन्य-अड्डा था।
अगस्त 2002 में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के उत्तर में बगराम एयरबेस पर मौजूद अमेरिकी सैनिक। यह एयरबेस अमेरिका का सबसे बड़ा सैन्य-अड्डा था।

​​​​2003 से 2007 के बीच अमेरिकी सरकार का ध्यान इराक में जंग की तरफ मुड़ गया
मई 2003 में अमेरिका के तत्कालीन रक्षामंत्री डोनाल्ड रम्सफेल्ड ने अफगानिस्तान में मुख्य सैन्य अभियानों के खत्म होने की बात कही। उस वक्त तक अमेरिका का ध्यान इराक में सद्दाम हुसैन को सत्ता से हटाने पर लग चुका था। लिहाजा तालिबान ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया। 2004 में अफगानिस्तान का संविधान तैयार हुआ, लेकिन धीरे-धीरे तालिबान ने घात लगाकर और आत्मघाती हमले शुरू कर दिए।

अक्टूबर 2004 में अफगानिस्तान में राष्ट्रपति पद के ऐतिहासिक चुनाव में वोट डालने की बारी का इंतजार करती महिलाएं। यह चुनाव फौरन ही विवादों में घिर गया।
अक्टूबर 2004 में अफगानिस्तान में राष्ट्रपति पद के ऐतिहासिक चुनाव में वोट डालने की बारी का इंतजार करती महिलाएं। यह चुनाव फौरन ही विवादों में घिर गया।
नवंबर 2005 में काबुल में अफगान पुलिस के रंगरूटों को ट्रेनिंग देते अमेरिकी कॉन्ट्रैक्टर डाइन कॉर्प। अब अफगान पुलिस का मामूली असर काबुल और कुछ प्रमुख इलाकों में ही बचा है।
नवंबर 2005 में काबुल में अफगान पुलिस के रंगरूटों को ट्रेनिंग देते अमेरिकी कॉन्ट्रैक्टर डाइन कॉर्प। अब अफगान पुलिस का मामूली असर काबुल और कुछ प्रमुख इलाकों में ही बचा है।
अगस्त 2005 में पाकिस्तान की सीमा से लगते पकतिका प्रांत में अमेरिका के सैन्यवाहन की परछाई के करीब खड़ा एक अफगानी नागरिक।
अगस्त 2005 में पाकिस्तान की सीमा से लगते पकतिका प्रांत में अमेरिका के सैन्यवाहन की परछाई के करीब खड़ा एक अफगानी नागरिक।

2008 से 2010 के बीच अमेरिका ने तालिबान को खदेड़ने के लिए दोबारा जोर लगाया
फरवरी 2009 में अमेरिका के नए राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अफगानिस्तान में 17 हजार और सैनिकों को भेजने का ऐलान कर दिया। अफगानिस्तान में पहले से 36 हजार विदेशी सैनिक मौजूद थे। ओबामा ने 2010 तक कुल एक लाख सैनिक भेज दिए। अफगानिस्तान में फिर तेज जंग छिड़ गई।

अक्टूबर 2008 में अफगानिस्तान के कामू इलाके के पहाड़ों पर लोवेल सैन्य चौकी पर तालिबान के एक बड़े हमले का मुकाबला करते अमेरिकी सैनिक।
अक्टूबर 2008 में अफगानिस्तान के कामू इलाके के पहाड़ों पर लोवेल सैन्य चौकी पर तालिबान के एक बड़े हमले का मुकाबला करते अमेरिकी सैनिक।
दिसंबर 2009 में काबुल में एक होटल के पास आत्मघाती हमले में आठ लोग मारे गए और दर्जनों घायल हो गए। तालिबान ने इस दौरान ऐसे कई और हमले किए।
दिसंबर 2009 में काबुल में एक होटल के पास आत्मघाती हमले में आठ लोग मारे गए और दर्जनों घायल हो गए। तालिबान ने इस दौरान ऐसे कई और हमले किए।
अप्रैल 2010 में सैन्य ट्रांसपोर्ट विमान से मजार-ए-शरीफ पहुंचने से पहले अमेरिकी सैनिकों की एक बड़ी टुकड़ी। इस दौरान अमेरिका ने लगातार अपने सैनिक बढ़ाए।
अप्रैल 2010 में सैन्य ट्रांसपोर्ट विमान से मजार-ए-शरीफ पहुंचने से पहले अमेरिकी सैनिकों की एक बड़ी टुकड़ी। इस दौरान अमेरिका ने लगातार अपने सैनिक बढ़ाए।

