• Hindi News
  • International
  • US President Joe Biden Saudi Arabia Visits | Likley To Meet Crown Prince Mohammed Bin Salman

बाइडेन का सऊदी दौरा:जिस प्रिंस को कातिल कहा, डेढ़ साल फोन नहीं किया; अब उन्हीं सलमान से गले मिलेंगे

वॉशिंगटन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन अगले महीने सऊदी अरब के दौरे पर पर जा रहे हैं। तारीखों का ऐलान फिलहाल नहीं हुआ है। दुनियाभर के मीडिया की इस विजिट पर नजरें हैं। वजह भी साफ है। राष्ट्रपति बनने से पहले और बाद में बाइडेन ने सऊदी अरब को कोई तवज्जो नहीं दी। सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (MBS) से डेढ़ साल तक फोन पर तक बातचीत नहीं की। कहा- गल्फ देशों को लेकर अमेरिका नई स्ट्रैटेजी बना रहा है।

बहरहाल, अब बाइडेन खुद सऊदी अरब जा रहे हैं। प्रिंस सलमान के अलावा उनके पिता से भी मिलेंगे। चीन गल्फ में जड़ें जमाने की कोशिश कर रहा है। बाइडेन उसकी काट खोजेंगे। 2019 में बाइडेन ने प्रिंस सलमान को इशारों-इशारों में कातिल तक कह दिया था।

बचाव में अमेरिका
व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा- बाइडेन अमेरिकी हितों की वजह से सऊदी अरब जा रहे हैं। हम जल्द ही तारीख का ऐलान करेंगे। वो इजराइल भी जाएंगे। हमें उम्मीद है कि इस विजिट के जरिए सऊदी और अमेरिका के रिश्ते पहले से ज्यादा मजबूत हो सकेंगे। सऊदी हमारा 80 साल से स्ट्रैटेजिक पार्टनर है।

कुछ खबरों के मुताबिक, बाइडेन का सऊदी दौरा रद्द भी हो सकता है, या फिर आगे बढ़ सकता है। हम चाहते हैं कि सऊदी अरब दुनिया के हालात देखते हुए ऑयल प्रोडक्शन बढ़ाए, ताकि कीमतों को काबू किया जा सके।

व्हाइट हाउस ने कहा है कि बाइडेन की सऊदी विजिट की तारीख का ऐलान जल्द किया जाएगा। वो सऊदी के बाद इजराइल भी जाएंगे।
व्हाइट हाउस ने कहा है कि बाइडेन की सऊदी विजिट की तारीख का ऐलान जल्द किया जाएगा। वो सऊदी के बाद इजराइल भी जाएंगे।

एक तीर से दो निशाने
बाइडेन सऊदी अरब के साथ ही इजराइल भी जाएंगे। डोनाल्ड ट्रम्प के दौर में अमेरिका ने इजराइल और खाड़ी देशों के रिश्ते सुधारने के लिए काफी कामयाब कोशिशें कीं थीं। यूएई समेत 5 खाड़ी देश इजराइल से डिप्लोमैटिक रिलेशन शुरू भी कर चुके हैं। अब सऊदी भी तेजी से इजराइल के करीब आ रहा है। माना जा रहा है कि बाइडेन की विजिट के दौरान इजराइल और सऊदी के बीच डिप्लोमैटिक रिलेशन शुरू करने पर बड़ा फैसला हो सकता है।

अगर ऐसा होता है तो यह बाइडेन की बहुत बड़ी कामयाबी होगी। सऊदी में इजराइल की मौजूदगी ईरान को रोकने में बहुत मददगार साबित हो सकती है। यह बात प्रिंस सलमान भी बखूबी समझते हैं।

बाइडेन प्रशासन का मानना है कि पत्रकार जमाल खशोग्जी के कत्ल में सऊदी प्रिंस सलमान का हाथ थे। यही वजह है कि अमेरिका ने उनसे दूरियां बना लीं थीं।
बाइडेन प्रशासन का मानना है कि पत्रकार जमाल खशोग्जी के कत्ल में सऊदी प्रिंस सलमान का हाथ थे। यही वजह है कि अमेरिका ने उनसे दूरियां बना लीं थीं।

प्रिंस सलमान को क्या मिलेगा
यह सवाल बेहद अहम है। दरअसल, बाइडेन ने राष्ट्रपति बनने के बाद प्रिंस सलमान से ही नहीं, बल्कि सऊदी अरब से भी दूरियां बनाकर रखीं। इसकी वजह यह थी कि 2018 में वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोग्जी का कत्ल तुर्की की राजधानी इस्तांबुल के सऊदी दूतावास में हुआ था।

बाइडेन की डेमोक्रेटिक पार्टी ने कई बार कहा कि यह प्रिंस सलमान का इस कत्ल में हाथ है, क्योंकि वो जमाल के सऊदी विरोधी रवैये से सख्त खफा थे। ट्रम्प ने तो इस मुद्दे को तवज्जो नहीं दी थी, लेकिन बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन ने इसे खूब उठाया। अब जबकि बाइडेन खुद सऊदी अरब जा रहे हैं तो जाहिर है सलमान और उनके बीच तल्खियां कम होंगी और इसका सीधा फायदा दोनों देशों को मिलेगा।