मोरक्को / दुनिया का सबसे घना सोलर पार्क: 580 मेगावॉट बिजली पैदा होगी, 7.6 लाख टन कार्बन उत्सर्जन कम करेगा



world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco
X
world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco
world's largest concentrated solar farm in Morocco

  • मोरक्को की कुल ऊर्जा का 97% हिस्सा जीवाश्म ईंधन से आता है, इस पर निर्भरता कम करने की पहल
  • सोलर पार्क नूर औरजाजेट में नमक पिघलाकर बिजली तैयार की जाएगी

Dainik Bhaskar

Aug 02, 2019, 11:46 AM IST

रबात. मोरक्को में दुनिया का सबसे बड़ा सघन सोलर पार्क बनाया गया है। 3000 हेक्टेयर में बने इस सोलर पार्क में 580 मेगावॉट बिजली पैदा होगी। साथ ही यह धरती से 7 लाख 60 हजार टन कार्बन उत्सर्जन कम करेगा। सोलर पार्क को नूर औरजाजेट नाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि सोलर पार्क से चेक गणराज्य की राजधानी प्राग की जरूरत की बिजली बनाए जा सकेगी।

मोरक्को का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट

  1. मोरक्को दुनिया के रिन्यूएबल एनर्जी (नवीकरणीय ऊर्जा) के अतिमहत्वाकांक्षी देशों में से एक है। 2020 तक मोरक्को देश की कुल ऊर्जा का 42% रिन्यूएबल स्रोतों से हासिल करना चाहता है।

  2. सोलर पार्क के बीच में एक 243 मीटर ऊंचा टॉवर बनाया गया है। यह अफ्रीका का सबसे ऊंचा टॉवर है। यहां पिघले नमक से ऊर्जा तैयार की जाएगी।

  3. सामान्य रूप से सोलर पार्क ऊर्जा को सीधे ग्रिड में भेजा जाता है। इसके उलट मोरक्को के नूर पार्क में लगे हजारों मिरर के जरिए संचित रेडिएशन को फ्लुड (तरल) युक्त हीट ट्यूब में भेजा जाएगा, जिससे पावर यूनिट संचालित होगी। यहां तैयार बिजली को बाद में इस्तेमाल किया जाएगा। खासकर रात में जब बिजली की ज्यादा जरूरत होती है।

  4. दिनभर में मिरर के रेडिएशन से एक सिलेंडर नमक पिघलाया जाएगा। इससे रात में 3 घंटे की बिजली दी जा सकेगी। विश्व बैंक ने प्रोजेक्ट के लिए 400 मिलियन डॉलर (करीब 2756 करोड़ रुपए) का लोन दिया है।

  5. वर्ल्ड बैंक के मुताबिक- मोरक्को की कुल ऊर्जा का 97% हिस्सा तेल (जीवाश्म ईंधन) से आता है। इस पर निर्भरता कम करने के लिए देश ने रिन्यूएबल एनर्जी की तरफ कदम बढ़ाया है।

  6. मोरक्कन एजेंसी फॉर सस्टेनेबल एनर्जी के सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर यासिर बदीह के मुताबिक- 2010 तक देश में बिजली की मांग दोगुनी हो गई। हम चाहते हैं कि 2030 तक मोरक्को दुनिया पहला ऐसा देश बने जो ईंधन की आपूर्ति को जीवाश्म ऊर्जा (पेट्रोल-डीजल) की बजाय रिन्यूएबल एनर्जी से पूरा कर सके।

     

    DBApp

     

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना