पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • US Rejects Chinese Claims In South China Sea Chinese Embassy Slams US' Statements On South China Sea As Completely Unjustified

साउथ चाइना सी में चीनी दादागिरी नहीं चलेगी:विदेश मंत्री पोम्पियो ने कहा- चीन के दावों का कोई आधार नहीं, दुनिया उसे वहां अपना जल साम्राज्य मानने की इजाजत नहीं देगी

वॉशिंगटन3 महीने पहले
  • चीन ने माइक पोम्पियो के बयान पर विरोध जताया, कहा- अमेरिका तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहा
  • पोम्पियो ने कहा- चीन कानूनी रूप से समुद्री संसाधनों पर अपना दावा नहीं कर सकता है

ट्रम्प प्रशासन ने सोमवार को साउथ चाइना सी पर चीन के दावों को पूरी तरह से खारिज कर दिया। साथ ही कहा कि 21वीं सदी में चीन की ‘दादागिरी’ की कोई जगह नहीं है। उसके दावों का कोई कानूनी आधार नहीं है। दुनिया चीन को साउथ चाइना सी को अपने जल साम्राज्य के रूप में मानने की इजाजत नहीं देगी।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि अमेरिका दक्षिण-पूर्वी एशियाई सहयोगियों के साथ खड़ा है। वह तटीय इलाकों में स्थित देशों के प्राकृतिक संसाधनों के अधिकारों की रक्षा के लिए उनके साथ है। चीन कानूनी रूप से समुद्री संसाधनों पर अपना दावा नहीं कर सकता है। चीन के अंतरराष्ट्रीय मान्यता वाले समुद्री इलाकों के अलावा उसके सभी दावे गैरकानूनी हैं। हालांकि, विदेश मंत्री ने कहा कि अमेरिका जमीनी विवादों में आगे निष्पक्ष बना रहेगा। 

चीन साउथ चाइना सी पर नियंत्रण की कोशिश कर रहा

उन्होंने कहा कि चीन गैरकानूनी तरीके से साउथ चाइना सी पर नियंत्रण करने की कोशिश कर रहा है। इस क्षेत्र में अमेरिका शांति और स्थिरता बनाए रखने साथ ही अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार, हम समुद्र की स्वतंत्रता को बनाए रखने के पक्षधर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि चीन साउथ चाइना सी में दक्षिण पूर्व एशियाई तटीय देशों को धमकी देता है। साथ ही इस क्षेत्र पर एकतरफा प्रभुत्व का दावा करता है। 

अमेरिका पर भड़का चीन
चीन ने अमेरिका के इस बयान पर आपत्ति जताई है। चीन के दूतावास ने कहा है कि विदेश मंत्री पोम्पियो तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं। उनका बयान न्यायोचित नहीं है। हम इसका विरोध करते हैं।

दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ रहा

हाल ही में इस क्षेत्र में दोनों देशों की सेना ने मिलिट्री एक्सरसाइज की है। इससे लग रहा है कि दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। 1 से 5 जुलाई तक चीन ने एक्सरसाइज की थी, जिसे अमेरिका ने उकसाने वाला काम बताया था। इसके बाद अमेरिका ने भी साउथ चाइना सी में इस क्षेत्र में दो एयरक्राफ्ट कैरियर भेज दिए।

क्या है साउथ चाइना सी विवाद
साउथ चाइना सी का यह इलाका इंडोनेशिया और वियतनाम के बीच है, जो करीब 35 लाख वर्ग किलोमीटर में फैला है। माना जाता है कि इस इलाके में प्राकृतिक संसाधनों की बहुलता है। हाल के कुछ सालों में चीन इस क्षेत्र में अपना दबदबा बनाने के लिए बंदरगाह बनाए। साथ ही एक आर्टिफिशियल द्वीप बनाकर सैन्य अड्डा का निर्माण किया। चीन इस इलाके को अपना बताता है और अंतरराष्ट्रीय कानून को मानने से इनकार करता है।

चीन, ताइवान समेत 6 देशों का दावा
साउथ चाइना सी एशिया के दक्षिण-पूर्व का इलाका है। इस क्षेत्र में चीन के अलावा फिलीपींस, ताइवान, मलेशिया, वियतनाम और ब्रूनेई भी अपना दावा करते हैं। चीन इसके दक्षिण हिस्से में है, वहीं ताइवान दक्षिण-पूर्वी भाग पर अपना दावा करता है। इसके पश्चिमी तट पर फिलीपींस है, जबकि पूर्वी तट वियतनाम और कंबोडिया से सटा है। वहीं, उत्तरी हिस्से में इंडोनेशिया है।

साउथ चाइना सी इतना जरूरी क्यों?
कई देशों से जुड़े होने के चलते इस इलाके में जहाजों की आवाजाही भी ज्यादा है। यह दुनिया के सबसे बिजी जलमार्गों में से एक है। जानकारी के मुताबिक, हर साल इस मार्ग से पांच ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा का बिजनेस होता है, जो दुनिया के कुल समुद्री व्यापार का 20% है। यहां पारसेल द्वीप पर कच्चे तेल और प्राकृतिक गैसों का भंडार है। साथ ही इस क्षेत्र में कई प्रकार की मछलियां पाई जाती हैं। बिजनेस के लिहाज से यह इलाका बेहद अहम है।

ये भी पढ़ें

अमेरिका ने मिलिट्री एक्सरसाइज के लिए दो एयरक्राफ्ट कैरियर उतारे, इसी इलाके में चीन पहले से कर रहा एक्सरसाइज

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कड़ी मेहनत और परीक्षा का समय है। परंतु आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहेंगे। बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद आपके जीवन की सबसे बड़ी पूंजी रहेगी। परिवार की सुख-सुविधाओं के प्रति भी आपक...

और पढ़ें