पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नॉर्थ कोरिया का सधा बयान:किम जोंग उन ने कहा- अमेरिका से बातचीत और टकराव दोनों के लिए तैयार; बाइडेन की टीम नई रणनीति बनाने में जुटी

प्योंगयांगएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच तनाव जारी है, लेकिन आने वाले कुछ महीने काफी अहम साबित हो सकते हैं। जो बाइडेन के सत्ता संभालने के बाद अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच औपचारिक संपर्क नहीं हुआ। इस बीच, नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन का बयान सामने आया है। किम ने कहा है कि उनका देश अमेरिका से बातचीत के लिए भी तैयार है और टकराव के लिए भी।

कुछ दिन पहले व्हाइट हाउस ने कहा था कि बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन नॉर्थ कोरिया को लेकर नई रणनीति पर फोकस कर रही है। यह पॉलिसी ज्यादा प्रैक्टिकल होगी, ताकि डिप्लोमैसी को पूरा मौका मिल सके।

किम का आदेश
‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, किम ने अफसरों को आदेश दिए हैं कि अमेरिका से टकराव या बातचीत दोनों के लिए तैयार रहना चाहिए और इसी दिशा में कोशिशें होनी चाहिए। उन्होंने अफसरों को तैयारी करने के ऑर्डर भी दिए हैं। बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन की नई पॉलिसी को लेकर नॉर्थ कोरिया में पहले के मुकाबले ज्यादा उत्साह है। इस पॉलिसी की किम ने समीक्षा भी की है। इसी दौरान, उन्होंने बातचीत और टकराव दोनों के लिए तैयार रहने की बात कही।

अमेरिकी पॉलिसी में बदलाव के संकेत
डोनाल्ड ट्रम्प के दौर में नॉर्थ कोरिया ने कई बार अमेरिका को हमले की धमकी दी। किम और ट्रम्प की मुलाकात भी हुई, लेकिन वे नॉर्थ कोरिया के एटमी और मिसाइल प्रोग्राम को रोकने में नाकाम रहे। अब बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन इस मामले को नई स्ट्रेटेजी के तहत डील करना चाहता है।

मार्च से अप्रैल तक व्हाइट हाउस ने नॉर्थ कोरिया को लेकर पॉलिसी रिव्यू किया। इसके बाद कहा- ऐसा लगता है कि पिछली चार सरकारें नॉर्थ कोरिया के एटमी प्रोग्राम को रोक नहीं पाईं। हालांकि, उन्होंने बातचीत भी की और प्रतिबंध भी लगाए। अब प्रेसिडेंट बाइडेन एक नपीतुली और प्रैक्टिकल अप्रोच चाहते हैं जिससे डिप्लोमैसी के जरिए इस मामले को सुलझाया जा सके।

और कोशिशें भी शुरू
बाइडेन ने नॉर्थ कोरिया के लिए सीनियर डिप्लोमैट सुन्ग किम को अपॉइंट किया है। सुन्ग सबसे पहले साउथ कोरिया की लीडरशिप से मुलाकात करेंगे और इसके बाद जापान के नेताओं से मिलेंगे। मुलाकातों का यह सिलसिला अगले हफ्ते शुरू होने जा रहा है। इस मुलाकात में नॉर्थ कोरिया से बातचीत और उसके न्यूक्लियर प्रोग्राम को लेकर अहम फैसले हो सकते हैं।

नॉर्थ कोरिया की इकॉनॉमी खस्ता हाल में
इस हफ्ते की शुरुआत में किम जोंग उन का एक बयान सामने आया था। इसमें उन्होंने साफ तौर पर इशारा किया था कि नॉर्थ कोरिया की इकॉनॉमी बेहद खस्ता हालत में हैं और देश में भुखमरी के हालात पैदा होने का खतरा है। इसके साथ ही महंगाई बहुत ज्यादा है। कोविड संकट की वजह से दिक्कतें पहले के मुकाबले और ज्यादा बढ़ गई हैं।