2011 में लादेन मारा गया, अमेरिका ने फौज कम करनी शुरू कर दी
मई 2011 में अमेरिकी नेवी के सील कमांडो के एक दल ने पाकिस्तान के एबटाबाद में अल-कायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन को मार गिराया। उसी साल जून में राष्ट्रपति ओबामा ने मई 2012 तक 33 हजार सैनिक वापस बुलाने का ऐलान कर दिया। इस बीच अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई ने नागरिकों की मौत के लिए विदेशी सैनिकों पर आरोप लगाने शुरू कर दिए। अफगान सरकार के साथ संबंध बिगड़ने लगे, तो अमेरिका ने 2013 में अफगानों को आंतरिक सुरक्षा सौंप दी, लेकिन तालिबान का आतंक जारी रहा।

जनवरी 2012 में अमेरिकी विमानवाहक पोत जॉन सी स्टेनिस पर मौजूद लड़ाकू जेट। उत्तरी अरब सागर से ये विमान अफगानिस्तान में आतंकी ठिकानों पर बमबारी कर रहे थे।
जनवरी 2012 में अमेरिकी विमानवाहक पोत जॉन सी स्टेनिस पर मौजूद लड़ाकू जेट। उत्तरी अरब सागर से ये विमान अफगानिस्तान में आतंकी ठिकानों पर बमबारी कर रहे थे।
फरवरी 2013 में अफगान (बाईं ओर) और अमेरिकी सैनिकों ने कंधार प्रांत के लायदिरा गांव में गोलाबारी कर तालिबान की एक चौकी को उड़ा दिया।
फरवरी 2013 में अफगान (बाईं ओर) और अमेरिकी सैनिकों ने कंधार प्रांत के लायदिरा गांव में गोलाबारी कर तालिबान की एक चौकी को उड़ा दिया।
नवंबर 2013 में वारदाक प्रांत में तालिबान के ठिकानों पर रॉकेट दागते हुए सईद वजीर। चालीस साल का सईद कभी रूस के खिलाफ मुजाहिदीन रहा था।
नवंबर 2013 में वारदाक प्रांत में तालिबान के ठिकानों पर रॉकेट दागते हुए सईद वजीर। चालीस साल का सईद कभी रूस के खिलाफ मुजाहिदीन रहा था।

2014-2018 : तालिबान फिर उठाने लगा सिर
मई 2014 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 2016 तक ज्यादातर अमेरिकी फौज को वापस बुलाने का टाइमटेबल जारी कर दिया। कई सैनिकों की वापसी भी हुई। इससे तालिबान फिर सक्रिय होने लगा। 13 अप्रैल 2017 को अमेरिका ने अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में इस्लामिक स्टेट के आतंकियों पर सबसे खतरनाक नॉन-न्यूक्लियर बम दागा। तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वहां और फौज तैनात करने की बात कही।

अक्टूबर 2015 में अफगानिस्तान के कुंदुज प्रांत में एक अस्पताल पर अमेरिकी हवाई हमले में 42 लोग मारे गए थे। अमेरिका ने इसे मानवीय भूल बताया था
अक्टूबर 2015 में अफगानिस्तान के कुंदुज प्रांत में एक अस्पताल पर अमेरिकी हवाई हमले में 42 लोग मारे गए थे। अमेरिका ने इसे मानवीय भूल बताया था
अमेरिका के वर्जीनिया प्रांत में अर्लिंग्टन नेशनल सिमिट्री में अफगानिस्तान और इराक युद्ध में शहीद हुए अमेरिकी सैनिकों को दफनाया गया है। फोटो मई 2018 की है।
अमेरिका के वर्जीनिया प्रांत में अर्लिंग्टन नेशनल सिमिट्री में अफगानिस्तान और इराक युद्ध में शहीद हुए अमेरिकी सैनिकों को दफनाया गया है। फोटो मई 2018 की है।

2018 से 2020 के बीच तालिबान से अमेरिका की शांति-वार्ता और समझौता
2018 में अमेरिका और तालिबान ने शांति-वार्ता शुरू की। खास बात यह कि इसमें अफगान सरकार शामिल नहीं थी। तालिबान ने उससे बात करने से इनकार कर दिया। 29 फरवरी 2020 को कतर की राजधानी दोहा में अमेरिका ने फौज वापसी के लिए तालिबान से समझौता कर लिया। कहने को इस डील में अमेरिका ने दो खास शर्तें भी रखी थीं। पहली- तालिबान हिंसा कम करेगा और दूसरी- तालिबान और अफगान सरकार के बीच बातचीत की शुरुआत होगी, लेकिन राष्ट्रपति जो बाइडेन ने जब अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की पूरी वापसी की घोषणा की तो उसमें इन शर्तों का जिक्र नहीं किया। इसका असर साफ नजर आया। इस ऐलान के कुछ दिनों बाद ही तालिबान पूरी तरह खुलकर मैदान में आ गया।

