वीजा मामले में भारत से भेदभाव कर रहा US:दिल्ली में अपॉइंटमेंट के बाद भी 833 दिन वेटिंग, चीन में ये मियाद सिर्फ 2 दिन

वॉशिंगटन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीयों को US वीजा अपॉइंटमेंट मिलना बेहद मुश्किल हो गया है। दिल्ली में विजिटर वीजा का वेटिंग टाइम 833 दिन और मुंबई में 848 दिन हो चुका है। हैरानी की बात यह है कि चीन में सिर्फ 2 दिन की वेटिंग है। भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के सामने यह मुद्दा उठाया है।

जयशंकर मंगलवार को वॉशिंगटन में एंटनी ब्लिंकन से मुलाकात की थी।
जयशंकर मंगलवार को वॉशिंगटन में एंटनी ब्लिंकन से मुलाकात की थी।

कुछ महीनों में बेहतर होंगे हालात

जयशंकर 10 दिन के अमेरिकी दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान वीजा पर बात हुई। ब्लिंकन ने माना कि वीजा का मामला गंभीर है। दुनिया में इस तरह के मामले बढ़ रहे हैं। देरी की मुख्य वजह कोविड 19 है। कुछ महीनों में हालात बेहतर हो जाएंगे।

चीन में दो दिन में अपॉइंटमेंट

अमेरिका चीन के लोगों को सिर्फ दो दिन में अपॉइंटमेंट दे रहा है। पाकिस्तान के इस्लामाबाद में भी वेटिंग टाइम भारत से आधा है। वहां 450 दिन में अपॉइंटमेंट मिल रहा है। US स्टेट डिपार्टमेंट की वेबसाइट से यह आंकड़ा सामने आया है। विजिटर वीजा लेने में भारतीयों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

चीन के लोगों को बीजिंग में US विजिटर और स्टूडेंट वीजा अपॉइंटमेंट के लिए सिर्फ दो दिन का इंतजार करना होता है।
चीन के लोगों को बीजिंग में US विजिटर और स्टूडेंट वीजा अपॉइंटमेंट के लिए सिर्फ दो दिन का इंतजार करना होता है।

स्टूडेंट वीजा में 450 दिन का इंतजार

भारतीयों को US स्टूडेंट वीजा के लिए भी इंतजार करना होगा। स्टूडेंट वीजा के लिए मुंबई और दिल्ली में वेटिंग टाइम 430 दिन है। हैरानी की बात यह है की इस्लामाबाद में स्टूडेंट वीजा का अपॉइंटमेंट 1 दिन और बीजिंग में 2 दिन में मिल रहा है।

अमेरिका विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर भारतीयों के लिए विजिटर वीजा का वेटिंग टाइम 833 दिन है।
अमेरिका विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर भारतीयों के लिए विजिटर वीजा का वेटिंग टाइम 833 दिन है।

इस साल 82,000 से ज्यादा स्टूडेंट वीजा जारी

अमेरिका ने इस साल 82 हजार से ज्यादा स्टूडेंट वीजा दिए। ये किसी भी साल की तुलना में सबसे ज्यादा है। खास बात यह है कि भारतीयों को सबसे ज्यादा स्टूडेंट वीजा मिले हैं। अमेरिका के इंटरनेशनल स्टूडेंट्स में करीब 20% भारतीय हैं।