PHOTOS में जंग की खतरनाक सच्चाई:यूक्रेन में अब तक 16 बच्चे मारे गए, 45 मौत से जूझ रहे; एक बच्ची की बॉडी लेने कोई नहीं आया

कीव9 महीने पहले

रूस और यूक्रेन के बीच आज जंग का पांचवां दिन है। रूसी सेना यूक्रेन में चारों तरफ से आगे बढ़ रही है। कई शहरों पर कब्जा जमाने के दावे किए जा रहे हैं। इस बीच यूक्रेनी सेना की मदद के लिए लोग भी सामने आ गए हैं। पहले वे घरों से रूसी सैनिकों पर हमले कर रहे थे। अब सड़कों पर जंग लड़ रहे हैं। अपने सैनिकों के लिए जरूरी सामान और पेट्रोल बम तक बना रहे हैं।

यूक्रेन में रूस के हवाई हमलों में अब तक 16 बच्चों की मौत हो चुकी है। 45 गंभीर रूप से घायल हैं।

सबसे पहले पांचवें दिन रूसी सेना के हमलों के बाद के हालात:

बच्ची जब मौत से जूझ रही हो तो किसी मां के लिए उससे बड़ी बेबसी क्या हो सकती है। मारियुपोल के अस्पताल के बाहर ऐसी ही लाचारी इस महिला के चेहरे पर देखी जा सकती है। रूस के हवाई हमलों में उसकी बेटी बुरी तरह घायल हो गई। मेडिकल टीम ने उसे सीपीआर देकर बचाने की कोशिश की। हालांकि यह पता नहीं चल पाया कि वह अब कैसी है।
बच्ची जब मौत से जूझ रही हो तो किसी मां के लिए उससे बड़ी बेबसी क्या हो सकती है। मारियुपोल के अस्पताल के बाहर ऐसी ही लाचारी इस महिला के चेहरे पर देखी जा सकती है। रूस के हवाई हमलों में उसकी बेटी बुरी तरह घायल हो गई। मेडिकल टीम ने उसे सीपीआर देकर बचाने की कोशिश की। हालांकि यह पता नहीं चल पाया कि वह अब कैसी है।
ये घायल बच्ची रूस के हवाई हमलों में उस वक्त घायल हो गई, जब वह कार में सफर कर रही थी। अभी वह वेंटिलेटर पर है और इसका इलाज चल रहा है।
ये घायल बच्ची रूस के हवाई हमलों में उस वक्त घायल हो गई, जब वह कार में सफर कर रही थी। अभी वह वेंटिलेटर पर है और इसका इलाज चल रहा है।
रूस के हवाई हमलों में इस बच्ची की मौत हो गई। हालात इतने खराब हैं कि उसकी बॉडी को अब तक कोई लेने तक नहीं आया है।
रूस के हवाई हमलों में इस बच्ची की मौत हो गई। हालात इतने खराब हैं कि उसकी बॉडी को अब तक कोई लेने तक नहीं आया है।
कीव के खेरसन और कोलोमिया इलाके में अंडरग्राउंड शेल्टर में तीन दिन में 6 बच्चों का जन्म हुआ।
कीव के खेरसन और कोलोमिया इलाके में अंडरग्राउंड शेल्टर में तीन दिन में 6 बच्चों का जन्म हुआ।
यह विजुअल चेर्नीहीव इलाके का है। यहां सोमवार सुबह रूसी सेना ने एक रिहायशी बिल्डिंग को निशाना बनाया। रॉकेट गिरने के बाद आग की लपटें देखी गईं।
यह विजुअल चेर्नीहीव इलाके का है। यहां सोमवार सुबह रूसी सेना ने एक रिहायशी बिल्डिंग को निशाना बनाया। रॉकेट गिरने के बाद आग की लपटें देखी गईं।
यह तस्वीर खार्किव इलाके के एक स्कूल की है। रॉकेट हमले के बाद इसमें आग लग गई। इसे यूक्रेनी मीडिया ने सोशल मीडिया पर शेयर किया।
यह तस्वीर खार्किव इलाके के एक स्कूल की है। रॉकेट हमले के बाद इसमें आग लग गई। इसे यूक्रेनी मीडिया ने सोशल मीडिया पर शेयर किया।
यह फोटो दुनिया के सबसे बड़े एयरक्राफ्ट Antonov Mriya की है। रविवार को यह रूसी हमले में जल गया।
यह फोटो दुनिया के सबसे बड़े एयरक्राफ्ट Antonov Mriya की है। रविवार को यह रूसी हमले में जल गया।
यह फोटो उस बर्बाद हो गए एयरबेस की है, जहां एयरक्राफ्ट Antonov Mriya खड़ा था। यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा, रूस हमारे म्रिया को बर्बाद कर सकता है, लेकिन वह हमारे सपने को चूर नहीं कर पाएगा। हम एक मजबूत, आजाद और लोकतांत्रिक यूरोपियन देश बनाएंगे।
यह फोटो उस बर्बाद हो गए एयरबेस की है, जहां एयरक्राफ्ट Antonov Mriya खड़ा था। यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा, रूस हमारे म्रिया को बर्बाद कर सकता है, लेकिन वह हमारे सपने को चूर नहीं कर पाएगा। हम एक मजबूत, आजाद और लोकतांत्रिक यूरोपियन देश बनाएंगे।

