• Hindi News
  • International
  • Wood Revolution In Japan From Buildings To Satellites Are Being Made Of Wood, Here The Forest Is Being Promoted Twice As Much As The Global Average

वुड रिवाल्यूशन:जापान में जंगलों का औसत दुनिया से दोगुना, अब यहां इमारतों से सैटेलाइट तक लकड़ी से बनाए जा रहे

5 महीने पहलेलेखक: टोक्यो से भास्कर के लिए जूलियन रयाल
  • कॉपी लिंक
जापान में 70% फॉरेस्ट कवर है, यहां लकड़ी का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए कानून भी बनाया गया है। - Dainik Bhaskar
जापान में 70% फॉरेस्ट कवर है, यहां लकड़ी का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए कानून भी बनाया गया है।

इनोवेशन में अग्रणी रहने वाला जापान अब पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बड़ा कदम उठाने जा रहा है। जापान के वैज्ञानिकों ने हाल ही में घोषणा की है कि अगले साल वह लकड़ी से बना उपग्रह लॉन्च करने जा रहा है। दुनिया में इस तरह का यह पहला प्रयोग है। दरअसल जापान के पास खासी मात्रा में लकड़ी है, इसलिए इनोवेशन के लिए अब ऊंची इमारतों, स्कायस्क्रैपर और कारों और तक में ही लकड़ी का का इस्तेमाल करने जा रहा है।

लकड़ी का यह सैटेलाइट पूरी तरह पर्यावरण के अनुकूल होगा। इसे बनाने पर खर्च भी कम आएगा। ऑपरेशन खत्म होने पर सैटेलाइट वापस पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करेगा तो लकड़ी से बना होने के कारण पूरा जल जाएगा। इससे अंतरिक्ष मलबे में भी कमी आएगी। इससे पहले सुमोमितो टोक्यो में लकड़ी से गगनचुंबी इमारत बनाने का प्रोजेक्ट पेश कर चुकी है। उद्देश्य अक्षय लकड़ी से बनी ऊंची इमारतों का पर्यावरण अनुकूल शहर बनाना है।

लकड़ी और स्टील से तैयार कर रहे गगनचुंबी इमारतें
यानी कंक्रीट का नहीं वास्तविक जंगल होगा। सुमिमोतो की सुकुबा लैब ने 70 मंजिला स्कायस्क्रैपर की डिजाइन तैयार की है। स्टील के संयोजन से बनी इस इमारत में 90% निर्माण सामग्री लकड़ी की होगी। इस पर करीब 44 हजार करोड़ रुपए लागत आएगी। जापान में भूकंप और तूफान अक्सर आते हैं, इसलिए ये स्ट्रक्चर ट्युबुलर होगा। आर्किटेक्चर निक्केन सेक्केई इस पर काम कर रहे हैं। टोक्यो ओलिंपिक के लिए तैयार किए गए न्यू नेशनल स्टेडियम को बनाने में दो हजार घन मीटर लकड़ी का इस्तेमाल हुआ था।

देश में 2.5 करोड़ हेक्टेयर में फैले हैं जंगल
टोक्यो यूनिवर्सिटी में पर्यावरण विशेषज्ञ प्रोफेसर ने केविन शॉर्ट बताते हैं कि देश में 2.5 करोड़ हेक्टेयर में जंगल फैले हैं। यह देश की 70% जमीन को कवर करते हैं। यह दुनिया के औसत फॉरेस्ट कवर (29%) के दोगुने से भी ज्यादा है।

इसलिए जापान सरकार डेवलपर्स को लकड़ी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। सरकार ने लकड़ी के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए कानून भी बनाया। इसके तहत तीन मंजिला और इससे ऊंची सभी इमारतों में लकड़ी के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल को अनिवार्य किया गया है।

ऑटो इंडस्ट्री भी लकड़ी के साथ नए प्रयोग में जुटी, कार का टेस्ट रन सफल
वुडन सैटेलाइट के अलावा कई महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट में भी लकड़ी इस्तेमाल हो रही है। देश की ऑटो इंडस्ट्री भी लकड़ी के साथ नए इनोवेशन में जुटी है। टोयोटा मोटोकॉर्प ने बीते दिसंबर में लकड़ी से बनी कोरोला कार का टेस्ट रन किया। अब इस कार में सुधार किए जा रहे हैं ताकि इसके कॉमर्शियल उत्पादन की दिशा में काम हो सके।

खबरें और भी हैं...