अगस्त 2019 में काबुल में एक शादी में इस्लामिक स्टेट (ISIS) के आत्मघाती हमले में 63 लोग मारे गए। उन्हीं में से एक का अंतिम संस्कार करते परिजन।
अगस्त 2019 में काबुल में एक शादी में इस्लामिक स्टेट (ISIS) के आत्मघाती हमले में 63 लोग मारे गए। उन्हीं में से एक का अंतिम संस्कार करते परिजन।
नवंबर 2019 में काबुल के करीब बगराम एयरबेस पर अमेरिकी सैनिकों के बीच तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप।
नवंबर 2019 में काबुल के करीब बगराम एयरबेस पर अमेरिकी सैनिकों के बीच तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप।
फरवरी 2020: तालिबान के हाथों एक बेस गंवाने के बाद अफगान पुलिस अधिकारी। अमेरिका की वापसी की खबर ने तालिबान को और आक्रामक बना दिया।
फरवरी 2020: तालिबान के हाथों एक बेस गंवाने के बाद अफगान पुलिस अधिकारी। अमेरिका की वापसी की खबर ने तालिबान को और आक्रामक बना दिया।
दिसंबर 2020 में अफगानिस्तान के लगमान इलाके में तालिबान की रेड यूनिट के बीच से गुजरते बच्चे। ज्यादातर ग्रामीण इलाकों पर तालिबान काबिज है।
दिसंबर 2020 में अफगानिस्तान के लगमान इलाके में तालिबान की रेड यूनिट के बीच से गुजरते बच्चे। ज्यादातर ग्रामीण इलाकों पर तालिबान काबिज है।

30 अगस्त 2021 को अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान छोड़ दिया
इस साल अमेरिकी सेना ने टुकड़ों में अफगानिस्तान से रवाना होना शुरू किया। इसके साथ ही तालिबान तेजी से सक्रिय होने लगा। जब अमेरिकी सेना सिर्फ काबुल एयरपोर्ट तक सिमट कर रह गई तो तालिबान ने दो महीने के अंदर ही देश के करीब सभी प्रांतों को अपने कब्जे में ले लिया। अफगानी सेना ने बिना लड़े ही हथियार डाल दिए। 15 अगस्त को राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग गए।

तालिबान ने देश पर अपनी हुकूमत का ऐलान कर दिया। इसके बाद लोगों ने अफगानिस्तान से भागने के लिए एयरपोर्ट पर भीड़ लगाई। बड़ी संख्या में लोगों को रेस्क्यू किया गया। इस दौरान खुरासान प्रांत के इस्लामिक स्टेट ने काबुल एयरपोर्ट पर फिदायीन हमले किए, जिसका अमेरिका ने एयर स्ट्राइक के जरिए जवाब दिया। आखिरकार देश छोड़ने की डेडलाइन से एक दिन पहले 30 अगस्त को ही अमेरिकी सेना की तालिबान से रवानगी हो गई।

30 अगस्त की रात को अमेरिकी सेना की आखिरी टुकड़ी ने काबुल एयरपोर्ट से उड़ान भरी। इसके कुछ देर बाद ही तालिबानी लड़ाकों ने एयरपोर्ट को कब्जे में ले लिया।
30 अगस्त की रात को अमेरिकी सेना की आखिरी टुकड़ी ने काबुल एयरपोर्ट से उड़ान भरी। इसके कुछ देर बाद ही तालिबानी लड़ाकों ने एयरपोर्ट को कब्जे में ले लिया।
तालिबान ने अमेरिकी सैनिकों की वापसी का जश्न मनाया। काबुल एयरपोर्ट पर आतिशबाजी और हवाई फायरिंग की। तालिबान ने अफगानिस्तान को आजाद घोषित कर दिया है।
तालिबान ने अमेरिकी सैनिकों की वापसी का जश्न मनाया। काबुल एयरपोर्ट पर आतिशबाजी और हवाई फायरिंग की। तालिबान ने अफगानिस्तान को आजाद घोषित कर दिया है।
खबरें और भी हैं...