आम लोग सड़कों पर उतरे, जान की परवाह नहीं कर रहे

ब्रेडयांस्क में एक आम आदमी बारूदी सुरंग को सड़क से हटाते देखा गया। उसने इसे हटाने के लिए बम डिस्पोजल यूनिट का इंतजार नहीं किया। यह सब उसने यूक्रेनी सेना का रास्ता खोलने के लिए किया। लोग अब उसकी बहादुरी की तारीफ कर रहे हैं।
ब्रेडयांस्क में एक आम आदमी बारूदी सुरंग को सड़क से हटाते देखा गया। उसने इसे हटाने के लिए बम डिस्पोजल यूनिट का इंतजार नहीं किया। यह सब उसने यूक्रेनी सेना का रास्ता खोलने के लिए किया। लोग अब उसकी बहादुरी की तारीफ कर रहे हैं।
यूक्रेन के कई शहरों में आम लोगों को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है। कुछ दिन पहले राष्ट्रपति जेलेंस्की ने देश के हर नागरिक को रूस के खिलाफ हथियार उठाने को कहा था।
यूक्रेन के कई शहरों में आम लोगों को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है। कुछ दिन पहले राष्ट्रपति जेलेंस्की ने देश के हर नागरिक को रूस के खिलाफ हथियार उठाने को कहा था।

यूक्रेनी सेना के लिए पेट्रोल बम, जरूरी चीजें बना रहे लोग

कीव, लीव समेत कई शहरों में लोग रूसी सेना को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पेट्रोल बम बना रहे हैं। इसके लिए वह खुद चीजें जुटाते देखे गए।
कीव, लीव समेत कई शहरों में लोग रूसी सेना को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पेट्रोल बम बना रहे हैं। इसके लिए वह खुद चीजें जुटाते देखे गए।
पेट्रोल बम बन जाने के बाद लोग इसे दूसरे इलाकों में पहुंचा भी रहे हैं। इसके लिए लोग कार, ट्रक और बाइक का इस्तेमाल कर रहे हैं।
पेट्रोल बम बन जाने के बाद लोग इसे दूसरे इलाकों में पहुंचा भी रहे हैं। इसके लिए लोग कार, ट्रक और बाइक का इस्तेमाल कर रहे हैं।
यूक्रेन में स्थानीय लोग अपनी सेना के लिए हथियार बना रहे हैं। उन्होंने इसके लिए छोटी-छोटी यूनिटें भी बना ली हैं।
यूक्रेन में स्थानीय लोग अपनी सेना के लिए हथियार बना रहे हैं। उन्होंने इसके लिए छोटी-छोटी यूनिटें भी बना ली हैं।
कम्युनिटी हॉल में लोग सैनिकों के लिए कवर भी बनाते देखे गए। यह विजुअल कीव का है।
कम्युनिटी हॉल में लोग सैनिकों के लिए कवर भी बनाते देखे गए। यह विजुअल कीव का है।

यूक्रेन के शहरों से पलायन का दौर जारी

यूक्रेन से लोगों के निकलने का सिलसिला जारी है। इसके लिए रेलवे स्टेशनों पर लंबी कतारें देखी जा रही हैं।
यूक्रेन से लोगों के निकलने का सिलसिला जारी है। इसके लिए रेलवे स्टेशनों पर लंबी कतारें देखी जा रही हैं।
लीव के रेलवे स्टेशन पर मां अपनी बेटी को गले लगाकर कड़ाके की ठंड से बचाते हुए। यहां तापमान माइनस में है। ज्यादातर लोग ट्रेन से पोलैंड जा रहे हैं।
लीव के रेलवे स्टेशन पर मां अपनी बेटी को गले लगाकर कड़ाके की ठंड से बचाते हुए। यहां तापमान माइनस में है। ज्यादातर लोग ट्रेन से पोलैंड जा रहे हैं।

दुनियाभर में रूस का विरोध तेज

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में हजारों लोगों ने मार्च कर यूक्रेन पर रूस के हमले के खिलाफ विरोध दर्ज कराया।
जर्मनी की राजधानी बर्लिन में हजारों लोगों ने मार्च कर यूक्रेन पर रूस के हमले के खिलाफ विरोध दर्ज कराया।
खबरें और भी हैं...