साउथ कोरिया में हैलोवीन फेस्टिवल में भगदड़:149 की मौत, 150 जख्मी; दर्जनों लोगों को कर्डियक अरेस्ट आया

3 महीने पहले
कार्डियक अरेस्ट के शिकार हुए करीब 50 लोगों को CPR दी गई। वहीं कई अन्य को आसपास के अस्पतालों में ले जाया गया है।

साउथ कोरिया की राजधानी सियोल में शनिवार देर रात हैलोवीन उत्सव के दौरान भगदड़ मचने से 149 लोगों की मौत हो गई। 150 लोग जख्मी हुए हैं। इनमें से कई को कार्डियक अरेस्ट हुआ है। मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। नेशनल फायर एजेंसी के एक अधिकारी चोई चेओन-सिक ने कहा कि इटावन लेसर जिले में एक संकरी गली में भीड़ बढ़ने से यह घटना हुई।

हादसे में 146 लोगों की मौत की आधिकारिक पुष्टि हुई है। 150 घायल हुए हैं। मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है।
हादसे में 146 लोगों की मौत की आधिकारिक पुष्टि हुई है। 150 घायल हुए हैं। मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक पार्टी में भगदड़ मचने से कार्डियक अरेस्ट से पीड़ित करीब 50 लोगों को सीपीआर दिया गया। इमरजेंसी डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने बताया कि 81 फोन ऐसे लोगों के आए जिन्हें सांस लेने में दिक्कत थी। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यून सुक येओल ने बयान जारी कर अधिकारियों से घायलों को बेहतर इलाज देने का निर्देश दिया है। साथ ही उत्सव स्थलों की सुरक्षा की समीक्षा करने को कहा है।

देखिए इस घटना के बाद की तस्वीरें...

साउथ कोरिया में हैलोवीन उत्सव के दौरान एक संकरी सड़क पर भीड़ बढ़ जाने से कई लोग कुचल गए।
साउथ कोरिया में हैलोवीन उत्सव के दौरान एक संकरी सड़क पर भीड़ बढ़ जाने से कई लोग कुचल गए।
भगदड़ मचने की सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस और रेस्क्यू टीम पहुंची।
भगदड़ मचने की सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस और रेस्क्यू टीम पहुंची।
रेस्क्यू टीम ने स्ट्रेचर में शवों को रखकर संकरी गली से बाहर निकाला।
रेस्क्यू टीम ने स्ट्रेचर में शवों को रखकर संकरी गली से बाहर निकाला।
मौके पर मेडिकल टीम भी पहुंची, जिसने घायल हुए लोगों का वहीं पर प्राथमिक उपचार किया।
मौके पर मेडिकल टीम भी पहुंची, जिसने घायल हुए लोगों का वहीं पर प्राथमिक उपचार किया।
हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर भीड़ इकट्ठा हो गई, जिसे पुलिस ने काबू किया।
हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर भीड़ इकट्ठा हो गई, जिसे पुलिस ने काबू किया।

जानिए क्या है हैलोविन फेस्टिवल
पश्चिमी देशों में हैलोविन फेस्टिवल मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि ये फेस्टिवल पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए मनाया जाता है। इस दिन लोग डरवाना मेकअप करते हैं और डरवाने आउटफिट्स पहनते हैं।

हैलोवीन की उत्पत्ति प्राचीन सेल्टिक त्योहार समहिन से हुई है। यह दिन सेल्टिक कैलेंडर का आखिरी दिन होता है। इसलिए सेल्टिक लोगों के बीच यह नए वर्ष की शुरुआत के रूप में मनाया जाता है। ईसाई समुदाय के लोग इस त्योहार को धूमधाम से मनाते हैं। हैलोवीन अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोपियन देशों में मनाया जाता है, लेकिन इस त्योहार की शुरुआत आयरलैंड और स्कॉटलैंड से हुई थी।

भगदड़ के दौरान हुई मौतों से जुड़ी ये भी खबरें पढ़िए ...
बांके बिहारी मंदिर में दम घुटने से 2 की मौत:रात 2 बजे मंगला आरती में पहुंचे थे 50 हजार लोग, क्षमता 800 की थी, 50 बेहोश होकर गिर पड़े

जन्माष्टमी पर बांके बिहारी मंदिर में 20 अगस्त को मंगला आरती के दौरान दम घुटने से दो श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी। 6 श्रद्धालुओं की तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायलों को फिलहाल वृंदावन के 3 अस्पतालों में भर्ती कराया गया। मरने वालों में एक महिला और एक पुरुष शामिल थे। भीड़ इतनी ज्यादा थी कि 50 से ज्यादा लोग बेहोश होकर गिर पड़े।

मंदिर के सेवादारों के मुताबिक, अधिकारियों के परिजन छत पर बनी बालकनी से दर्शन कर रहे थे। अधिकारियों ने अपने परिवार की सुरक्षा के लिए ऊपरी मंजिल के गेट बंद करा दिए। भीड़ का दबाव बढ़ने लगा जिससे हादसा हुआ। पूरी खबर पढ़ें...

खाटूश्याम में भगदड़, 3 महिलाओं की मौत:मरने वालों में एक महिला जयपुर की; भीड़ कंट्रोल करने तैनात नहीं थी पुलिस, SHO सस्पेंड

राजस्थान के सीकर में 8 अगस्त को खाटूश्याम मंदिर में भगदड़ मच गई। हादसे में 3 महिलाओं की मौत हो गई, इनमें एक जयपुर की थीं। 4 लोग घायल हुए थे। इस घटना में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई थी।

सूत्रों के मुताबिक, एकादशी पर भारी भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस अमला तैनात नहीं किया गया था। इस लापरवाही पर SP कुंवर राष्ट्रदीप ने खाटू SHO रिया चौधरी को सस्पेंड कर दिया गया था।

हादसा सुबह 5 बजे तब हुआ, जब एकादशी के मौके पर दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ काफी बढ़ गई। उस वक्त गेट से बाहर करीब एक लाख लाेग मौजूद थे। देर रात से ही श्रद्धालु लाइन में लगे थे। जैसे ही सुबह मंदिर के पट खुले, भीड़ बेकाबू हो गई और भगदड़ मच गई। पूरी खबर पढ़ें...